Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > भोपाल > कांग्रेस को बेनकाब कर रही खुद की सरकार

कांग्रेस को बेनकाब कर रही खुद की सरकार

कांग्रेस को बेनकाब कर रही खुद की सरकार
X

मंदसौर गोली कांड के बाद सिंहस्थ मामले में भी शिवराज सरकार को क्लीन चिट, अपनी सरकार पर भड़के दिग्विजय सिंह

विशेष संवाददाता भोपाल

मध्य प्रदेश विधानसभा में सोमवार को गृहमंत्री बाला बच्चन द्वारा मंदसौर में किसानों के साथ हुए गोली कांड में तत्कालीन शिवराज सिंह चौहान सरकार को क्लीन चिट देने के बाद अब प्रदेश में कमलनाथ के नेतृत्व में बनी कांग्रेस सरकार ने मान लिया है कि सिंहस्थ में कोई घोटाला नहीं हुआ था और फैसला किया है कि सिंहस्थ घोटाले की जांच नहीं करायी जाएगी दरअसल, कांग्रेस विधायक सिद्धार्थ कुशवाहा ने विधानसभा में सवाल पूछा था कि क्या राज्य सरकार सिंहस्थ 2016 में हुई आर्थिक अनियमितताओं की जांच करने वाली है।

इस पर नगरीय विकास मंत्री जयवर्धन सिंह ने लिखित जवाब में जांच से इंकार किया है। इधर पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह भी सरकार के कामकाज को लेकर संतुष्ट नही है। सोमवार को विधानसभा में तत्कालीन शिवराज सरकार को मंदसौर गोली कांड और नर्मदा के किनारे वृक्षारोपण में भ्रष्टाचार के कांग्रेस के आरोपों के बावजूद क्लीनचिट दिए जाने को लेकर उनका गुस्सा सोमवार को पहले ही सरकार के मंत्रियों पर फूट पड़ा था। अब सिंहस्थ में भ्रष्टाचार के मामले में भी शिवराज सरकार को क्लीनचिट दिए जाने के बाद तो प्रदेश की जनता के सामने बोलने के लिए उनके पास शब्दों का अकाल पड़ गया है।

विधानसभा चुनाव के दौरान में कांग्रेस नेताओं ने सिंहस्थ घोटाले के मुद्दे को बहुत जोर-शोर से उठाया था। कांग्रेस ने जनता से वादा किया था कि सरकार में आने पर इसकी जांच कराई जाएगी। यहां तक कि विपक्ष में रहते हुए भी कांग्रेस ने विधायकों की एक जांच कमेटी बनाई थी। इस कमेटी ने भी सिंहस्थ में कई घोटाले गिनाए थे, लेकिन अब जबकि प्रदेश में कांग्रेस सरकार बन गई है, तो उसने आधिकारिक तौर पर कहा है कि सिंहस्थ में कोई घोटाला नहीं हुआ है।

क्या है मामला

2016 में मध्य प्रदेश की धार्मिक नगरी उज्जैन में बारह साल बाद सिंहस्थ हुआ था। तत्कालीन शिवराज सरकार ने उसमें करोड़ों रुपए खर्च किए थे। दो महीने तक चलने वाले इसे मेले को दुनिया का सबसे बड़ा सिंहस्थ माना गया था। विपक्ष में रही कांग्रेस ने इसमें भारी घोटाले का आरोप लगाया था। और जांच की मांग की थी। बता दें कि इससे पहले मंदसौर गोलीकांड पर भी कांग्रेस सरकार का यू-टर्न सामने आया है। सरकार में गृह मंत्री बाला बच्चन ने बयान दिया है, कि मंदसौर में आत्मरक्षा में गोलियां चलाई गईं थीं। उन्होंने कहा कि जब तक सरकार जांच के आधार पर संतुष्ट नहीं हो जाएगी तब तक कार्रवाई नहीं होगी। हालांकि गृह मंत्री ने कहा कि अगर कोई दोषी सामने आता है तो उसे सजा जरूर मिलेगी।

सरकार ने क्या कहा विधानसभा में

मंदसौर गोलीकांड पर भाजपा और शिवराज सरकार को घेरने वाली कांग्रेस ने सत्ता में आते ही सुर बदल दिए हैं। गृह मंत्री बाला बच्चन ने मंदसौर गोलीकांड में प्रशासन को क्लीनचिट दे दी। सोमवार को विधानसभा में लिखित सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि मंदसौर में किसानों पर गोली कानूनी प्रक्रिया का पालन करते हुए आत्मरक्षा में चलाई गई थी। विधायक हर्ष विजय गेहलोत के सवाल के जवाब में बाला बच्चन ने कहा कि मंदसौर के पिपलिया मंडी थाना में 6 जून 2017 को हिंसक भीड़ को नियंत्रित करने के लिए आत्मरक्षा और सरकारी व निजी संपत्ति की सुरक्षा के लिए गोली चलाई गई थी।

