Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > भोपाल > नंगी-भूंखी सरकार जिसने ढोल-मंजीरे वालों से भी छीन लिए पैसे

नंगी-भूंखी सरकार जिसने ढोल-मंजीरे वालों से भी छीन लिए पैसे

नंगी-भूंखी सरकार जिसने ढोल-मंजीरे वालों से भी छीन लिए पैसे
X

भाजपा के मीडिया विभाग की कार्यशाला आयोजित

विशेष संवाददाता ♦ भोपाल

प्रदेश की कांग्रेस सरकार इतनी नंगी-भूखी हो गई है कि उसने ढोल-मंजीरे वालों से भी पैसे छीन लिए। कर्जमाफी के नाम पर किसानों के साथ छालावा और हमारी योजनाओं को नाम बदलकर झूठा श्रेय लूटने का प्रयास कर रही कांग्रेस सरकार की सच्चाई को मीडिया के माध्यम से अधिक से अधिक प्रचारित कर प्रदेश की जनता तक पहुंचाना है। साथ ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में केन्द्र की सरकार द्वारा जनहित और राष्ट्रहित में लिए गए निर्णयों और योजनाओं से आमजन को मिले लाभ को भी बूथ स्तर तक प्रचारित करना है।

यह बात प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को प्रदेश भाजपा कार्यालय में आयोजित हुई मीडिया विभाग की कार्यशाला को संबोधित करते हुए कही। कार्यशाला में राष्ट्रीय प्रवक्ता जीव्हीएल नरसिंहराव, नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव, लोकसभा चुनाव प्रभारी स्वतंत्रदेव सिंह, सह प्रभारी सतीष उपाध्याय, प्रदेश उपाध्यक्ष विजेश लूणावत सहित प्रदेश प्रवक्ता, मीडिया प्रभारी, सह प्रभारी, पैनलिस्ट सहित प्रदेशभर से आए संभागीय और जिला प्रभारी, सह प्रभारी उपस्थित रहे। कार्यशाला को संबोधित करते हुए प्रदेश प्रवक्ता जीव्हीएल नरसिंहराव ने कहा कि जो काम केन्द्र की कांग्रेस सरकार 55 साल में नहीं कर सकी वह काम हमारी सरकार ने 55 महीनों में कर दिखाया। मप्र में कांग्रेस की सरकार ने दो माह में गरीबों के कल्याण सभी योजनाओं और परियोजनाओं का बंटाधार कर दिया है। वहीं मोदी सरकार ने 55 महीने में सभी वर्गों के कल्याण के लिए योजना बनाकर काम किया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद देश के विकास में अभूतपूर्व तेजी आई है।

प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत ने कहा कि प्रदेश की कांग्रेस सरकार ऋण माफी के नाम पर किसानों के साथ धोखा कर रही है। सरकार सीमंत किसानों का डाटा तक उजागर नहीं कर रही है। लोकसभा में किसानों के वोट हथियाने के लिए किए जा रहे कांग्रेस के इस धोखे को उजागर करना है। नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने कहा कि ऋण माफी योजना में सरकार की मंशा किसानों को लाभ देने की होती तो बैंकों से किसानों की सूची लेकर और बैंकों को ऋण राशि भुगतान कर सीधे ऋण माफी कराई जा सकती थी, लेकिन सरकार लोकसभा चुनावों तक नाटक कर रही है। लोकसभा के बाद सरकार ऋण माफी से हाथ खड़े कर देगी। उन्होंने कहा कि ऊर्जा कार्यकर्ताओं और पुजारियों के लिए जो योजनाएं हमने तैयार की थीं, उसे अपना बताकर कांग्रेस झूंठा श्रेय लूट रही है। इस झूंठी सरकार की सच्चाई मीडिया के माध्यम से उजाकर करनी है। उन्होंने कहा कि थोक में स्थानांतरण और निरस्तीकरण का खेल कांग्रेस पैसा इकट्ठा करने के लिए खेल रही है।

कांग्रेस के इस कुशासन की सच्चाई जनता के बीच उजागर करनी होगी। कार्यशाला के आरंभ में विषय प्रतिवेदन प्रस्तुत करते हुए भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी लोकेन्द्र पाराशर ने कहा कि विधानसभा चुनाव से पूर्व जनआर्शीवाद यात्रा से लेकर लोकसभा चुनाव तक भाजपा मीडिया विभाग के कार्यकर्ताओं ने अपने काम को पूरी मेहनत से अंजाम दिया। लोकसभा चुनाव में भी कार्यकर्ता प्राणपण से मेहनत करेंगे और अजेय मानी जाने वाली दो सीटों पर भी अतिरिक्त मेहनत कर सभी 29 सीटों पर पार्टी को विजय दिलाने का प्रयास करेंगे। कार्यशाला का शुभारंभ अतिथियों द्वारा दीप प्रज्जवलित कर किया गया। कार्यशाला का संचालन प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने किया।

किसानों के लिए मुसीबत बनी फर्जी ऋण माफी: नरसिंहराव

किसानों की ऋण माफी योजना में सरकार नए-नए बहाने ढूंढ रही है। सरकार को ऋण माफी करनी होती तो नाटक नहीं करके किसानों के ऋण की राशि सीधे बैंक में पहुंचाकर किसानों को ऋण से मुक्ति दिला सकती थी। लेकिन ऋण माफी योजना का झूंठा प्रचार कर सरकार सिर्फ लोकसभा चुनावों में किसानों का वोट लेना चाहती है। यह बात भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता जीव्हीएस नरसिंहराव ने रविवार को मीडिया से चर्चा करते हुए कही। श्री नरसिंहराव ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की 55 माह की सरकार ने गरीब कल्याण और देश की प्रगति के लिए जो कार्य किए हैं, वह कांग्रेस की 55-60 साल की सरकार में नहीं हो सके। उज्जवला योजना में 13 करोड़ कनेक्शन मुफ्त दिए गए। शौचालय 58 करोड़, प्रदेश के 15 हजार गांवों में बिजली पहुंचाकर ढाई करोड़ नए बिजली कनेक्शन जैसे गरीब कल्याण के कई कार्य हुए हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में दो माह में कांग्रेस सरकार ने बंटाधार कर दिया है। मीडिया के माध्यम से खबर मिली है कि सिमी जैसे संगठन की वापिसी हो गई है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस हमेशा अपराधियों के साथ रही है। केन्द्र और प्रदेश सरकार की विभिन्न योजनाओं में सरकार सहयोग नहीं कर रही है। इस कारण योजनाएं मप्र में ठप हो गई हैं। सरकार जनविरोधी फैसले लेकर गरीब और किसानों का गला दबाने का काम कर रही है।

Updated : 2019-02-17T21:04:44+05:30

Naveen

Swadesh Contributors help bring you the latest news and articles around you.


Next Story
Share it
Top