Latest News
Home > अर्थव्यवस्था > साइकल प्योर अगरबत्ती ने पेश कीं हेरिटेज और फ्लूट रेंज, सभी रिटेल आउटलेट पर उपलब्ध

साइकल प्योर अगरबत्ती ने पेश कीं हेरिटेज और फ्लूट रेंज, सभी रिटेल आउटलेट पर उपलब्ध

साइकल प्योर अगरबत्ती ने पेश कीं हेरिटेज और फ्लूट रेंज, सभी रिटेल आउटलेट पर उपलब्ध
X

इंदौर। दुनिया की सबसे बड़ी अगरबत्ती निर्माता साइकल प्योर अगरबत्ती ने अगरबत्तियों की हेरिटेज और फ्लूट रेंज पेश की हैं। कंपनी ने उत्पाद विस्तार और नवाचार की अपनी रणनीति के तहत आज इंदौर में एक कार्यक्रम के दौरान यह रेंज उतारीं। साइकल प्योर अगरबत्ती के प्रबंध निदेशक श्री अर्जुन रंगा ने पारंपरिक भारतीय कला शैलियों से प्रेरित हेरिटेज रेंज और फल तथा फूलो की सुगंध वाली फ्लूट रेंज से पर्दा हटाया। हेरिटेज अगरबत्तियों की नई रेंज असली 'बेस' बत्ती का उपयोग कर पारंपरिक तरीके से बनाई गई है, जिसका उद्देश्य मधुबनी लोक कला, वारली लोक कला, संथाल आदिवासी कला और सांझी लोक कला जैसी प्राचीन, सुंदर भारतीय कला शैलियों को पुनर्जीवित तथा संरक्षित करना है।

हरेक पैकेट खरीदने पर इन धरोहर शैलियों के कलाकारों की सहायता होती है। फ्लूट अगरबत्तियों की आकर्षक रेंज है, जिसे फलों और फूलों की सुगंध से तैयार किया गया है। इसमें अमरसिया, गुलबिया, लावणी, पुष्प: फल:, निंबूरी, कोकोनीर और शिवली समेत 9 खुशबू हैं। इस मौके पर साइकल प्योर अगरबत्ती के प्रबंध निदेशक श्री अर्जुन रंगा ने कहा, "एक ब्रांड के तौर पर हम अपनी सुगंधों के जरिये भारत की मौजूदा और आने वाली पीढ़ियों को उम्मीद तथा प्रेरणा देने की तथा दुनिया भर में अपने लाखों उपभोक्ताओं को बढ़िया उत्पाद देने की कोशिश करते हैं।

हमारा मकसद हेरिटेज रेंज की अगरबत्तियों के जरिये मधुबनी, वारली, संथाल और सांझी की भव्य और पारंपरिक कला शैलियों को बचाए रखने में मदद करना है। दूसरी ओर फ्लूट रेंज प्रकृति की संपदा और उसके फलों-फूलों से प्रेरित है, जिसकी खुशबू हमारे ग्राहकों के दिलों तथा घरों को नई ऊर्जा देगी।" साइकल के उत्पादों में इस्तेमाल होने वाली सभी सामग्री उचित तरीके से तथा पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए प्राप्त की जाती है। इसके उत्पादों के निर्माण के दौरान बनने वाला समूचे कार्बन की भरपाई कर दी जाती है क्योंकि कंपनी को जीरो कार्बन विनिर्माता का प्रमाणपत्र मिला है। हेरिटेज और फ्लूट रेंज की अगरबत्तियां सभी रिटेल आउटलेट पर और cycle.inपर उपलब्ध हैं।

Updated : 2022-06-02T17:57:10+05:30
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top