Top
Home > विदेश > पाकिस्तानी विदेश मंत्री, बयान से पलटे

पाकिस्तानी विदेश मंत्री, बयान से पलटे

पाकिस्तानी विदेश मंत्री, बयान से पलटे
X

नई दिल्ली। पाकिस्तान में क्रिकेटर से राजनेता बने इमरान खान के नेतृत्व में बनी नई सरकार ने सत्तारूढ़ होते ही भारत को लेकर गलतबयानी शुरू कर दी है। पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह मसूद कुरैशी ने विवादास्पद बयान देकर सनसनी फैला दी कि भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पाकिस्तान के नव-निर्वाचित पीएम इमरान खान को चिठ्ठी लिखकर भारत-पाक वार्ता करने की गुजारिश की है। लेकिन पाक विदेश मंत्री कुरैशी का ये बयान झूठा साबित हुआ, जब भारतीय विदेश मंत्रालय से मीडिया में भारत-पाक के बीच, खासकर इमरान खान के साथ प्रधानमंत्री मोदी के संवाद का सिलेवार ब्यौरा सामने आया। इसके बाद पाकिस्तान के विदेश मंत्री अपने बयान से पलट गए और अब खुद कहने लगे कि हमने भी भारत के साथ सकारात्मक वार्ता को लेकर ही बात की थी। ये तो भारतीय मीडिया द्वारा भ्रम फैलाया जा रहा है।

विदेश मंत्रालय के सूत्रों ने बताया कि पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह मसूद कुरैशी का बयान पूरी तरह से झूठा है। दरअसल भारतीय प्रधानमंत्री मोदी ने 18 अगस्त को पाकिस्तान के नव-निर्वाचित पीएम इमरान खान को चिठ्ठी लिखकर उन्हें पाकिस्तान के प्रधानमंत्री बनने की बधाई भर दी थी।

सूत्रों के हवाले से भारतीय प्रधानमंत्री के इमरान को लिखे पत्र का जो मजमून पता चला है, उसके मुताबिक पीएम मोदी ने इमरान खान को लिखा था कि पाकिस्तान में लोकतांत्रिक तरीके से सत्ता परिवर्तन से वहां एक मजबूत सरकार बनेगी और पाकिस्तान के लोगों का लोकतंत्र पर भरोसा बढ़ेगा। इमरान को लिखे इस पत्र में पीएम मोदी ने दोनों के बीच टेलिफोन पर हुई वार्ता को याद किया, जिसमें दोनों ही नेताओं ने भारतीय उप-महाद्वीप क्षेत्र में शांति की बहाली, सुरक्षा का भाव और समृध्दि लाने के प्रयासों पर बात की थी। दोनों ने पूरे उप-महाद्वीप को आतंक से मुक्त क्षेत्र बनाने और हिंसा से दूर रखने पर चर्चा की थी। साथ ही दोनों ने भारत-पाक सहित पूरे भारतीय उप-महाद्वीप में विकास पर ध्यान केंद्रित करने को लेकर अपने संकल्प दोहराए थे। इतना ही नहीं मोदी ने पाकिस्तान के साथ एक अच्छे, सकारात्मक पड़ोसी का धर्म निभाने के अपने वादे को निभाने को लेकर भी बात की थी।

भारतीय विदेश मंत्रालय के हवाले से ये बातें सामने आने पर बौखलाएं पाकिस्तानी विदेश मंत्री ने सारा दोष भारतीय मीडिया पर जड़ दिया। पाक विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने बयान जारी कर कहा कि ना तो हमारे प्रधानमंत्री इमरान अहमद खान नियाजी उर्फ इमरान खान ने, ना ही हमारे विदेश मंत्री ने कभी इस तरह की बात की थी। पाकिस्तान तो हमेशा से भारत के साथ सकारात्मक वार्ता की ही बात करता है। इतना ही नहीं हमारे सूचना एवं विधि मंत्री हाल ही में भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के अंतिम संस्कार में हिस्सा लेने भारत गए थे, जहां उन्होंने भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से बात की। तब भी हमारे मंत्री ने पाकिस्तान की भारत के साथ सकारात्मक वार्ता की मंशा को दोहराया था।

Updated : 2018-08-21T02:25:18+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top