Top
Home > देश > राम मंदिर निर्माण के लिए अध्यादेश लाने पर राजग से अलग होगी रालोसपा : नागमणि

राम मंदिर निर्माण के लिए अध्यादेश लाने पर राजग से अलग होगी रालोसपा : नागमणि

लोकसभा चुनाव में दो-तीन सीटों पर नहीं मानेगी पार्टी; रालोसपा का मत, अयोध्या में राम मंदिर की बजाय बौद्ध मंदिर बनना चाहिए

राम मंदिर निर्माण के लिए अध्यादेश लाने पर राजग से अलग होगी रालोसपा : नागमणि
X

पटना / स्वदेश वेब डेस्क। राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष एवं पूर्व केन्द्रीय राज्यमंत्री नागमणि ने आज यहां कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा राम मंदिर निर्माण के लिए अध्यादेश लाने पर उनकी पार्टी राजग से अलग हो जाएगी। उन्होंने कहा कि लोकसभा के आसन्न चुनाव में उनकी पार्टी दो-तीन सीट मिलने पर नहीं मानेगी। सम्मानजनक सीटें नहीं मिलने पर राजग से अलग का रास्ता तय होगा। पार्टी अध्यक्ष एवं केन्द्रीय मानव संसाधन राज्यमंत्री उपेन्द्र कुशवाहा केन्द्रीय मानव संसाधन राज्यमंत्री हैं।

उन्होंने सोमवार को बातचीत में कहा कि रालोसपा का एजेंडा हिन्दुत्व और राम मंदिर निर्माण नहीं है। अयोध्या में राम मंदिर की बजाय बौद्ध मंदिर बनना चाहिए। उन्होंने कहा कि समाज में लोग जाति समूह में बंटे हैं। उन्होंने कहा कि जब लोगों की अलग-अलग जाति के रूप में पहचान है तब हिन्दू और हिन्दुत्व की बात अनुचित है। उन्होंने कहा कि अयोध्या में मंदिर-मस्जिद विवाद का स्थायी हल बौद्ध मंदिर के निर्माण से होगा। वहां खुदाई में बौद्ध काल के अवशेष मिले थे, राममंदिर के नहीं। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा मंदिर के पक्ष में फैसला आने पर यह भी सर्वमान्य नहीं होगा। वर्तमानत: मामला न्यायालय में लंबित होने की स्थिति में कानून बनाकर मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त करने से धर्मनिरपेक्षता को आंच आएगी। इसका व्यापक विरोध होगा।

उन्होंने जदयू अध्यक्ष एवं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर भी हमला बोला और कहा कि उन्होंने भाजपा नेतृत्व को गलत समझा कर बराबर सीटों पर चुनाव लड़ने पर सहमति बनाई है। रालोसपा के लिए जदयू की तुलना में चार-पांच गुणा अधिक सीटों की दावेदारी की और कहा कि पिछले चुनाव की तरह दो-तीन सीट पर समझौता नहीं होगा। तब उनकी पार्टी का रास्ता अलग होगा।

उन्होेंने कहा कि पार्टी अध्यक्ष एवं केन्द्रीय मानव संसाधन राज्यमंत्री उपेन्द्र कुशवाहा के बयान को नीच कह कर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कुशवाहा समाज का अपमान किया है। कुर्मी और कुशवाहा को जब भाई कहा जाता है तब उपेन्द्र कुशवाहा के बयान को नीच कहना दुखदाई है। उन्होंने कहा कि वे सच बोलते हैं भले ही किसी को कड़वा लगे।

Updated : 2018-11-07T01:06:57+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top