Top
Home > Lead Story > आपकी वीरता को मैं तहेदिल से सलाम करता हूं : रक्षा मंत्री

आपकी वीरता को मैं तहेदिल से सलाम करता हूं : रक्षा मंत्री

आपकी वीरता को मैं तहेदिल से सलाम करता हूं : रक्षा मंत्री
X
Image credit : Ani Tweet

नई दिल्ली। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कामकाज संभालने के साथ ही सक्रियता बढ़ा दी है। रक्षा मंत्री के तौर पर पद संभालने के बाद राजनाथ सिंह सोमवार को अपने पहले दौरे पर सियाचिन पहुंचे। जहां उन्होंने 12 हजार फुट की ऊंचाई पर सीमा की रक्षा कर रहे जवानों से मुलाकात किया। उनके साथ सेना प्रमुख जरनल बिपिन रावत भी हैं। इस दौरान सियाचिन बेस कैंप पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि मैं आपके जज्बे और आपकी वीरता को मैं तहेदिल से सलाम करता हूं। सशस्त्र बलों में जवानों और अधिकारियों में गर्व की भावना है, यह किसी भी इंसान के दिल में सबसे मजबूत भावना है।

बता दें कि रक्षा मंत्रालय के सूत्रों ने यह जानकारी दी कि रक्षा मंत्री इसके अलावा लेह में सेना की 12वीं कोर और श्रीनगर में 15वीं कोर के मुख्यालयों का भी दौरा करेंगे। इस दौरान सेना के शीर्ष कमांडर उन्हें पाकिस्तान से लगी नियंत्रण रेखा पर सुरक्षा हालात की जानकारी देंगे। साथ ही उन्हें कश्मीर में आतंकियों के सफाए के लिए चल रहे अभियान की जानकारी भी प्रदान करेंगे।

रक्षा मंत्री और सेना प्रमुख सबसे पहले लद्दाख में अधिक ऊंचाई पर स्थित थोइस हवाई अड्डे पर पहुंचेंगे जहां से वह एक ऑपरेशनल बेस जाएंगे और फिर हेलीकॉप्टर से सियाचिन ग्लेशियर जाएंगे। वहां वह सेना के फील्ड कमांडरों और सैनिकों के साथ कुछ समय बातचीत करेंगे। बता दें कि सियाचिन ग्लेशियर दुनिया के सबसे ऊंचे सैन्य क्षेत्रों में से है जहां जवानों को शून्य से 60 डिग्री नीचे तापमान और तेज हवाओं का सामना करना पड़ता है। कई बार हिमस्खलन और तेज हवाओं के चलते जवान हादसों का शिकार भी हो जाते हैं। बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 2014 में सियाचिन में जवानों के साथ दीपावली मनाने गए थे। जबकि 2017 में रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण जवानों के साथ दशहरा मनाने के लिए सियाचिन गई थीं।

रक्षा सूत्रों ने बताया कि रक्षा मंत्री को 14वीं कोर और 15वीं कोर में पाकिस्तान के किसी भी तरह के दुस्साहस से निपटने के लिए भारत की तैयारियों को लेकर विस्तृत प्रस्तुतिकरण दिया जाएगा। 14वीं कोर पाक से सटी नियंत्रण रेखा और चीन से सटी वास्तविक रेखा, दोनों पर नजर रखती है। जबकि सेना की 15वीं कोर कश्मीर घाटी में आतंकवादियों के खिलाफ ऑपरेशन चलाती है।

Updated : 2019-06-03T22:31:55+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top