Top
Home > देश > न्यू इंडिया के निर्माण में बाधक है बुलेट ट्रेन परियोजना का विरोध

'न्यू इंडिया' के निर्माण में बाधक है बुलेट ट्रेन परियोजना का विरोध

न्यू इंडिया के निर्माण में बाधक है बुलेट ट्रेन परियोजना का विरोध
X

नई दिल्ली/स्वदेश वेब डेस्क। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सरकार की महात्वाकांक्षी बुलेट ट्रेन परियोजना पर विपक्षी दलों के हमलावर रुख को न्यू इंडिया के निर्माण में बाधक करार दिया है। उन्होंने कहा कि जब भी हम नई तकनीक अपनाने की बात करते हैं, तो बहुत प्रतिरोध होता है।

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने गुरुवार को यहां रेलवे और मेट्रो परियोजनाओं में तकनीकी प्रगति पर दूसरे अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि देश में नकारात्मक सोच वाले लोग बड़ी संख्या में हैं। उन्होंने कहा कि जब तक हम प्रौद्योगिकी और समय के साथ विकसित नहीं होते हैं, एक संगठन जीवित नहीं रह सकता है।

उन्होंने कहा कि यदि हम इतिहास में देखें तो मुझे यकीन है कि जब घोड़ा गाड़ियों के स्थानपर भाप इंजन ट्रेन आई होगी तो उसका भी नकारात्मक सोच वालों ने विरोध किया होगा। उन्होंने कहा कि जब भारत में 1969 में राजधानी ट्रेन आई थी तब उस समय के रेलवे बोर्ड चेयरमैन तक ने इसकी जरूरत पर सवाल उठाया था।

रेल मंत्री ने कहा कि मुझे यह साझा करने में प्रसन्नता हो रही है कि 50 के दशक में जब जापान में शिंकान्सेन बुलेट ट्रेन की पहली अवधारणा बनाई गई थी, तो कई जापानी राजनेताओं और शिक्षाविदों ने इसका जोरदार विरोध किया था। उन्होंने कहा कि जब हमने मुंबई और अहमदाबाद के बीच एक हाई स्पीड ट्रेन की योजना बनाई तो उसके पीछे गति के साथ-साथ देश को नई तकनीक से परिचित कराना भी था।

उन्होंने कहा कि हमें यह पता लगाने की जरूरत है कि कैसे तकनीकी नवाचार रेलवे को सुरक्षित, अधिक कुशल बना सकते हैं और कम से कम लागत पर क्षमता बढ़ाने में हमारी सहायता कर सकते हैं। सम्मेलन में नीति आयोग के सदस्य डॉ. वीके सारस्वत, रेलवे के एस के श्रीवास्तव, प्रदीप अग्रवाल और अश्विनी लोहानी भी मौजूद थे।

Updated : 2018-10-05T15:58:10+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top