Top
Home > विदेश > प्रधानमंत्री मोदी को हवाई अड्डे तक छोड़ने आए रवांडा के राष्ट्रपति तो युगांडा में राष्ट्रपति अगवानी के लिए पहुंचे

प्रधानमंत्री मोदी को हवाई अड्डे तक छोड़ने आए रवांडा के राष्ट्रपति तो युगांडा में राष्ट्रपति अगवानी के लिए पहुंचे

प्रधानमंत्री मोदी को हवाई अड्डे तक छोड़ने आए रवांडा के राष्ट्रपति तो युगांडा में राष्ट्रपति अगवानी के लिए पहुंचे
X

नई दिल्ली/किगाली/एन्टाबे। पीएम नरेन्द्र मोदी को लेकर अफ्रीकी राष्ट्राध्यक्षों में सम्मान एक बार फिर देखने को मिला। अफ्रीका महाद्वीप के तीन देशों, रवांडा, युगांडा और दक्षिण अफ्रीका की पांच दिवसीय आधिकारिक यात्रा पर निकले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को रवांडा के राष्ट्रपति ने मंगलवार को राजकीय विदाई दी।

रवांडा के राष्ट्रपति पॉल कामागे स्वयं पीएम मोदी को विदा करने राजधानी किगाली के हवाई अड्डे पर आए। सोमवार को जब पीएम मोदी रवांडा पहुंचे थे तो उनकी अगवानी भी स्वयं राष्ट्रपति पॉल कामागे ने की थी। रवांडा से युगांडा पहुंचने पर युगांडा के राष्ट्रपति योवेरी मुसेवेनी ने पीएम मोदी की अगवानी की। युगांडा की राजधानी एन्टाबे के हवाई अड्डे पर पीएम मोदी का युगांडा के राष्ट्रपति की अगुआई में राजकीय स्वागत किया गया। युगांडा की सेना के बैंड ने स्वागत धुन बजाई।

प्रधानमंत्री मोदी 24-25 जुलाई की अपनी दो दिन की आधिकारिक युगांडा यात्रा पर है। युगांडा यात्रा के दौरान पीएम मोदी युगांडा के राष्ट्रपति से मुलाकात, वहां के प्रमुख राजनेताओं से मिलना, व्यापार एवं वाणिज्य संबंधी वार्ता एवं युगांडा में भारतीय समुदाय के कार्यक्रम में शिरकत करेंगे। इसके अलावा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी युगांडा की संसद को संबोधित करेंगे। युगांडा में ऐसा सम्मान पाने वाले वे पहले भारतीय प्रधानमंत्री होंगे।

रवांडा और युगांडा की यात्रा के बाद प्रधानमंत्री 25-27 जुलाई तक दक्षिण अफ्रीका की यात्रा पर होंगे। अपनी तीन दिवसीय इस आधिकारिक यात्रा के दौरान वे ब्रिक्स समिट-2018 में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। ब्रिक्स दुनिया का एक प्रभावशाली संगठन है, जिसके ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका सदस्य हैं। ब्रिक्स समिट में हिस्सा लेने के अलावा वे दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति के साथ द्विपक्षीय बैठक करेंगे। पीएम मोदी ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के दौरान अन्य ब्रिक्स संबंधित बैठकों में भाग लेंगे। ब्रिक्स बैठकों के दौरान भाग लेने वाले देशों के साथ पीएम की द्विपक्षीय बैठकें भी योजनाबद्ध हैं।

विदेश मंत्रालय के सचिव (आर्थिक संबंध) ने बताया कि भारत अफ्रीका के साथ घनिष्ठ मैत्रीपूर्ण संबंध साझा करता है जो मजबूत विकास साझेदारी और भारतीय डायस्पोरा की बड़ी उपस्थिति से मजबूत होते हैं। पिछले कुछ वर्षों में, अफ्रीकी देशों के साथ विभिन्न क्षेत्रों में हमारी भागीदारी इसका एक उदाहरण है। यात्रा के दौरान रक्षा, व्यापार, संस्कृति, कृषि और डेयरी सहयोग के क्षेत्रों में कई समझौतों और एमओयू पर हस्ताक्षर किए जाने हैं।

पिछले चार वर्षों में राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के स्तर पर अफ्रीका के 23 आउटगोइंग दौरे हुए हैं। अफ्रीका भारत की विदेश नीति की सर्वोच्च प्राथमिकता रही है। प्रधानमंत्री की रवांडा, युगांडा और दक्षिण अफ्रीका की यात्रा अफ्रीकी महाद्वीप के साथ हमारे संबंधों को और मजबूत करेगी।

ज्ञातव्य है कि साल 2015 में नई दिल्ली में हुए तीसरे भारत-अफ्रीका शिखर सम्मेलन के दौरान पहली बार सभी 50 अफ्रीकी देशों के राष्ट्राध्यक्ष पीएम मोदी के बुलावे पर नई दिल्ली आए थे।

Updated : 2018-07-26T01:07:19+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top