Top
Home > Lead Story > भाजपा राष्ट्रीय परिषद बैठक : राष्ट्र निर्माण के लिए बनाएं मजबूत सरकार - नरेंद्र मोदी

भाजपा राष्ट्रीय परिषद बैठक : राष्ट्र निर्माण के लिए बनाएं मजबूत सरकार - नरेंद्र मोदी

सरदार बल्लभ भाई पटेल पहले प्रधानमंत्री होते तो तस्वीर कुछ और होती

भाजपा राष्ट्रीय परिषद बैठक : राष्ट्र निर्माण के लिए बनाएं मजबूत सरकार - नरेंद्र मोदी
X

नई दिल्ली। स्वामी विवेकानंद की जयंती पर रामलीला मैदान से लोकसभा 2019 के चुनाव की हंुकार भरते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश की जनता तय करे कि मजबूत भारत के लिए मजबूत सरकार का गठन हो या मजबूर सरकार का। एक तरफ सामाजिक समरसता, न्याय और ईमानदार प्रयास के लिए मोदी है तो दूसरी तरफ अवसरवादी ताकतें। 21वीं सदी के दस साल कई तरह से महत्वपूर्ण हैं। देश भ्रष्टाचार से मुक्त हो रहा है। ईमानदारी के प्रयास रंग ला रहे हैं। वर्ष 2000 के बाद भाजपा ने देश को अंधेरे से बाहर निकालने का काम किया है। इतने सारे लोगों का स्वेच्छा से सब्सिडी छोड़ना, रेलवे आरक्षण के दौरान रियायत छोड़ना, बड़ी संख्या में उद्योगपतियों का जीएसटी से जुड़ते चले जाना, आयकर में बढ़ोतरी होना, यह इसलिए हो रहा है क्योंकि सभी राष्ट्र निर्माण के लिए आगे आ रहे हैं। मोदी ने देश के सवा सौ करोड़ लोगों का आह्वान किया है कि वे एकजुट होकर मजबूत सरकार बनाकर विकास कार्याें को आगे बढ़ाएं। उन्होंने कहा कि यह चुनाव स्थिरता बनाम अस्थिरता का है, मजबूत सरकार बनाम मजबूर सरकार का है।

प्रधानमंत्री मोदी ने भाजपा की दो दिवसीय राष्ट्रीय परिषद की बैठक के समापन अवसर पर पार्टी कार्यकर्ताओं व पदाधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि भाजपा सरकार के इस कार्यकाल ने साबित किया है कि देश बदल सकता है और सामान्य नागरिक के हित में बदल सकता है। भाजपा के सरकार के कार्यकाल ने साबित किया है कि देश में सरकार बगैर किसी भ्रष्टाचार के भी चलाई जा सकती है। हमारी सरकार ने साबित किया है कि देश में जब स्थाई परिवर्तन के लिए कड़े और बड़े फैसले लिए जाते हैं कि तो देश उसके साथ साथ होता है। मोदी ने कहा कि हमारी सरकार सिर्फ और सिर्फ विकास के मार्ग पर चल रही है। विकास के हमारे मंत्र का मूल है सबका साथ सबका विकास। और एक भारत श्रेष्ट भारत। वहीं जब हम सबका साथ सबका विकास की बात करते हैं तो हम इसमें भारत के हर नागरिक हर क्षेत्र का पूर्ण विकास समाहित है। सबका विकास सिर्फ सरकार के प्रयासों से नहीं बल्कि सभी को साथ लेकर करना है।

उन्होंने कहा कि भाजपा कार्यकर्ता हर वर्ष और दिन को शुभ बनाता है। कभी दो कमरांे और दो सांसदों वाली पार्टी इतने बड़े स्तर पर राष्ट्रीय परिषद की बैठक कर रही है यह अद्भूत है। लोकसभा चुनाव से पहले देश भर से जुटे करीब 12 हजार कार्यकर्ताओं के साथ इस बैठक को चुनावी शंखनाद के तौर पर देखा जा रहा है। कल बैठक के पहले दिन राम मंदिर का मुद्दा भी उठा। इससे पहले शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह और दिग्गज नेता लालकृष्ण आडवाणी समेत भाजपा के पदाधिकारियों ने दीप जलाकर सम्मेलन का शुभारंभ किया। भाजपा की राष्ट्रीय परिषद के सदस्यों और पार्टी के कार्यकर्ताओं की ओर से अमित शाह ने प्रधानमंत्री मोदी को अगड़ी जाति के गरीबों को 10 फीसदी आरक्षण प्रदान करने और वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) में राहत प्रदान करने के लिए धन्यवाद दिया और उनका विशेष आभार जताया।

