Top
Home > देश > राष्ट्रपति व प्रधानमंत्री ने जैन मुनि तरूण सागर के निधन पर जताया दुख

राष्ट्रपति व प्रधानमंत्री ने जैन मुनि तरूण सागर के निधन पर जताया दुख

राष्ट्रपति व प्रधानमंत्री ने जैन मुनि तरूण सागर के निधन पर जताया दुख

नई दिल्ली। जैन मुनि तरूण सागर का शनिवार को यहां कृष्णा नगर के राधेपुरी में चातुर्मास स्थल पर निधन हो गया। 51 वर्षीय मुनि पिछले कुछ दिनों से एक निजी अस्पताल में भर्ती थे। बेबाक प्रवचनों के लिए विख्यात जैन मुनि के निधन पर राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और भाजपा अध्यक्ष सहित तमाम लोगों ने दुख जताया है।

जैन मुनि तरूण सागर पीलिया की शिकायत के चलते वैशाली के मैक्स अस्पताल में कई दिनों से भर्ती थे। गुरुवार को अस्पताल से छुट्टी के बाद उन्हें कृष्णा नगर के राधेपुरी में चातुर्मास स्थल पर लाया गया था। यहां पर जैन मुनि का पहले से चातुर्मास कार्यक्रम तय था| उन्होंने आज तड़के 3:18 बजे अंतिम सांस ली। आज दोपहर 3 बजे दिल्ली-मेरठ हाइवे पर स्थित तरुणसागरम तीर्थ में उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। सन 1967 में मध्य प्रदेश के दमोह में जैन मुनि तरुण सागर का जन्म हुआ था। सन् 1981 में ही उन्होंने अपना घर त्याग छत्तीसगढ़ में दीक्षा ली थी।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अपने शोक संदेश में कहा, जैन मुनि तरुण सागर जी के देहावसान के बारे में सुनकर दुख हुआ। 'कड़वे प्रवचन' के लिए मशहूर, उन्होंने समाज में शांति और अहिंसा का संदेश फैलाया और युवाओं को अच्छे संस्कार देकर समाज को नयी दिशा प्रदान की। उनके सभी अनुयायियों के प्रति मेरी शोक संवेदनाएं।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने शोक संदेश में कहा, पूज्य जैन मुनि तरुण सागर जी महाराज के निधन का समाचार सुन गहरा दुख हुआ। समाज में मानवता मूल्य और अध्यात्म के ज्ञान की सराहना करने के लिए उनका योगदान हमेशा याद किया जाएगा। भारतीय ऋषि समुदाय के दृष्टिकोण से यह एक बहुत बड़ा नुकसान है।

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा 'जैन मुनि तरुण सागर जी महाराज के असामयिक महासमाधि लेने के समाचार से मैं स्तब्ध हूं। वे प्रेरणा के स्रोत, दया के सागर एवं करुणा के आगार थे। भारतीय संत समाज के लिए उनका निर्वाण एक शून्य का निर्माण कर गया है। मैं मुनि महाराज के चरणों में अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं।'

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष अमित शाह ने कहा मुनि तरुण सागर जी महाराज के असामयिक निधन के बारे में जानकर दुख हुआ। उन्होंने समाज के कल्याण के लिए अपना पूरा जीवन समर्पित किया था। उनके निधन से हमने शांति और मानवता के एक महान प्रचारक को खो दिया है। दुःख के इस घड़ी में उनके अनगिनत अनुयायियों के साथ मेरी गहरी संवेदना।

भाजपा के राज्यसभा सांसद एवं हिन्दुस्थान समाचार बहुभाषीय न्यूज एजेंसी के अध्यक्ष आर के सिन्हा ने कहा 'जैन मुनि तरुण सागर जी महाराज के निधन का दुखद समाचार प्राप्त हुआ। हमेशा सत्य, ईमानदारी और सामाजिक एकता का रास्ता दिखाने वाले महान संत और दार्शनिक को मैं श्रद्धा सुमन अर्पित करता हूं। न केवल जैन समाज अपितु हर समाज उनकी कमी को महसूस करेगा।'

Updated : 2018-09-01T20:29:58+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top