Top
Home > विदेश > उपराष्ट्रपति ने की ग्रीस और पुर्तगाल के प्रधानमंत्रियों से मुलाकात

उपराष्ट्रपति ने की ग्रीस और पुर्तगाल के प्रधानमंत्रियों से मुलाकात

उपराष्ट्रपति ने की ग्रीस और पुर्तगाल के प्रधानमंत्रियों से मुलाकात
X

नई दिल्ली/स्वदेश वेब डेस्क। उप राष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू इस समय एएसईएम सम्मेलन 2018 में भाग लेने ब्रुसेल्स गए हुए हैं। कल ईयू मुख्यालय में उन्होंने ग्रीस के प्रधानमंत्री एलेक्सिस टिसिप्रास और पुर्तगाल के प्रधानमंत्री एन्टोनियो कोस्टा के साथ द्विपक्षीय स्तर पर बातचीत की।

भारत और ग्रीस के बीच पारंपरिक दीर्घकालिक संबंध हैं। उप-राष्ट्रपति ने 2019 में थिस्सलोनिकी अंतर्राष्ट्रीय मेले में भारत को 'सम्मानित देश' के रूप में आमंत्रित करने के लिए प्रधानमंत्री टिसिप्रास को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि भारत इस मेले में एक मजबूत व्यापार प्रतिनिधिमंडल के साथ भाग लेगा। उन्होंने प्रधानमंत्री टिसिप्रास को भारत की आर्थिक स्थिति के बारे में विस्तार से बताया। उपराष्ट्रपति ने विभिन्न निर्यात नियंत्रण संस्थानों में भारत की सदस्यता का समर्थन करने के लिए ग्रीस का धन्यवाद किया और साथ ही संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में स्थायी सदस्यता के लिए भारत की उम्मीदवारी के निरंतर समर्थन के लिए भी ग्रीस का धन्यवाद किया। उन्होंने ग्रीक विद्वान डेमेट्रियस गैलानोस के बारे में भी बात की जिन्होंने अन्य ग्रंथों सहित भगवत गीता का ग्रीक में अनुवाद किया था।

उपराष्ट्रपति ने पुर्तगाल के प्रधानमंत्री एन्टोनियो कोस्टा को जनवरी 2017 में भारत की यात्रा के बारे में याद दिलाया जब उन्हें प्रवासी भारतीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। उन्होंने भारत-पुर्तगाल संबंधों को और दृढ़ बनाने के लिए पीएम कोस्टा के व्यक्तिगत प्रतिबद्धता की तारीफ की। उन्होंने पूरे विश्व में महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती मनाने के लिए बनाई गई समिति में शामिल होने के लिए पीएम कोस्टा का धन्यवाद भी किया ।

प्रधानमंत्री कोस्टा ने कहा कि वे द्विपक्षीय संबंधों की सकारात्मक प्रगति से काफी प्रसन्न थे। उन्होंने उल्लेख करते हुए कहा कि विजन-बॉक्स, पुर्तगाली प्रौद्योगिकी कंपनी, ने हाल ही में बेंगलुरु अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से एक अनुबंध प्राप्त किया है जिसके तहत चेहरे की पहचान आधारित बायोमेट्रिक प्रौद्योगिकियों का उपयोग करके निर्बाध और कागज रहित हवाई यात्रा की सुविधा का लाभ मिल सके। उन्होंने यह भी उल्लेख किया कि पुर्तगाल ने हाल ही में पणजी स्मार्ट सिटी पहल के तहत जल आपूर्ति और अपशिष्ट जल प्रबंधन की एक पायलट परियोजना के लिए गोवा के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए थे।

उपराष्ट्रपति ने उल्लेख किया कि अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी के नए क्षेत्रों में भारत और पुर्तगाल को सहयोग करना चाहिए। उन्होंने कहा कि रक्षा, अंतरिक्ष, आधारभूत संरचना और स्टार्टअप आदि ऐसे क्षेत्र हैं जो संभावित व्यावसायिक अवसर प्रदान करते हैं। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्थायी सदस्यता के लिए अपना समर्थन फिर से देने हेतु पुर्तगाल का धन्यवाद भी किया। उन्होंने उल्लेख किया कि यूएनएससी में भारत के शामिल होने से संयुक्त राष्ट्र की विश्वसनीयता और प्रभावशीलता बढ़ जाएगी।

Updated : 2018-10-19T21:47:25+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top