Top
Home > Lead Story > जी-20 समिट : जापान में प्रधानमंत्री मोदी बोले - अवसरों का 'गेटवे' बना भारत

जी-20 समिट : जापान में प्रधानमंत्री मोदी बोले - अवसरों का 'गेटवे' बना भारत

जी-20 समिट : जापान में प्रधानमंत्री मोदी बोले - अवसरों का गेटवे बना भारत
X

ओसाका। भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी फिलहाल जी-20 समिट में भाग लेने के लिए जापान गए हुए हैं। मोदी ने गुरुवार को कोबे में भारतीय समुदाय के लोगों को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि हमें न्यू इंडिया की आशाओं और आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए देश की जनता ने यह जनादेश दिया है। यह पूरे विश्व के साथ हमारे संबंधों को नई ऊर्जा देगा। सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास के जिस मंत्र पर हम चल रहे हैं, वो भारत पर दुनिया के विश्वास को भी मजबूत करेगा।

जब दुनिया के साथ भारत के रिश्तों की बात आती है तो जापान का उसमें एक अहम स्थान है। ये रिश्ते आज के नहीं हैं, बल्कि सदियों के हैं। इनके मूल में आत्मीयता है, सद्भावना है, एक दूसरे की संस्कृति और सभ्यता के लिए सम्मान है। गांधी जी की एक सीख बचपन से हम लोग सुनते आए हैं और वो सीख थी बुरा मत देखो, बुरा मत सुनो, बुरा मत कहो।

भारत का बच्चा-बच्चा इसे भली भांति जानता है, लेकिन बहुत कम लोगों को ये पता है कि जिन तीन बंदरों को इस संदेश के लिए बापू ने चुना उनका जन्मदाता 70वीं सदी का जापान है। लगभग दो दशक पहले, प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी और प्रधानमंत्री योशिरो मोरी जी ने मिलकर हमारे रिश्तों को ग्लोबल पार्टनरशिप का रूप दिया था।

2014 में प्रधानमंत्री बनने के बाद, मुझे मेरे मित्र प्रधानमंत्री शिंज़ो आबे के साथ मिलकर इस दोस्ती को मजबूत करने का मौका मिला। पीएम आबे को दिल्ली के अलावा अहमदाबाद और वाराणसी ले जाने का सौभाग्य मुझे मिला। पीएम आबे मेरे संसदीय क्षेत्र और दुनिया की सबसे पुरानी सांस्कृतिक और आध्यात्मिक नगरी में से एक काशी में गंगा आरती में शामिल हुए। उनकी ये तस्वीरें भी हर भारतीय के मन में बस गई हैैं। डिजिटल लिटरेसी आज बहुत तेजी से बढ़ रही है।

डिजिटल ट्रांजेक्शन रिकॉर्ड स्तर पर हैं, इनोवेशन और इन्क्यूबेशन के लिए एक बहुत बड़ा इंफ्रास्ट्रेक्चर तैयार हो रहा है। इसी के बल पर आने वाले 5 वर्षों में 50 हजार स्टार्टअप का इको सिस्टम भारत को बनाने का लक्ष्य हमने रखा है। भारत की 130 करोड़ जनता के जीवन को आसान और सुरक्षित बनाने के लिए सस्ती और प्रभावी स्पेस टेक्नोलॉजी हासिल करना हमारा लक्ष्य है। मुझे खुशी है कि सफलता के साथ हम आगे बढ़ पा रहे हैं।

Updated : 2019-06-27T19:17:10+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top