Top
Home > विदेश > सुषमा स्वराज ने पाकिस्तानी समकक्ष सरताज अजीज को इस बात पर लगाई थी फटकार

सुषमा स्वराज ने पाकिस्तानी समकक्ष सरताज अजीज को इस बात पर लगाई थी फटकार

सुषमा स्वराज ने पाकिस्तानी समकक्ष सरताज अजीज को इस बात पर लगाई थी फटकार

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की वरिष्ठ नेता एवं पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के अंतिम दर्शन करने और उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए बुधवार सुबह से ही राजनीतिक दलों के नेताओं और उनके प्रशंसकों का तांता लगा हुआ है। स्वराज का मंगलवार रात यहां दिल का दौरा पड़ने से अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में निधन हो गया था। वीजा की समस्या से लेकर पासपोर्ट की दिक्कतों तक, ट्विटर पर उनके जवाबों को पढ़कर और उनकी त्वरित कार्रवाई के लाखों लोग मुरीद थें।

दो साल पहले विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने अपने पाकिस्तानी समकक्ष सरताज अजीज की ओर से शिष्टाचार की कमी दिखाए जाने पर निराशा जाहिर की। इतना ही नहीं उन्होंने एक के बाद एक नौ ट्वीट कर सरताज अजीज को फटकार लगाई थी। असल में कुलभूषण जाधव की मां पाकिस्तान जाकर अपने बेटे से मिलना चाहती थीं, इस संबंध में सुषमा स्वराज ने सरजाज अजीज को वीजा पत्र लिखा था जिस पर सरताज अजीज ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी थी।

हालांकि, उन्होंने अजीज को आश्वासन दिया कि यदि कोई पाकिस्तानी नागरिक भारत आने के लिये उनकी सिफारिश पर मेडिकल वीजा की मांग करता है तो उसे तुरंत वीजा दिया जायेगा।

सरताज अजीज के इस गैर जिम्मेदाराना रवैया पर हैरानी जताते हुए सुषमा स्वराज ने कई ट्वीट किए। उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा, भारत में अपने उपचार के लिये वीजा की मांग करने वाले सभी पाकिस्तानी नागरिकों के प्रति मेरी सहानुभूति है। हमारे लिये पाकिस्तानी नागरिकों की मेडिकल वीजा को स्वीकति प्रदान करने से संबद्ध उनकी सिफारिश आवश्यक है।

उन्होंने कहा कि भारतीय नागरिक अवंतिका जाधव का वीजा आवेदन लंबित है, जो पाकिस्तान में अपने बेटे से मिलना चाहती हैं। पाकिस्तान के रवैये से नाराज सुषमा स्वराज ने एक के बाद एक नौ ट्वीट किए।

उन्होंने टवीट किया, पाकिस्तान जाने के लिए उनके (अवंतिका के) वीजा की स्वीकति के लिये मैंने व्यक्तिगत तौर पर श्रीमान सरताज अजीज को पत्र लिखा। लेकिन श्रीमान अजीज ने मेरे पत्र पर संज्ञान लेने तक का शिष्टाचार नहीं दिखाया।

जाधव (46) को पिछले साल पाकिस्तान के अशांत बलूचितस्तान में कथित तौर पर गिरफ्तार कर लिया गया था। पाकिस्तानी सैन्य अदालत ने जासूसी एवं आतंकवाद के आरोप में उन्हें मृत्युदंड की सजा सुनाई। इस मामले में इंटरनेशनल कोर्ट ने कुलभूषण जाधव की फांसी की सजा पर रोक लगा दी है।

Updated : 2019-08-07T15:26:26+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top