Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > पुजारी बन भाईयों के साथ मंदिर माफी औकाफ की जमीन पर किया कब्जा, चला रहे थे दूध डेयरी

पुजारी बन भाईयों के साथ मंदिर माफी औकाफ की जमीन पर किया कब्जा, चला रहे थे दूध डेयरी

पुजारी बन भाईयों के साथ मंदिर माफी औकाफ की जमीन पर किया कब्जा, चला रहे थे दूध डेयरी

ग्वालियर। एसडीएम जयति सिंह व सीबी प्रसाद दल बल के साथ थाटीपुर क्षेत्र के शालीमार गार्डन के बगल से ग्राम गोसपुरा में मंदिर रामजानकी रमटापुरा माफी औकाफ की 1.557 हैक्टेयर जमीन को मुक्त कराने पहुंचे। उक्त भूमि पर कथित पुजारी कमल सिंह यादव पिछले करीब 40 वर्षों से कब्जा किए हुए थे। साथ ही भूमि पर अपने ही अन्य तीन भाई आदेश सिंह यादव, इंदर सिंह यादव और सोबरन सिंह यादव को भी निवास के लिए दे दी थी, जो भूमि पर कच्चे व पक्के मकान बनाने के साथ ही डेयरी का भी संचालन कर रहे थे। इतना ही नहीं कमल सिंह यादव द्वारा मुख्य सडक़ पर स्टील कारखाना मालिक योगेन्द्र सिंह राठौर से लिखित अनुबंध कर 11,000 रुपए मासिक, राकेश गहलोत संचालक कचरा कारखाना से मौखिक अनुबंध कर 2,000 रुपए एवं कमल सिंह संचालक गैराज दुकान से मौखिक रूप से 3,000 रुपए में अनुबंध कर किराया भी लिया जा रहा था। जबकि अन्य भूमि पर चारों भाईयों द्वारा खेती भी की जा रही थी। इस पर अधिकारियों ने कार्रवाई करते हुए सभी कच्चे-पक्के मकानों को तोडक़र भूमि पर शासकीय सम्पत्ति होने की सूचना लगावाई एवं पुजारी श्री यादव पर फर्जी तरीके से कब्जा कर भूमि पर अतिक्रमण करने के संबंध में थाने में प्राथमिकी भी दर्ज कराई गई। भूमि की कीमत 80 करोड़ है।

अनुमति से ज्यादा बनाई दीवार

इधर रमौआ डेम के पास फ्लॉवर सिटी नामक कॉलोनी में नगर निगम के स्वीकृति के विरूद्ध नदी के बहाव को तरूण गोयल पुत्र अशोक गोयल द्वारा रोकने पर उसे हटाया गया। श्री गोयल के पास नगर निगम से नदी की ओर सिर्फ दो मीटर आगे तक दीवार उठाने की अनुमति थी, लेकिन श्री गोयल ने नदी की ओर करीब 5 से 6 मीटर तक दीवार बढ़ा कर कच्ची सडक़ का निर्माण कर लिया था। इस पर अनुमति से ज्यादा दीवार बनाने पर प्रशासनिक अधिकरियों ने दीवार को तुड़वाया। दीवार टूटने के बाद करीब डेढ़ बीघा भूमि मुक्त हुई।

पुरानी छावनी पर सडक़ से हटाया अतिक्रमण

अभियान के दौरान पुरानी छावनी स्थित भूमि सर्वे क्र.- 703, 704, शासकीय सडक़ पर अतिक्रमण कर अतिक्रामक बुद्धिपाल सिंह जादौन पुत्र महाराज सिंह जादौन गायत्री विहार कॉलोनी द्वारा बाउण्ड्रीवॉल एवं एक कमरा बनाकर अतिक्रमण किया गया था। जिसे एसडीएम प्रदीप तोमर एवं राजस्व टीम के द्वारा मौके से बाउण्ड्रीवॉल एवं अन्य निर्माण हटाकर शासकीय भूमि मुक्त कराई।

अब तक 285 करोड़ की भूमि कराई मुक्त

जिला प्रशासन द्वारा भू-माफियाओं के विरूद्ध चलाए गए अभियान के दौरान अभी तक 285 करोड़ की 55 बीघा शासकीय भूमि भू-माफियाओं से मुक्त कराई गई है। जिसमें झांसी रोड़ अनुभाग के तहत 165 करोड़ कीमत की 40 बीघा जमीन। जबकि लश्कर अनुभाग के तहत 120 करोड़ की 15 बीघा शासकीय भूमि शामिल है।


Updated : 2019-12-22T06:15:43+05:30
Tags:    

Swadesh News ( 0 )

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top