Top
Home > Lead Story > प्रधानमंत्री ने की 'स्वच्छता ही सेवा' आंदोलन की शुरुआत, अमिताभ और रतन टाटा भी होंगे साथ

प्रधानमंत्री ने की 'स्वच्छता ही सेवा' आंदोलन की शुरुआत, अमिताभ और रतन टाटा भी होंगे साथ

प्रधानमंत्री ने की स्वच्छता ही सेवा आंदोलन की शुरुआत, अमिताभ और रतन टाटा भी होंगे साथ
X

नई दिल्ली/स्वदेश वेब डेस्क। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को देशव्यापी 'स्वच्छता ही सेवा' आंदोलन शुरू किया। मोदी ने कहा कि उनकी सरकार ने चार साल वह लक्ष्य हासिल कर लिया है जो पिछले 60-70 सालों में नहीं किया जा सका था।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से अभियान की शुरूआत के मौके पर देशभर में 18 विभिन्न स्थानों पर देशवासियों से मुखातिब होते हुए लोगों से महात्मा गांधी के स्वच्छ भारत के सपने को पूरा करने के लिए इसमें सहयोग की अपील की। उन्होंने कहा कि सच में स्वच्छता के लिए सेवा, ईश्वर की सेवा के समान है। बल्कि हमारा तो पारंपरिक और सांस्कृतिक संदेश भी यही रहा है। भविष्य में इस जन आंदोलन के बारे में जब भी लिखा या पढ़ा जाएगा तो, आप सभी स्वच्छाग्रहियों का नाम सुनहरे अक्षरों में आएगा।

प्रधानमंत्री ने रेलगाड़ियों की स्वच्छता में देश के आम नागरिकों के सहयोग का आह्वान करते हुए कहा कि स्वच्छता का समूह भावना से बहुत निकट का संबंध है। ट्रेन के डिब्बे में लिखा होता हैं कि भारतीय रेल, जनता की सम्पत्ति है। यह इसलिए लिखा जाता हैं क्योंकि आप अपनेपन से उस संपदा की तरफ देखें और उसका संरक्षण करें।

उन्होंने कहा कि स्वच्छता का दायरा पहले मात्र 40 प्रतिशत तक ही सीमित था| वह अब दोगुना से अधिक बढ़कर 90 प्रतिशत तक फैल गया है। उन्होंने कहा कि किसी ने कल्पना तक नहीं की होगी कि स्वच्छता के मामले में सरकार चार साल में इतनी शानदार प्रगति करेगी जो पिछले 70 सालों में नहीं हो सकी थी। प्रधानमंत्री ने शौचालयों के निर्माण का जिक्र करते हुए कहा कि 4 साल में 8 करोड़ से अधिक शौचालय बन जाना सचमुच चमत्कार है। इतना ही नहीं 4.5 लाख गांव और देश के 450 जिलों और 20 राज्य अथवा केंद्र शासित प्रदेश खुले में शौच से मुक्त होना भी कल्पना से परे की बात लगती है लेकिन यह सब असल में हो चुका है।

मोदी ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सरकार की स्वच्छता के लिए सराहना करते हुए कहा कि योगी जी को बधाई कि वो गांव-गांव में साफ सफाई के अभियान से लंबे समय से जुड़े हुए हैं| जनप्रतिनिधि के तौर पर और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में आपका प्रयास दिख रहा है। उन्होंने कहा कि शौचालयों के निर्माण में यूपी ने बहुत तेज गति से प्रगति की है। करीब दो वर्षों के भीतर दोगुने से भी अधिक शौचालय का निर्माण, सच में विराट उपलब्धि है। मुझे पूरा विश्वास है कि बहुत ही जल्दी यूपी के 22 करोड़ से अधिक जन खुद को खुले में शौच से मुक्त घोषित कर देंगे।





Updated : 2018-09-17T06:32:56+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top