Top
Home > देश > नाबालिग हिन्दू लड़कियों की परिवार में वापसी सुनिश्चित करे पाकिस्तान सरकार : सुषमा

नाबालिग हिन्दू लड़कियों की परिवार में वापसी सुनिश्चित करे पाकिस्तान सरकार : सुषमा

नाबालिग हिन्दू लड़कियों की परिवार में वापसी सुनिश्चित करे पाकिस्तान सरकार : सुषमा
X

नई दिल्ली। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने पाकिस्तान में दो नाबालिग हिन्दू लड़कियों के अपहरण, उनके जबरन धर्मान्तरण और जबरन निकाह करवाने को लेकर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को एक बार फिर आड़े हाथों लिया है। स्वराज ने पाकिस्तान सरकार से मांग की है कि वो पाकिस्तान में होली के दिन अगवा की गई नाबालिग हिन्दू लड़कियों की परिवार में वापसी सुनिश्चित करें। स्वराज ने कहा कि दोनों लड़कियां नाबालिग हैं औ का 'नया पाकिस्तान' क्या इस नाबालिग लड़कियों के साथ इस तरह के व्यवहार को स्वीकृति देता है।

मंगलवार को विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को सोशल मीडिया के जरिए कहा कि पाकिस्तान में दो नाबालिग हिन्दू लड़कियों का जबरन धर्मान्तरण का मुद्दा गंभीर है। दोनों लड़कियों के नाबालिग होने में कोई शक नहीं है। उन दोनों में से रवीना की उम्र 13 साल और रीना की उम्र 15 साल है। ऐसे में क्या यहीं इमरान खान का 'नया पाकिस्तान' है, जहां इस कच्ची उम्र की लड़कियों के धर्मान्तरण और निकाह को उनकी मर्जी का मान लिया जाता है? पाकिस्तान की ये दोनों नाबालिग लड़कियां न्याय की हकदार हैं। पाकिस्तान सरकार इन दोनों नाबालिग हिन्दू लड़कियों की उनके परिवार में वापसी सुनिश्चित करें।

उल्लेखनीय है कि पाकिस्तान में होली के दिन दो नाबालिग हिंदू लड़कियों को मुस्लिम समुदाय के लोगों ने अगवा कर लिया था। बाद में पाकिस्तान के एक तथाकथित कट्टरपंथी मुस्लिम मौलाना मियां मिट्ठू की देखरेख में इन लड़कियों का धर्मान्तरण कराया गया और फिर मुस्लिम व्यक्ति से इनका जबरन निकाह करवा दिया गया। कथित तौर पर अपहरण कर उनका जबरन धर्म परिवर्तन कराए जाने के विरोध में हिंदू समुदाय ने धरना प्रदर्शन किया था। यह घटना सिंध प्रांत के घोटकी जिले के दहारकी तालुका में होली के दिन हुई।

Updated : 26 March 2019 3:08 PM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top