Top
Home > Lead Story > मंदसौर मामला : दुष्कर्म पीड़ित बच्ची मेंटल ट्रामा से आई बाहर, मेडिकल बोर्ड की अनुमति के बाद होंगे बयान

मंदसौर मामला : दुष्कर्म पीड़ित बच्ची मेंटल ट्रामा से आई बाहर, मेडिकल बोर्ड की अनुमति के बाद होंगे बयान

पुलिस इस मामले को लेकर गंभीरता से काम कर रही है और आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने के लिए पुख्ता सबूत जुटाए जा रहे हैं।

मंदसौर मामला : दुष्कर्म पीड़ित बच्ची मेंटल ट्रामा से आई बाहर, मेडिकल बोर्ड की अनुमति के बाद होंगे बयान
X

इंदौर। इंदौर के एमवाय अस्पताल में उपचाररत मंदसौर में दुष्कर्म की शिकार हुई सात वर्षीय बच्ची की हालत में तेजी से सुधार हो रहा है। पीड़ित बच्ची गुरुवार को सुबह मेंटल ट्रामा से बाहर आ गई है और वह अब चल-फिर करने के साथ-साथ वीडियो गेम्स खेलने में रुचि ले रही है। अब तक पीड़ित बच्ची के बयान नहीं हो सके हैं, एमवाय अस्पताल के मेडिकल बोर्ड की अनुमति के बाद ही बच्ची के बयान लिए जा सकेंगे।

दरअसल, एमवाय अस्पताल प्रबंधन ने गुरुवार को बच्ची के स्वास्थ्य को लेकर मेडिकल बुलेटिन जारी किया। अस्पताल अधीक्षक डॉ. वीएस पाल ने बताया कि बच्ची हालत अब पहले से काफी बेहतर है और वह मेंटल ट्रामा से बाहर आ गई है। हालांकि, अभी उसे मनोचिकित्सक की टीम की निगरानी में रखा गया है। गुरुवार को सुबह बच्ची को रबड़ी, कचोरी और चॉकलेट खाने को दी, तो उसे सभी चीजें अच्छे से खाई। साथ ही उसने वीडियो गेम्स खेला और डॉक्टरों और नर्सों को हरा दिया। अस्पताल अधीक्षक के मुताबिक, बच्ची को अभी पूरी तरह ठीक होने से एक-डेढ़ सप्ताह का समय लगेगा। इसके बाद उसे अस्पताल से छुट्टी दे दी जाएगी।

मामले की जांच कर रहे मंदसौर के सीएसपी राकेश मोहन शुक्ला बुधवार को बच्ची के बयान लेने के लिए एमवाय अस्पताल पहुंचे थे। उन्होंने चिकित्सकों से बातचीत की और बिना बयान लिए ही वापस लौट गए थे। इस बारे में डॉ. पाल ने बताया कि बच्ची अभी बयान देने के लिए तैयार नहीं है। इस बात का फैसला मेडिकल बोर्ड करेगा कि बच्ची के बयान कब होंगे। फिलहाल, बच्ची डॉक्टरों की निगरानी में है और डॉक्टर उसे जल्द ही बयान देने के लिए तैयार कर लेंगे।

इधर, सीएसपी राकेश मोहन शुक्ला ने बताया कि दुष्कर्म मामले की जांच लगभग पूरी हो चुकी है। दोनों पकड़े गए आरोपियों की रिमांड गुरुवार को समाप्त हो रही है, इसलिए दोपहर बाद उन्हें अदालत में पेश किया जाएगा। पुलिस इस मामले को लेकर गंभीरता से काम कर रही है और आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने के लिए पुख्ता सबूत जुटाए जा रहे हैं। इसमें बच्ची के बयान बड़ी भूमिका निभाएंगे। पुलिस जल्द से जल्द कोर्ट में चालान पेश करना चाहती है, इसलिए बच्ची के बयान के लिए वे एमवाय अस्पताल पहुंचे थे। डॉक्टरों की सलाह पर ही बच्चे के बयान लिए जाएंगे।

Updated : 2018-07-06T19:39:15+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top