Top
Home > देश > लोकसभा 2019 : फेक न्यूज और पैसा के बल पर लड़ा जायेगा अगला चुनाव - कपिल सिब्बल

लोकसभा 2019 : 'फेक न्यूज' और पैसा के बल पर लड़ा जायेगा अगला चुनाव - कपिल सिब्बल

लोकसभा 2019 : फेक न्यूज और पैसा के बल पर लड़ा जायेगा अगला चुनाव - कपिल सिब्बल

नागपुर। सोशल मीडिया में 'फेक न्यूज' के सहारे युवाओं को आकर्षित करने तथा चुनाव में पैसा लगाने के बल पर 2019 का लोकसभा चुनाव होगा। जो पार्टी 'फेक न्यूज' फैलाएगी और पैसा लगाएगी, वही जीतेगी।

ऐसा सनसनीखेज बयान कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल नें शनिवार को नागपुर में दिया। वह 'ऑल इंडिया प्रोफेशनल कांग्रेस' (एआईपीसी) की ओर से स्थानीय प्रेस क्लब में आयोजित समूह चर्चा को संबोधित कर रहे थे। इस समूह चर्चा में कपिल सिब्बल के साथ एआईपीसी के अध्यक्ष संजय झा और श्रीहरी अणे शामिल हुए। इस अवसर पर सिब्बल ने कहा कि सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में क्रांति के चलते देश की प्रजातंत्र प्रणाली में बदलाव हुए हैं। लोकसभा के अगले चुनाव में जो राजनीतिक पार्टी फेक न्यूज का इस्तेमाल कर युवा मतदाताओं को प्रभावित करेगी और चुनाव में अनाप-शनाप पैसा लगाएगी, वही चुनाव जीत सकती है।

न्यायालय की वजह से अर्थव्यवस्था के भविष्य को झटका

न्याय व्यवस्था पर सिब्बल ने कहा कि न्यायालय द्वारा वित्तीय मुद्दों पर लिए गए फैसलों की वजह से अर्थव्यवस्था के भविष्य को झटका लगा है। सुप्रीम कोर्ट द्वारा टू-जी स्पेक्ट्रम और कोल ब्लॉक्स मामले में दिए फैसले इसी का उदाहरण हैं। इसलिए न्यायलय को वित्तीय नीतियों से जुड़े मामले अधिक जिम्मेदारी से देखने चाहिए। उन्होंने कहा कि पर्यावरण से सम्बंधित मामलों में न्यायालय की भूमिका सराहनीय है लेकिन '2जी स्पेक्ट्रम' या 'कोल ब्लॉक्स' के लाइसेन्स रद्द किए जाने से देश की अर्थव्यवस्था को झटका लगा है। कैग द्वारा कोल ब्लॉक्स और टू-जी स्पेक्ट्रम मामलों में दिए गए आंकड़े भटकाने वाले थे। सीएजी की इस रिपोर्ट की वजह से टेलिकॉम और कोयला क्षेत्र नीचे की ओर लुढ़क गया।

देश में लोकतांत्रिक प्रणाली जिंदा

कांग्रेस पार्टी भले ही देश का लोकतांत्रिक ढांचा खतरे में होने की बात कहती हो, लेकिन सिब्बल ने इस मामले में पार्टी से अलग विचार रखे हैं। एक सवाल के जवाब में सिब्बल बोले कि देश में लोकतंत्र जिंदा है। सिर्फ लोकतंत्र की कुछ प्रक्रिया में बदलाव आए हैं। निर्णय प्रक्रिया का केंद्रीभूत हो जाना इसका उदाहरण हैं। सिब्बल ने कहा कि अब मंत्रालय के फैसले पीएमओ से होते हैं तथा चुनाव आयोग, सीबीआई, ईडी, आयकर विभाग आदि सरकार के हथियार बन गए हैं लेकिन देश का लोकतंत्र खत्म होने की बात को उन्होंने सिरे से नकार दिया।

Updated : 2018-08-19T03:17:26+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top