जब दिग्विजय बोले यह क्या कह दिया सरकार

मप्र सरकार द्वारा भाजपा शासन काल में हुए मंदसौर गोलीकांड और नर्मदा किनारे पौधरोपण को लेकर विधानसभा में दिए गए जवाब पर पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय ने नाराजगी जाहिर की है। उन्होंने वन मंत्री उमंग सिंघार को फटकार लगाते हुए कहा कि वे नर्मदा किनारे कितने दिन पैदल चले हैं, जो विधानसभा में ऐसा जवाब दे दिया हैं। उनका मानना है कि जिन मुद्दों को चुनावी हथियार बनाकर हम सत्ता में पहुंचे, उन्हीं मुद्दों पर हमने कितनी आसानी से कह दिया कि इसमें तत्कालीन सरकार का कोई कसूर नही है। जनता के सामने तो हम ही झूठे साबित हुए। बता दें कि जिन मुद्दों पर विपक्ष में रहकर कांग्रेस पिछली सरकार को घेरती थी, अब उन मुद्दों पर सरकार का यह रुख सवाल खड़े कर रहा है। पूर्व मुख्यमंत्री ने राजधानी में पत्रकारों से चर्चा में जमकर नाराजगी जताई और गृहमंत्री बाला बच्चन और वन मंत्री उमंग सिंघार को फटकार लगाई है। दिग्विजय ने कहा कि मंदसौर गोलीकांड में कांग्रेस सरकार ने भाजपा को क्लीन चिट दे दी है। वहीं वन मंत्री द्वारा विधानसभा में यह जवाब देना कि नर्मदा किनारे पौधरोपण हुआ है, कोई भ्रष्टाचार नहीं हुआ, इस मामले में भी भाजपा को क्लीन चिट दे दी है। दिग्विजय ने वन मंत्री को नसीहत दी है कि वे नर्मदा किनारे जाकर देखें कि कितना पौधरोपण हुआ है। मैंने नर्मदा की परिक्रमा की है और देखा है कि कितना पौधरोपण हुआ है। मैं 3100 किलोमीटर पैदल चला हूं, मंत्री बताये कितना चले, पौधरोपण के नाम पर बहुत बड़ा भ्रष्टाचार हुआ है।

गोपाल भार्गव हुए हमलावर

मंदसौर गोलीकांड पर सरकार के यू-टर्न के बाद कांग्रेस जहां बैकफुट पर है तो वहीं अब विपक्ष एक बार फिर हमलावर हो गया है। नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा है कि कांग्रेस ने वोट जुगाडऩे के लिए विधानसभा चुनाव से पहले जनता से झूठ बोला। नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने कहा कि जो कांग्रेस 6 महीने पहले मंदसौर गोलीकांड को लेकर भाजपा पर सवाल उठा रही थी, वही कांग्रेस अब विधानसभा में पलट गई है। इससे साबित होता है कि मौजूदा कांग्रेस सरकार आखिर कैसे चल रही है। दरअसल, मध्यप्रदेश के बहुचर्चित मंदसौर गोलीकांड पर कमलनाथ सरकार के एक बयान पर सियासत गरमा गई है। सरकार में गृह मंत्री बाला बच्चन ने बयान दिया है कि मंदसौर में आत्मरक्षा में गोलियां चलाई गईं थीं। उन्होंने कहा कि जब तक सरकार जांच के आधार पर संतुष्ट नहीं हो जाएगी, तब तक कार्रवाई नहीं होगी। हालांकि गृह मंत्री ने कहा कि अगर कोई दोषी सामने आता है, तो उसे सजा जरूर मिलेगी। गोलीकांड में किसानों की मौत के मामले में पिछली बीजेपी सरकार को कांग्रेस लगातार घेरती आई है। उसने वचन पत्र में भी शामिल किया था कि सरकार बनी तो गोलीकांड की फिर से जांच होगी। इसके बाद कमलनाथ सरकार जब सत्ता में आई तो गृह मंत्री बाला बच्चन ने बयान दिया कि इसकी जांच नए सिरे से होगी।

Updated : 2019-02-19T21:42:17+05:30

Naveen

Swadesh Contributors help bring you the latest news and articles around you.


Next Story
Share it
Top