Top
Home > विदेश > संयुक्त राष्ट्र से प्रसारित होंगे हिन्दी में समाचार

संयुक्त राष्ट्र से प्रसारित होंगे हिन्दी में समाचार

संयुक्त राष्ट्र से प्रसारित होंगे हिन्दी में समाचार
X

नई दिल्ली। संयुक्त राष्ट्र (यूएन) के रेडियो स्टेशन से अब हिन्दी में समाचार का प्रसारण आरंभ हो गया है। इतना ही नहीं संयुक्त राष्ट्र ने अब हिन्दी में अपना आधिकारिक ट्विटर हैंडल बनाया है, जिसमें हिन्दी में संयुक्त राष्ट्र के समाचार सोशल मीडिया पर प्रसारित किए जा रहे हैं। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ये जानकारी देते हुए बताया कि विदेश मंत्रालय की हिन्दी भाषा को यूएन की आधिकारिक भाषा बनाने को लेकर हुए प्रयासों के क्रम में ये सफलता मिली है। हिन्दी को संयुक्त राष्ट्र की आधिकारिक भाषा बनाए जाने को लेकर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज पहले भी संसद में अपना बयान दे चुकी हैं।

शुक्रवार को 11वें विश्व हिन्दी सम्मेलन को लेकर मीडिया से बात करते हुए विदेश मंत्री ने बताया कि हिन्दी को यूएन की आधिकारिक भाषा बनाना इतना आसान नहीं है। संयुक्त राष्ट्र के नियमों के मुताबिक किसी भी भाषा को यूएन की आधिकारिक भाषा का दर्जा मिलने के लिए आवश्यक है कि संयुक्त राष्ट्र के कुल सदस्यों की संख्या का दो-तिहाई उस भाषा का समर्थन करें। इतना ही नहीं उस भाषा का समर्थन करने वाले देशों को उससे होने वाले खर्च को भी उठाना होगा। ऐसे में हिन्दी को लेकर भारत को संयुक्त राष्ट्र के दो-तिहाई देशों का समर्थन प्राप्त है लेकिन भारत सरकार जानती है कि हिन्दी का समर्थन करने वाले कई देश इतने गरीब हैं कि वो यूएन का खर्च नहीं उठा पाएंगे। इसी को देखते हुए भारत सरकार के विदेश मंत्रालय ने यूएन में हिन्दी भाषा की उपस्थिति बढ़ाने के लिए ये कदम उठाये। अब 22 जुलाई, 2018 से संयुक्त राष्ट्र रेडियो से हिन्दी भाषा में समाचार हर हफ्ते प्रसारित हो रहे हैं। इसी तरह यूएन का आधिकारिक ट्विटर हैंडल भी हिन्दी में बन गया है। इतना ही नहीं यूएन के तमाम प्रमुख दस्तावेज अब जल्दी ही हिन्दी में भी उपलब्ध होंगे।

सुषमा ने बताया कि हिन्दी को संयुक्त राष्ट्र की आधिकारिक भाषा बनाए जाने के लिए आवश्यक 129 देशों का समर्थन भारत प्राप्त कर सकता है। इससे पहले भी योग दिवस को लेकर भारत की मुहिम का दुनिया के 177 देशों ने समर्थन किया था। भारत की हिन्दी के अलावा जापान और जर्मनी भी अपनी-अपनी भाषाओं को संयुक्त राष्ट्र में आधिकारिक भाषा का दर्जा दिलाने के लिए प्रयासरत हैं।

Updated : 2018-08-11T03:36:01+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top