Home > देश > भाजपा-शिवसेना के बीच नहीं रहा कोई मनमुटाव : उद्धव ठाकरे

भाजपा-शिवसेना के बीच नहीं रहा कोई मनमुटाव : उद्धव ठाकरे

भाजपा-शिवसेना के बीच नहीं रहा कोई मनमुटाव : उद्धव ठाकरे
X

अहमदाबाद। राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन(राजग) के घटक और भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) के सबसे पुराने सहयोगी दल शिवसेना के बीच महाराष्ट्र में चल रही रार अब पूरी तरह से खत्म हो गई है। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने शनिवार को कहा कि उनकी पार्टी और भाजपा की विचारधारा एक है और दोनों के बीच जो मतभेद एवं मनमुटाव थे वह अब पूरी तरह समाप्त हो चुके हैं। साथ ही उन्होंने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि उनके पास न तो नीति है और न नेता, ऐसे में आम चुनाव के बाद राजग की सत्ता में वापसी सुनिश्चित है और केंद्र में फिर से भगवा लहराएगा।

ठाकरे ने आज भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के गांधीनगर सीट पर नामांकन से पहले अहमदाबाद के सरदार पटेल चौक पर आयोजित विजय संकल्प सभा में विपक्षी दलों पर जोरदार हमला करते हुए कहा कि एक विचारधारा वाली दो पार्टियों (भाजपा-शिवसेना) के बीच टकराव से कुछ लोग खुश हो रहे थे। ठाकरे ने कहा कि कुछ लोगों को शाह के नामांकन में उनके पहुंचने से खुशी हुई तो कुछ के पेट में दर्द हो रहा होगा।

शिवसेना प्रमुख ने कहा कि दोनों दलों के बीच मतभेद और तनिक मनमुटाव जरूर था पर जब वो और भाजपा अध्यक्ष साथ बैठे तो सारी चीजें खत्म हो गईं। उद्धव ने अपने पिता बाला साहेब ठाकरे का जिक्र करते हुए कहा कि वह कहा करते थे कि शिवसेना और भाजपा की विचारधारा एक है और वह हिन्दुत्व है। उन्होंने कहा कि बाला साहेब कहते थे कि हिन्दुत्व उनकी सांस है। यह रुक जाए तो वह कैसे चल सकते हैं।

उद्धव ने विपक्षी गठबंधन की तीखी आलोचना करते हुए कहा कि उनका फार्मूला है कि दिल मिले या न मिले हाथ मिलाते रहना चाहिए। इसके उलट भाजपा और शिवसेना का दिल मिला हुआ है।

ठाकरे ने मंच पर मौजूद भाजपा नेताओं को याद दिलाते हुए कहा कि तकरीबन तीन दशक पहले शिवसेना और भाजपा को अछूत समझा जाता था। शिरोमणि अकाली दल(शिअद) को छोड़कर अन्य सभी दल भाजपा और शिवसेना से परहेज करते थे। आज दिल्ली से लेकर कई राज्यों में हमारी विचारधारा की पहुंच हुई है और भगवा लहरा रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि कहा कि राजग का नेता एक है। विपक्ष को बताना चाहिए कि उनका नेता कौन है।

शिवसेना प्रमुख ने कहा कि उनके पिता का कहना था कि जब किसी की मदद करो तो दिल खोलकर करो। उन्होंने भाजपा अध्यक्ष को संबोधित करते हुए कहा कि अमित भाई हमारे बीच कोई मत भिन्नता अब नहीं बची है। पीठ में छुरा घोंपना हमारे संस्कार में नहीं है। 'मैं दिल से यहां आपके नामांकन में आया हूं'। उन्होंने कहा कि अब देश में भगवा, भगवा और भगवा ही होगा और कोई नहीं आएगा।

इस दौरान मंच पर राजग के सहयोगी शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष प्रकाश सिंह बादल, लोकजनशक्ति पार्टी के नेता रामविलास पासवान, केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, पीयूष गोयल और गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी और उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल समेत भाजपा महासचिव अनिल जैन व भूपेंद्र यादव भी उपस्थित रहे।

Updated : 30 March 2019 12:27 PM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top