Top
Home > शिक्षा > परीक्षा के भय से उत्पन्न तनाव को रखें दूर: मिश्रा

परीक्षा के भय से उत्पन्न तनाव को रखें दूर: मिश्रा

परीक्षा के भय से उत्पन्न तनाव को रखें दूर: मिश्रा
X

मानसिक दबाव में न आकर ठंडे दिमाग से करें तैयारी

छात्रों के जीवन में परीक्षा एक महत्वपूर्ण पड़ाव होता है एग्जाम में तनाव होना स्वाभाविक है। तनाव आपकी तैयारियों पर बुरा प्रभाव डाल सकता है। आगामी मार्च माह में आयोजित होने वाली विभिन्न बोर्ड परीक्षाओं की तैयारी के लिए परीक्षार्थी पूरी मेहनत के साथ जुटे हुए हैं। इस बारे में जिला प्रतिनिधि संतोष तिवारी ने परीक्षार्थियों कैसे करे तैयारी, विषय पर सी.वी.एस.ई.बोर्ड परीक्षा प्रभारी एवं पी.जी.टी. रसायन शास्त्र रवि कांत मिश्रा से चर्चा की, ताकि परीक्षार्थीयों को तैयारी में सुविधा रहे एवं वे मानसिक रूप से परीक्षा के लिए तैयार हो सकें।

मिश्रा ने कहा कि बोर्ड की परीक्षा हर विद्यार्थी के लिए महात्वपूर्ण हैं इसलिए ऐसी किसी भी त्रुटि से बचना चाहिए जो जिन्दगी भर हमें कचोटती रहे। ऐसे में आप चाहे 10वीं में हों या 12वीं में, बोर्ड के इस चक्रव्यूह को तोडऩे के लिए कमर कस लें, कहने का आशय यह है कि थोड़ी सी लापरवाही आपके सपनों पर पानी फेर सकती हैं इसलिए एक सुव्यवस्थित योजना बनाकर टाइम टेबल के अनुसार अभी से तैयारी शुरू कर देंगे तो बोर्ड एग्जाम के समय तक विषय पर पकड़ बनाकर अच्छे अंक प्राप्त कर सकते हैं। कुछ एग्जाम ऐसे होते हैं जिनमें आपको सामान्य तरीके से पढऩे से ही सफ लता हासिल हो जाती है लेकिन बोर्ड एक्जाम कुछ कठिन होते हैं, जिनके लिए आपको ज्यादा पढ़ाई करने की जरूरत होती है। इस एग्जाम को अच्छे से पास करने के लिए प्लानिंग के साथ पढ़ाई करें, सफ लता अवश्य मिलेगी। बोर्ड एग्जाम हर विद्यार्थी के जीवन में एक या दो बार ही आता है यदि यहॉ सही गलत के चुनाव में चूके तो ख्वाब पंख लगने के पहले ही बिखर सकते हैं। अब तो 12वीं बोर्ड की परीक्षा कॅरियर के लिए महत्वपूर्ण हो गई है। 12वीं के बाद डिग्री कॉलेजों, विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए अंको का पैरामीटर निर्धारित हैं। इन सब मानको ने बोर्ड एग्जाम को महत्वपूर्ण बना दिया है।

क्या करें माता-पिता

माता-पिता बिना किसी दबाव के बोर्ड परीक्षा में अच्छे अंक लाने के लिए विद्यार्थी को उसके द्वारा लिए गये संकल्प का ध्यान दिलाते रहें। यदि प्लानिंग के तहत विद्यार्थी पढ़ाई कर रहा है तो उस पर और दबाव न डालें। विद्यार्थी को कैल्शियम और प्रोटीन युक्त हल्का आहार दें। पढ़ाई के दौरान हर दो से तीन घण्टे में उसे तरल पदार्थ जरूर दें, इससे मानसिक क्षमता बढऩे के साथ विद्यार्थी ऊर्जावान होता हैं। इसके साथ ही मैं, विद्यार्थियों से हमारे माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा लिखित किताब एग्जाम वॉरियर्स के माध्यम से कहना चाहता हूं कि छात्र परीक्षाओं को त्योहारों की तरह सेलिब्रेट करें, खुद से स्पर्धा रखें।

कुछ अन्य महत्वपूर्ण बिन्दु

परीक्षा का पैटर्न अच्छी तरह समझ लें, एग्जाम के दौरान दिमाग को स्वस्थ और याददाश्त को बेहतर रखे, परीक्षा में गैप का पूर्ण सदुपयोग करें, परीक्षा के दौरान आप कैफीन जैसे चाय कॉफी लेना बन्द कर दें। प्रतिदिन 30 मिनट का समय फिजिकल एक्टीविटीज पर जरूर दे। ऐसा करने से ब्लड सर्कुलेशन ठीक रहने के साथ-साथ स्मरण क्षमता एवं अत्मविश्वास बढ़ता है। निगेटिव सोच न रखे, कूलमाइंड एवं प्रसन्नचित होकर करें पढ़ाई।

ऐसे करें परीक्षाओं की तैयारी

विषयवार टाइम टेबल बनाकर करें तैयारी, बचे हुए समय में जितना ज्यादा रिवीजन करेंगे, उतना ही अच्छा स्कोर कर सकेंगे, इससे परीक्षा का दबाव आपके ऊपर से हटेगा। अधिक अंक लाने के लिए अपने कमजोर पहलुओं पर ध्यान दें, किताब के अभ्यास प्रश्न व उदाहरणों पर ध्यान दें, सैम्पल पेपरो से उत्तर लिखने का अभ्यास करें। समय सीमा पर गौर करें, उत्तर की शब्द सीमा पर ध्यान दें। सभी प्रश्नो को हल करें। पहले उस प्रश्न को हल करें जिसकी पूर्ण जानकारी हो, बड़े उत्तरो को बिन्दुबार लिखने का अभ्यास करें, चित्रों, सूत्रो एवं संरचनाओं की प्रैक्टिस करते रहे, मानसिक दबाव में न आकर, कूल माइंड होकर करे तैयारी, कठिन विषय को अधिक समय दें।

स्वास्थ्य का रखें ध्यान

किसी भी एग्जाम में सफ ल होने के लिए आपका स्वास्थ्य ठीक रहना सबसे जरूरी है। स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क का वास होता है। बेहतर होगा कि आप परीक्षा तक इस तरह की दिनचर्या बनाये, जिससे अच्छी पढ़ाई होने के साथ-साथ शारीरिक स्वास्थ्य भी बरकरार रहे और बिना किसी तनाव के बेहतर प्रदर्शन में कामयाबी मिले, इसके लिए जरूरी हैं कि अपने टाइम शेेड्यूल में फिटनेस के लिए भी समय निकालें। स्वस्थ आहार, स्मृति शक्ति बढ़ाने के साथ कुछ नया करने को भी प्रेरित करता है इसलिए विद्यार्थी जितना संभव हो, ऑयली फूड से परहेज करें, कोशिश करें ज्यादा से ज्यादा ताजे फल, सब्जियां व हल्का भोजन ले। परीक्षा के दौरान विद्यार्थी यदि तीन बार की जगह पांच से छ: बार में थोड़ा थोड़ा भोजन करे तो बेहतर होगा।

Updated : 2019-02-18T00:10:39+05:30

Naveen

Swadesh Contributors help bring you the latest news and articles around you.


Next Story
Share it
Top