Top
Home > Lead Story > आर्टिकल 370 पर कांग्रेस से लेकर एनसीपी ने वोट बैंक की राजनीतिक की खातिर विरोध किया : अमित शाह

आर्टिकल 370 पर कांग्रेस से लेकर एनसीपी ने वोट बैंक की राजनीतिक की खातिर विरोध किया : अमित शाह

आर्टिकल 370 पर कांग्रेस से लेकर एनसीपी ने वोट बैंक की राजनीतिक की खातिर विरोध किया : अमित शाह

मुंबई। महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के मद्देनजर आज भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की ताबड़तोड़ कई रैलियां हैं। महाराष्ट्र के सांगली में एक जनसभा को संबोधित करते हुए केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि मोदी सरकार ने कश्मीर से 370 को उखाड़ फेंका और इस मुद्दे पर आज पूरी दुनिया हमारे साथ है। आर्टिकल 370 पर कांग्रेस से लेकर एनसीपी ने वोट बैंक की राजनीतिक की खातिर विरोध किया। 370 को हटाकर जहां हमने देश को एक किया, वहीं कांग्रेस और एनसीपी ने इसका विरोध किया।

अमित शाह ने कहा कि जब मोदी जी अनुच्छेद 370 हटाने का प्रस्ताव लेकर आए, तो कांग्रेस और NCP दोनों 370 हटाने का और मोदी जी का विरोध कर रहे थे। मैं राहुल गांधी और शरद पवार से कहना चाहता हूं कि वो महाराष्ट्र की जनता को बताएं कि वो इसे हटाने के पक्ष में हैं या नहीं।

21 अक्टूबर को महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव

चुनाव आयोग ने महाराष्ट्र में 21 अक्टूबर को एक ही चरण में चुनाव कराने की घोषणा की है। मतों की गिनती 24 अक्ट्रबर को होगी। लोकसभा चुनाव 2019 में भारी बहुमत के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सत्ता में वापसी के बाद यह पहला विधानसभा चुनाव है। महाराष्ट्र विधानसभा का कार्यकाल नौ नवंबर को खत्म हो रहा है।

-महाराष्ट्र में चुनावी शंखनाद हो चुका है। एक तरह भाजपा और शिवसेना देवेंद्र फडणवीस जी के नेतृत्व में चुनाव लड़ रहे हैं और दूसरी ओर कांग्रेस और एनसीपी जैसी परिवारवादी पार्टियां चुनावी मैदान में हैं।

-अभी अभी लोकसभा का चुनाव हुआ है, जिसमें महाराष्ट्र की महान जनता ने मोदी जी की झोली में कमल ही कमल भर दिए। इसके कारण मोदी जी प्रधानमंत्री बने और 300 से ज्यादा सीटों के साथ भाजपा की पूर्ण बहुमत की सरकार बनी।

- नरेन्द्र मोदी जी ने अनुच्छेद 370 को हटाकर पूरे देश में से दो विधान, दो प्रधान और दो निशान को समाप्त किया है और देश को अखंड बनाने का महान काम किया है। आज अखंड भारत का सरदार पटेल का सपना पूरा हो चुका है।

-आजादी के वक्त उद्योगों, कृषि, सिंचाई, दुग्ध उत्पादन सभी में महाराष्ट्र 1 नंबर पर था। उसके बाद करीब 15 साल तक यहां कांग्रेस-एनसीपी की सरकार चली तो महाराष्ट्र नीचे को ओर बढ़ने लगा। पिछले 5 साल में भाजपा की सरकार में महाराष्ट्र फिर से विकास के रास्ते पर आगे बढ़ रहा है।

-मैं राहुल गांधी जी से कहना चाहता हूं कि अगर गाली देनी है तो मुझे दीजिये, मेरी पार्टी को दीजिये, मोदी जी को दीजिये हम आपको कुछ नहीं कहेंगे।

-लेकिन आप भारत माता के टुकड़े करने की बात करने वालों के साथ खड़े रहेंगे, तो भारत माता के टुकड़े करने वालों को जेल की सलाखों के पीछे भेजने का काम हमारी सरकार करेगी।

साल 2014 में महाराष्ट्र विधानसभा की 288 विधानसभा सीटों के लिए हुए चुनावों में भारतीय जनता पार्टी 122 सीटें हासिल कर सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी थी। भाजपा ने पहली बार महाराष्ट्र में इतनी सीटें हासिल की थीं। वहीं, कांग्रेस 42 सीटों के साथ तीसरे स्थान पर खिसक गई। इसके अलावा, शिवसेना 63 सीटों के साथ दूसरे नंबर पर रहने वाली पार्टी थी। शरद पवार की राकांपा को 41 सीटें मिली थीं। 2014 में 63.08 प्रतिशत वोट डाले गए थे। कुल 52691758 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया था। जिसमें 28383004 पुरुष, 24308397 महिला और 357 थर्ड जेंडर वोटर्स शामिल थे। पिछले विधानसभा चुनाव में 63.08 प्रतिशत वोट डाले गए थे।

Updated : 10 Oct 2019 7:46 AM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top