मोदी ने कहा कि हमारी सरकार ने बीते चार साल में कई बड़े काम करके दुनिया के मंचों पर जो भी झंड़े गाडे, उससे विश्व पटल पर हमारी शाख मजबूत हो रही है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने महिलाओं के सशिक्तकरण के लिए भी काम किया गया है। हमनें बीते साढ़े चार सालों में खुलकर काम किया। कुछ लोग राजनीतिक विरोध के लिए बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओं का भी विरोध करते हैं। हम महिलाओं को उनकी अलग पहचान दिलाना चाहते हैं। हम उन्हें प्रोत्साहित कर रहे हैं। मर्टिनिटी लीव को बढ़ाया गया। बेटियां सक्षम भी हैं और शक्ति का रूप भी हैं। यही कारण है कि सशत्र बलों में महिलाएं बड़े स्तर पर शामिल हो रही है। यही वजह है कि बेटियां फाइटर प्लेन उड़ा रही है। हम अपने अन्नदाता को नए भारत के नई ऊर्जा का वाहक बनाना चाहते हैं। हम बहुत ईमानदारी से प्रयास कर रहे हैं। जब हम किसानों को लागत का डेढ़ गुना मूल्य देना चाहते हैं। और इससे आगे उनको लागत से दोगुनी आय का सपना देखते हैं, जिसे सकार करना है।

सवार्णाें को 10 प्रतिशत आरक्षण से मिलेगा लाभ

मोदी ने कहा कि समान्य श्रेणी के गरीब युवाओं को शिक्षा और नौकरी के क्षेत्र में 10 फीसदी का आरक्षण युवाओं को फायदा देगा। यह युवाओं को अवसर देने जैसा है। अंबेडकर द्वारा रचित संविधान में आरक्षण का प्रावधान दिया गया है। मैं सभी को सामान्य अधिकार देना चाहता था। मैं सिर्फ गरीबी के आधार पर समान अधिकार देना चाहता हूं। सभी को अवसरों की समानता और समाजित न्याय की बात करना गलत नहीं। मोदी ने कहा कि शिक्षा में दस फीसदी की बढ़ोतरी भी की जाएगी। यानी सीटों को बढ़ाया जाएगा। सबकुछ इसी से ठीक हो जाएगा यह दावा न मैनें किया न करूंगा। लेकिन यह रास्ता है जो समान्य वर्ग के गरीबों को अवसर की समानता देता है। हमारे कार्यकर्ताओं को इसे लेकर चर्चा करनी चाहिए। किसी वर्ग को वंचित किए बिना यह व्यवस्था की गई है। कुछ लोग भ्रम फैलाकर असंतोष फैलाना चाहते हैं। हमारे युवा हमारी सबसे बड़ी शक्ति है।

एक भारत श्रेष्ट भारत भाजपा का दृष्टिकोण

सरदार पटेल पहले प्रधानमंत्री होते तो देश की तस्वीर कुछ और होती

प्रधानमंत्री मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को याद करते हुए कहा कि यह राष्ट्रीय परिषद की पहली बैठक है जो अटल जी के बिना हो रही है। उनका आशीर्वाद हमारे साथ है। हमें देखकर उन्हें भी संतोष हो रहा है। उन्होंने कहा कि देश में अगर सही नेतृत्व को बिठाया जाता तो देश की तस्वीर अलग होती। इसके लिए सरदार वल्लभ भाई पटेल हकदार थे। 2004 के बाद भी अटल जी प्रधानमंत्री बने रहते तो देश कही और आगे निकल गया होता। भाजपा की बढ़ती हुई लोकप्रियता से गदगद प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि देश के 16 राज्यों में या तो हम सरकार चला रहे हैं या फिर सरकार में शामिल हैं। उन्होंने कहा कि बीते दो दिनों में राष्ट्रीय परिषद में कई अहम प्रस्ताव रखे गए। किसानों से जुड़े प्रस्ताव व नौजवानों को लेकर प्रस्ताव। हम इन प्रस्तावों का एक एक शब्द याद रखना चाहते हैं। इस चर्चा का इसलिए भी महत्तव है क्योंकि देश नए विश्वास के साथ भाजपा को देख रहा है। बीते चार से साढ़े चार साल में जिस तरह से हम देश के राज्यों में स्थापित हुए हैं उससे यह साबित होता है कि देश को नई ऊंचाई पर सिर्फ और सिर्फ भाजपा ले जा सकती है। पहली बार ऐसा हुआ है कि केंद्र सरकार पर भ्रष्टाचार का एक भी आरोप नहीं लगा है। हमें गर्व है कि हमपर एक भी दाग नहीं है। पहले की सरकार के कार्यकाल ने देश को बहुत अंधरे में धकेल दिया। भारत ने 2004 से 2014 तक घोटालों और भ्रष्टाचार के आरोप में गवा दिए तो गलत नहीं होगा। 21वीं सदी की शुरुआत में यह दस साल बहुत महत्तवपूर्ण थे।

Updated : 2019-02-27T14:53:35+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top