Top
Home > देश > माया ने बसपा का कांग्रेस से गठबंधन नहीं होने का ठीकरा दिग्विजय पर क्यों फोड़ा!

माया ने बसपा का कांग्रेस से गठबंधन नहीं होने का ठीकरा दिग्विजय पर क्यों फोड़ा!

माया ने बसपा का कांग्रेस से गठबंधन नहीं होने का ठीकरा दिग्विजय पर क्यों फोड़ा!
X

नई दिल्ली/स्वदेश वेब डेस्क। राजनीतिज्ञों में चर्चा है कि बसपा प्रमुख मायावती ने दिसम्बर 2018 में राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनावों और उसके बाद 2019 में भी (लोकसभा चुनाव) कांग्रेस के साथ बसपा का गठबंधन नहीं करने का ठीकरा जिस तरह से कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह पर फोड़ते हुए उन्हें एजेंट कहा है, इससे लगता है कि मायावती ने जो बयान दिया है वह किसी एजेंसी द्वारा लिखकर दिया गया था।

इस बारे में वरिष्ठ पत्रकार सुरेश मेहरोत्रा का कहना है कि मायावती ने जो कहा है वह हास्यास्पद है क्योंकि दिग्विजय सिंह किसी के एजेंट नहीं हो सकते। दूसरी बात, माया ने यह भी आरोप लगाया कि सोनिया व राहुल गांधी चाहते हैं बसपा से गठबंधन हो लेकिन दिग्विजय सिंह जैसे कुछ नेता नहीं चाहते ऐसा हो। इस पर भी कई दलों के वरिष्ठ नेता कहते हैं कि कांग्रेस में सोनिया व राहुल जो चाहते हैं वही होता है। किसी और के चाहने का कोई मतलब नहीं है। वैसे भी दिग्विजय सिंह को तो पार्टी ने किनारे लगा दिया है। इसलिए मायावती का यह कहना कि दिग्विजय सिंह जैसे नेताओं के नहीं चाहने के कारण सोनिया व राहुल कांग्रेस का गठबंधन बसपा से नहीं हो पा रहा, सरासर गलत है।

इस पूरे मसले पर बसपा के एक पूर्व पदाधिकारी (अब बसपा छोड़ चुके नेता) का कहना है कि सच्चाई यह है कि मायावती भ्रष्टाचार के कई मामले में सीबीआई की पूछताछ व गिरफ्तारी के डर से कांग्रेस से गठबंधन नहीं कर रही हैं। साथ ही अपना चेहरा बचाने के लिए इस तरह का बयान दे रही हैं। इससे लगता है कि उन्होंने वही बयान दिया है जो उनको लिखकर दिया गया है। कहा जाता है कि जिसके दबाव में मायावती कांग्रेस से गठबंधन नहीं कर रही हैं, उसी के द्वारा सुझाया गया, लिखवाया गया बयान मायावती ने दिया है। जहां तक दिग्विजय पर ठिकरा फोड़ने का सवाल है तो इसकी दो वजह है। पहला, दिग्विजय सिंह जब उत्तर प्रदेश के प्रभारी थे उस समय उन्होंने कांग्रेस को बसपा से दूर रखकर खड़ा करने की कोशिश किया था। तबसे मायावती उनसे चिढ़ी हुई हैं और मौका मिलते ही बदला लेने की कोशिश कर रही हैं। दूसरा, सत्ताधारी पार्टी चाहती है कि दिग्विजय सिंह को कांग्रेस से निकाल दे और वह अलग पार्टी बनाकर मध्य प्रदेश व अन्य राज्यों में प्रत्याशी खड़ा करें ताकि इससे कांग्रेस का वोट और बंटे। इसके लिए दिग्विजय सिंह पर हमला कराया गया है लेकिन ऐसा करके माया खुद बेनकाब हो गई हैं।

Updated : 2018-10-07T15:08:26+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top