Top
Home > Lead Story > सीबीआई को भोपाल में चाहिए स्थायी कार्यालय, दस साल चल सकता है व्यापमं केस का ट्रायल

सीबीआई को भोपाल में चाहिए स्थायी कार्यालय, दस साल चल सकता है व्यापमं केस का ट्रायल

सीबीआई को भोपाल में चाहिए स्थायी कार्यालय, दस साल चल सकता है व्यापमं केस का ट्रायल
X

भोपाल। मध्य प्रदेश में व्यापमं घोटाले को लेकर सीबीआई ने अपने हेडक्वाटर से गुहार लगाई है कि उन्हें भोपाल में स्थाई बंगले आवंटित किए जाएं, क्योंकि व्यापमं मामले में लगातार केस बढ़ते ही जा रहे हैं। इन मामलों की जांच करने में सीबीआई को अभी दस साल और लग सकते हैं।

उल्लेखनीय है कि मध्य प्रदेश में व्यापमं घोटाले में 170 केस चल रहे हैं। तीन हज़ार से ज्यादा लोगों को आरोपित बनाया गया है। इसी के चलते सीबीआई अफसर दावा कर रहे हैं कि इस केस का ट्रायल अभी दस साल और चल सकता है। अभी तक सीबीआई को भोपाल की प्रोफेसर कॉलोनी में बी-10 नंबर का एक बंगला मिला हुआ है, लेकिन इन मामलों की जांच के दौरान अगर सीबीआई को बंगला खाली करने का नोटिस मिला तो उनकी मुश्किलें बढ़ सकती हैं। इसीलिए पहले ही सीबीआई के व्यापमं जोन की ओर से मुख्यालय दिल्ली को पत्र लिखकर बी-10 बंगले और इससे लगे बंगले काे स्थाई आवंटित करने की मांग की है।

पत्र में सीबीआई व्यापमं जोन की ओर से तर्क दिया गया है कि व्यापमं घोटाले में 170 केस चल रहे हैं। इसमें तीन हजार से ज्यादा लोगों को आरोपित बनाया गया है। वहीं अधिकारियों का ये भी दावा है कि इस केस का ट्रायल अभी दस साल और चलेगा। ऐसे में सीबीआई को अपना स्थाई कार्यालय चाहिए। स्थाई कार्यालय होने से तमाम तरह की सुविधाएं होंगी। उन्होंने कहा है कि पहले तो सिर्फ व्यापमं घोटाले से जुड़े केसों की जांच के लिए ही व्यापमं जोन बनाया गया था, लेकिन परीक्षाओं में गड़बड़ी से जुड़े अन्य मामले भी इसी जोन को भेजे जा रहे हैं। हाल ही में व्यापमं जोन ने नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ ओपन स्कूलिंग से जुड़ा एक केस भी दर्ज किया है। इसमें 1800 से ज्यादा आरोपित हैं। पत्र में यह भी लिखा गया है कि व्यापमं जोन परीक्षाओं में गड़बड़ी से जुड़े नए मामले भी दर्ज कर रहा है, ऐसे में स्थाई ऑफिस बहुत जरूरी है। इसमें ट्रॉयल जैसे कार्य और दूसरी जांच प्रक्रिया आसानी से चल सकेगी।

Updated : 2018-12-12T21:40:48+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top