Top
Home > Lead Story > ओम बिड़ला को 17 वीं लोकसभा के अध्यक्ष चुने जाने पर पीएम मोदी ने दी बधाई, कहा - आपकी नम्रता से डर लगता है

ओम बिड़ला को 17 वीं लोकसभा के अध्यक्ष चुने जाने पर पीएम मोदी ने दी बधाई, कहा - आपकी नम्रता से डर लगता है

ओम बिड़ला को 17 वीं लोकसभा के अध्यक्ष चुने जाने पर पीएम मोदी ने दी बधाई, कहा - आपकी नम्रता से डर लगता है

नई दिल्ली। सत्रहवीं लोकसभा की पहले सत्र का आज तीसरा दिन है। आज यानी बुधवार को लोकसभा के नए स्पीकर का चुनाव हो गया। एनडीए ने सांसद ओम बिड़ला को अपना उम्मीदवार बनाया था, जिसे करीब दस से अधिक दलों का समर्थन मिला । वहीं यूपीए ने भी ओम बिड़ला का समर्थन किया। मंगलवार को इस बाबत यूपीए की बैठक में यह फैसला लिया गया कि विपक्षी पार्टियां ओम बिड़ला का विरोध नहीं करेगी। ओम बिड़ला का लोकसभा स्पीकर के तौर पर चुना जाना मंगलवार को ही साफ हो गया था क्योंकि विपक्ष की ओर से भी लोकसभा अध्यक्ष पद के लिए कोई भी उम्मीदवार नहीं उतारा गया था। लोकसभा में कांग्रेस समेत टीएमसी ने ओम बिड़ला का समर्थन किया। ओम बिड़ला के स्पीकर चुने जाने पर पीएम मोदी ने बधाई दी। ओम बिड़ला मोदी और अमित शाह के करीबी माने जाते हैं।

-स्पीकर पद पर ओम बिड़ला हम सबको अनुशासित के साथ उनुप्रेरित करेंगे। सदन में हमने देखा है कि वह मुस्कुराते हैं तो बड़े हल्के से मुस्कुराते हैं। वह बोलते हैं तो भी बहुत हल्के से बोलते हैं। इसलिए सदन में मुझे कभी-कभी डर लगता है कि उनकी नम्रता और विवेक का कोई दुरुपयोग न कर ले।

-लोकसभा स्पीकर के तौर पर पीएम मोदी ने ओम बिड़ला के नाम को आगे किया, जिसका समर्थन सभी बड़े राजनीतिक दलों जिसमें कांग्रेस, टीएमसी, डीएमके और बीजेडी शामिल है, ने किया।

-पिछले सत्र को याद करेंगे तो हर किसी को मुंह से निकलेगा कि हमारी जो स्पीकर महोदया थीं वह हमेशा खुश रहती थीं

-व्यक्तिगत रूप से, मुझे लंबे समय से ओम बिड़ला जी के साथ काम करना याद है। वह कोटा, एक जगह जो मिनी-इंडिया है, शिक्षा और सीखने से जुड़ी भूमि है, का प्रतिनिधित्व करते हैं। वह सालों से सार्वजनिक जीवन में रहे हैं। उन्होंने एक छात्र नेता के रूप में शुरुआत की और तब से बिना किसी अवकाश के समाज सेवा कर रहे हैं

-गुजरात में भूकंप के वक्त वह लंबे समय तक कच्छ में रहे। केदारनाथ के हादसे के वक्त वह अपनी टोली लेकर समाजसेवा के काम में जुट गए थे। कोटा में भी ठंड में रातभर कोटा के गलियों निकलना और जरूरतमंदों को पहुंचाना उनका काम था।

-राजस्थान का एक छोटा सा शहर लघु भारत बन गया है। कोटा का यह परिवर्तन जिसके योगदान से हुआ है, वह नाम है श्री ओम बिड़ला जी। आमतौर पर राजनीतिक जीवन में छवि बन रही रहती है कि हम 24 घंटे राजनीति और तू-तू, मैं-मैं करते हैं। राजनीति जीवन में एक सच्चाई भी होती है, जो अक्सर उजागर नहीं होती। ओम बिड़ला जी वह शख्सियत हैं, जो जनप्रतिनिधि के नाते राजनीति से जुड़े, लेकिन उनकी कार्यशैली समाजसेवा की रही।

-बिड़ला का व्रत था कि कोटा में कोई भूखा नहीं सोएगा। बिड़ला ने राजनीति का केंद्र बिंदु सेवा बनाया

-हम सबके लिए गर्व का विषय है कि स्पीकर पद पर आज हम ऐसे व्यक्ति का अनुमोदन कर रहे हैं, जिन्होंने छात्र राजनीति से ही जीवन का सर्वाधिक उत्तम समय, बिना किसी ब्रेक के समाज की किसी न किसी गतिविधि में व्यतीत किया है

-ओम बिड़ला का स्पीकर बनना गर्व की बात है। बिड़ला लंबे समय तक राजनीति में सक्रिय रहे हैं

-लोकसभा के स्पीकर के तौर पर ओम बिड़ला की नियुक्ति पर पीएम मोदी ने उन्हें बधाई दी।

-ओम बिड़ला निर्विरोध लोकसभा के स्पीकर चुने गए। सांसदों ने मेज थपथपाकर किया स्वागत।

-कांग्रेस ने भी लोकसभा के स्पीकर के तौर पर ओम बिड़ला के नाम पर सहमति जताई।

-पीएम नरेंद्र मोदी ने लोकसभा के स्पीकर के तौर पर ओम बिड़ला का नाम आगे किया। गृहमंत्री अमित शाह ने पीएम मोदी का इसमें समर्थन किया।

Updated : 19 Jun 2019 6:19 AM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top