Home > देश > भारत आज सिर झुकाकर नहीं, उठाकर करता है बात : नरेन्द्र मोदी

भारत आज सिर झुकाकर नहीं, उठाकर करता है बात : नरेन्द्र मोदी

-अहीरवाल की वीर भूमि से प्रधानमंत्री बोले, सैन्य ताकत, सशक्त नेतृत्व और देश की मजबूती सरकार का लक्ष्य -आतंकवाद के नाम जो हमें डराते थे, वे आज खुद डर के मारे दुनिया के सामने गिड़गिड़ा रहे हैं

भारत आज सिर झुकाकर नहीं, उठाकर करता है बात : नरेन्द्र मोदी
X

रेवाड़ी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि हिन्दुस्तान आज आंख झुकाकर ही नहीं बल्कि सिर उठाकर बात करता है। हमें आतंकवाद के नाम पर जो डराते थे, वे आज खुद डर के मारे पूरी दुनिया के सामने गिड़गिड़ा रहे हैं। सरकार का लक्ष्य सैन्य ताकत, सशक्त नेतृत्व और देश को मजबूती देना है। आज भाजपा सरकार उस दिशा में बखूबी काम कर रही है। जिस राफेल लड़ाकू जहाज को लेकर कांग्रेस हल्ला मचा रही है, वह आज सेना की ताकत बन चुका है। आधुनिक हथियारों से लेकर बम और बारूद, पनडुब्बियों और लड़ाकू जहाज के जरिए सेना को सशक्त बनाने का काम किया जा रहा है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी शनिवार को रेवाड़ी में विजय संकल्प रैली को संबोधित कर रहे थे। अहीरवाल की वीर भूमि से प्रधानमंत्री ने सैनिकों के प्रति सम्मान दिखाते हुए वन रैंक-वन पेंशन को पूरा करने की बात दोहराई। बाजरे की रोटी और छाछ को ताकत देने वाली बताते हुए कहा कि इसी ताकत की बदौलत ही वे हर संकल्प को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

सैनिकों के क्षेत्र में प्रधानमंत्री ने हर बात को सेना और सैनिकों को जोड़ते हुए देश की सुरक्षा मजबूत करने के संकल्प को दोहराते हुए आतंकवाद के लिए कांग्रेस को कटघरे में खड़ा किया। उन्होंने कहा कि जिस अनुच्छेद-370 के कारण हरियाणा का वीर जवान अपनी शाहादत देता था, उसे खत्म करके उन्होंने शहीद सैनिकों को सच्ची श्रद्धाजंलि दी है। अनुच्छेद-370 को कांग्रेस ने लटकाकर रखा। जब वर्ष 1964 में अनुच्छेद-370 को खत्म करने के लिए संसद में आवाज बुलंद हुई ताे कांग्रेस ने एक वर्ष का समय मांगा, लेकिन उसे कभी खत्म करने की नहीं सोची।

मोदी ने कहा कि कांग्रेस को केवल कुर्सी और वोट बैंक की चिंता थी, न कि कश्मीर और देश के विकास की। दिल्ली में बैठी सरकारें एक परिवार को खुश करने में लगी रहीं और सोचा की कश्मीर संभल गया है। लेकिन उन्होंने कश्मीर को संभालने की बजाय, उजाड़ने का काम किया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि वर्ष 1947 में जब देश आजाद हुआ तो पड़ोसी देश पाकिस्तान ने चंद काबालियों के सहारे पीओके पर कब्जा कर लिया। सरदार वल्लभ भाई पटेल ने कश्मीर के कुछ हिस्से को बचा लिया, वरना आज पूरा कश्मीर उनका नहीं रहता।

वन रैंक-वन पेंशन के वादे को लेकर प्रधानमंत्री ने कहा कि 40 साल से कांग्रेस ने इस वादे को लटका कर रखा। वर्ष 2014 में भाजपा सरकार बनते ही इस वादे को पूरा किया और हरियाणा के दो लाख पूर्व सैनिकाें को 900 करोड़ रुपये का एरियर मिला। सैनिकों के वेतन और पेंशन में भी इजाफा हुआ है।

Updated : 19 Oct 2019 3:57 PM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top