Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > नोटबंदी से आयकर के खजाने में जमा हुए 400 करोड़

नोटबंदी से आयकर के खजाने में जमा हुए 400 करोड़

75 हजार जुड़े नए करदाता

नोटबंदी से आयकर के खजाने में जमा हुए 400 करोड़
X

ग्वालियर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा 8 नवम्बर 2016 को की गई नोटबंदी की घोषणा के बाद से व्यापारिक व अन्य क्षेत्रों में पारदर्शिता का स्तर बढऩे लगा है। व्यापारी अब साफ-सुथरा व्यापार करने के साथ समय पर रिटर्न भी फाइल कर रहे हैं। नोटबंदी के बाद से कालाधन इकट्ठा करने पर भी काफी हद तक अंकुश लगा है। इसी कड़ी में नोटबंदी की घोषणा के बाद ग्वालियर अंचल से आयकर के खजाने में लगभग 400 करोड़ रुपए से अधिक का राजस्व भी जमा हो गया है, जो आगे 600 करोड़ से अधिक का स्तर पार कर सकता है। वहीं नए आयकरदाताओं की संख्या भी 75 हजार का आंकड़ा पार कर चुकी है। नोटबंदी के बाद से हर व्यापारी ने रिटर्न फायल भी करना शुरू कर दिया है, जिनकी संख्या 2.5 लाख से ऊपर पहुंच गई है। नोटबंदी के बाद से देश की आर्थिक स्थिति भी मजबूत होना शुरू हो गई है। नोटबंदी के दौरान जिन व्यापारियों ने अपने खातों में लाखों रुपए जमा किए हैं, उनके रुपयों की जांच अप्रैल 2019 से होना शुरू हो जाएगी।

नोटबंदी के बाद अगर बात मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ की करें तो तीन लाख से अधिक नए करदाता जुड़ गए हैं। शीघ्र ही यह आंकड़ा छह लाख से अधिक के स्तर को पार करने वाला है। अगर पूरे देश की बात करें तो दस लाख करोड़ से अधिक करदाता कर जमा करने की श्रेणी में शामिल हो गए हैं। नोटबंदी के बाद लोगों में कर जमा करने और रिटर्न फाइल करने की प्रवृत्ति काफी हद तक बढ़ गई है। व्यापारी बिना किसी झंझट में पड़ते हुए साफ-सुथरा व्यापार करना अधिक पसंद कर रहे हैं।

इनका कहना है

'नोटबंदी के बाद से व्यापार में पारदर्शिता का स्तर बढ़ा है। राजस्व में वृद्धि होने के साथ नए करदाताओं की संख्या भी बढ़ रही है। अक्टूबर तक यह संख्या काफी हद तक बढ़ जाएगी।Ó आशीष पारिख, सी.ए.

ऑपरेशन क्लीन मनी में बढ़ रहे हैं मामले

प्राप्त जानकारी के अनुसार आयकर विभाग द्वारा ऑपरेशन क्लीन मनी योजना शुरू की गई है। इस योजना के अंतर्गत करदाताओं के पैसे का सत्यापन हो रहा है। इस योजना में अधिक से अधिक लोग अपनी रुचि दिखा रहे हैं।

अप्रैल 2019 से होगी कालेधन की जांच

नोटबंदी के दौरान कई ब्यूरोक्रेट्स और व्यापारियों ने अपने कालेधन को बैंकों में जमा किया था। बैंकों में जमा होने वाले ऐसे धन की जांच अप्रैल 2019 होना संभावित है। इस संबंध में आयकर विभाग ने लोगों को नोटिस जारी करना भी शुरू कर दिया गया है।

Updated : 2018-08-29T18:50:06+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top