Top
Home > विदेश > यूसए ने आतंकवाद के मुद्दे पर पाक को फिर सचेत किया

यूसए ने आतंकवाद के मुद्दे पर पाक को फिर सचेत किया

यूसए ने आतंकवाद के मुद्दे पर पाक को फिर सचेत किया
X

वाशिंगटन। अमेरिका ने पाकिस्तान को एक बार फिर सचेत किया है कि वह आतंकवाद को किसी भी स्थिति में बर्दाश्त नहीं करेगा। अमेरिकी रक्षामंत्री जिम मेटीस ने गुरुवार को कहा कि दक्षिण एशिया में अमेरिका के राजनयिक और सुरक्षा मामलों के हित जुड़े हुए हैं और वह अपना प्रभाव बनाए रखना चाहता है। दक्षिण एशिया में अमेरिका के स्थाई व शाश्वत हित हैं और वह अपने हितों व प्रभाव को अक्षुण्ण बनाए रखना चाहता है। इसलिए अमेरिका के लिए आतंकवाद का मुद्दा और भी महत्वपूर्ण है।

अमेरिका और भारत के बीच पांच व छह सितंबर को होने वाली मंत्री स्तरीय वार्ता से पूर्व पेंटागन की ओर से पाकिस्तान को कड़ी हिदायत दिया जाना महत्वपूर्ण माना जा रहा है। इस वार्ता में भारत से विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण भी भाग लेंगी, जबकि अमेरिका से विदेश मंत्री माइक पोंपियो और जिम मेटीस भाग लेने दिल्ली पहुंच रहे हैं।

मेटीस ने बताया कि इस्लामाबाद में नई सरकार के गठन के पश्चात बदली परिस्थितियों में अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोंपियो और जनरल जोसेफ़ डन्फ़र्ड भारत पहुंचने से पूर्व इस्लामाबाद भी रुकेंगे। वे वहां पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान और वरिष्ठ अधिकारियों से मिलेंगे। उन्होंने दोहराया कि अमेरिका किसी भी शर्त पर आतंकवाद को बर्दाश्त नहीं कर सकता। पाकिस्तान को चीन से आर्थक मदद के लिए निर्भर रहना घातक हो सकता है। अफ़ग़ानिस्तान के संबंध में अमेरिकी नीति में कोई बदलाव नहीं आया है। अमेरिका चाहता है कि शांति वार्ता अफ़ग़ानिस्तान के नेतृत्व में हो। पत्रकार वार्ता के समय जनरल जोसेफ़ भी मौजूद थे। उनका कहना था कि अमेरिका तालिबान को शांति वार्ता के लिए विवश कर देगा।

वाशिंगटन में एक अन्य कार्यक्रम के दौरान रक्षा मंत्रालय में एशियाई और प्रशांत सुरक्षा मामलों में सहायक सचिव रेंडल जिसरिवर ने कहा कि पाकिस्तान में अभी नई सरकार बनी है। अमेरिकी कोशिश होगी कि पाकिस्तान भारत के साथ अपने संबंधों को सुधारे। इसके लिए अमेरिका उसे समय देना चाहता है।

Updated : 2018-08-31T19:41:44+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top