Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > अभिनेत्री स्वरा भास्कर के बिगड़े बोल, अभिभाषक दल ने आपराधिक प्रकरण दर्ज करने दिया ज्ञापन

अभिनेत्री स्वरा भास्कर के बिगड़े बोल, अभिभाषक दल ने आपराधिक प्रकरण दर्ज करने दिया ज्ञापन

अभिनेत्री स्वरा भास्कर के बिगड़े बोल, अभिभाषक दल ने आपराधिक प्रकरण दर्ज करने दिया ज्ञापन

ग्वालियर। अपने बयानों की वजह से हमेशा विवादों में रहने वाली अभिनेत्री स्वरा भास्कर एक बार फिर अपने विवादित बयान को लेकर चर्चा में हैं। स्वरा ने शुक्रवार को ग्वालियर दौरे के दौरान जीवाजी विश्विद्यालय में अपने भाषण में कई आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग किया था । जिस पर अभिभाषक दल ने शनिवार को पुलिस अधीक्षक को ज्ञापन सौपकर अभिनेत्री द्वारा दिए गए साम्प्रदायिक एवं भड़काऊ भाषण लिए स्वरा एवं कार्यक्रम के आयोजक सुरेश तोमर के खिलाफ आपराधिक प्रकरण दर्ज करने की मांग की हैं।

दरअसल, स्वरा भास्कर शुक्रवार को जीवाजी विश्विद्यालय में महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा आयोजित कार्यक्रम बिटिया महोत्सव में बतौर अतिथि आई थी। इस कार्यक्रम में अभिनेत्री ने हाल ही में दिल्ली में हुई हिंसा पर भड़काऊ भाषण देते हुए दिल्ली पुलिस पर आरोप लगाया की पुलिस ने दंगों के दौरान मुस्लिमों पर बर्बरतापूर्वक तरीके से लाठी चार्ज किया था और जो हिन्दू थे , उन्हें छोड़ दिया था।




अभिभाषक दल ने अपने ज्ञापन में आरोप लगाया हैं की स्वरा भास्कर अधिकांश मौकों पर जानबूझकर ऐसे विवादित बयान देती है, जिससे की सांप्रदायिक सौहाद्र बिगड़ जाए। स्वरा ने पुलिस पर पक्षतापूर्ण रवैया अपनाने एवं भेदभाव करने का आरोप लगाया हैं। वह अपने बयानों से जनता के मन में पुलिस प्रशासन के प्रति अविश्वास पैदा करना चाहती हैं। ज्ञापन में आगे लिखा गया हैं की वह वास्तविक तथ्यों को भलीभांति जानती हैं की किस प्रकार दंगाइयों ने लाठी, पत्थर और गोली से दिल्ली पुलिस आरक्षक रतनलाल एवं आईबी के अधिकारी अंकित शर्मा की बर्बरता पूर्वक हत्या कर दी थी।

अभिभाषक दल का कहना है की तथ्यों की जानकारी होने के बावजूद अभिनेत्री ने गालव सभागार में झूठ बोलकर जनता में संविधान एवं समाज की सुरक्षा के लिए गठित किये गए पुलिस बल के प्रति अविश्वास उत्पन्न करने एवं अराजकता फैलाने के उद्देश्य से भड़काऊ भाषण दिया। उन्होंने ग्वालियर के शांतिपूर्ण वातावरण को खराब करने एवं हिन्दू मुस्लिम भाईचारे को छिन्न- भिन्न करने का प्रयास किया है। जिसके लिए अभिभाषकों ने स्वरा भास्कर एवं कार्यक्रम के संयोजक महिला बाल विकास विभाग के संयुक्त संचालक सुरेश तोमर के खिलाफ आईपीसी की धारा 153 ए, 153बी, 166 ए, 298 एवं 34 के तहत आपराधिक प्रकरण दर्ज करने की मांग की हैं।

स्वरा भास्कर को शासकीय मद से हुआ भुगतान -

जानकारी के लिए बता दें स्वरा भास्कर ने अपना यह विवादित बयान महिला बाल विकास विभाग के कार्यक्रम में विभाग के अधिकारीयों की उपस्थिति में दिया था। उन्होंने एक शासकीय कार्यक्रम में भाग लेते हुए अन्य शासकीय विभाग के कर्मचारियों पर गंभीर आरोप लगाए थे। जिसके लिए महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा कोई स्पस्टीकरण नहीं दिया गया ना ही कार्यक्रम के दौरान अभिनेत्री के वक्तवय का विरोध किया। जिसके लिए सुरेश तोमर के खिलाफ भी प्रकरण दर्ज करने की मांग की गई हैं।विवादित बयान देने वाली स्वरा भास्कर को कार्यक्रम में भाग लेने के लिए शासकीय मद से भुगतान किया गया हैं।

Updated : 2020-03-09T12:55:14+05:30
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top