Top
Home > देश > ग्रेटर नोएडा इमारत हादसा : बिल्डर समेत तीन पुलिस हिरासत में, मृतकों की संख्या तीन पहुंची

ग्रेटर नोएडा इमारत हादसा : बिल्डर समेत तीन पुलिस हिरासत में, मृतकों की संख्या तीन पहुंची

ग्रेटर नोएडा इमारत हादसा : बिल्डर समेत तीन पुलिस हिरासत में, मृतकों की संख्या तीन पहुंची

नोएडा । ग्रेटर नोएडा के शाहबेरी गांव में मंगलवार रात दो इमारतें ढहने से उसके मलबे के नीचे दबकर तीन लोगों की मौत हो गई। पुलिस ने बुधवार को बिल्डर गंगाशरण द्विवेदी समेत तीन लोगों को हिरासत में ले लिया है, बिल्डर के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का केस दर्ज हो गया है। मौके पर बचाव कार्य समाचार लिखे जाने तक जारी है|

यह छह मंजिला इमारत निर्माणाधीन थी, जबकि दूसरी चार मंजिला इमारत में लोग रहते थे। सूचना मिलते ही जिलाधिकारी, उपजिलाधिकारी और सिटी पुलिस अधीक्षक मौके पर पहुंचे। एनडीआरएफ की टीम के मौके पर पहुंचने के बाद राहत कार्य तेजी से शुरू कराया गया। कुछ लोगों को बाहर निकालकर अस्पताल भेजा गया है। इस घटना में अभी तक तीन लोगों की मौत हो गई है| पुलिस ने ने बिल्डर गंगाशरण द्विवेदी समेत तीन लोगों के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का केस दर्ज कर हिरासत में ले लिया है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घटना का संज्ञान लेते हुए जिला प्रशासन को तत्काल एनडीआरएफ की सहायता से हर संभव मदद मुहैया कराने व घायलों के इलाज की समुचित व्यवस्था कराने के निर्देश दिए हैं।

उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने भी राहत कार्य तेजी से कराने की बात कही। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार प्रत्येक आहत परिवार के साथ है। क्षेत्र के सांसद और केन्द्रीय पर्यटन राज्यमंत्री डॉ महेश शर्मा ने रात देर रात में ही हादसा स्थल पर पहुंचकर हालात का जायजा लिया। उन्होंने जिला प्रशासन को त्वरित कदम उठाने का निर्देश दिए। मलबे के नीचे दबे लोगों को निकालने के बाद त्वरित इलाज के लिए मौके पर 12 एम्बुलेंस तैनात कर दी गई है। इसके अलावा चिकित्सकों की टीम भी मौजूद रही।

सूत्रों के अनुसार ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी ने इस क्षेत्र में निर्माण कार्य पर रोक लगाई हुई है। फिर भी यहां बड़ी संख्या में अवैध रूप से कई बहुमंजिला इमारतें अफसरों की मिलीभगत से खड़ी कर दी गई हैं। जो इमारतें जमींदोज हुई हैं, उन्हें भी इसी तरह की बताया जा रहा है। जिस समय यह हादसा हुआ, उस समय काफी मजदूर हादसा वाली बिल्डिंग में सो रहे थे, जो मलबे के नीचे दब गए। मौके पर मौजूद लोगों ने बताया कि एक परिवार भी अवैध रूप से हादसा वाले फ्लैट में रह रहा था। उसका अब तक पता नहीं चल पाया है। घटना के बाद मौके पर भगदड़ मच गई और आसपास के लोगों की भीड़ जुटने लगी। स्थानीय लोगों ने पुलिस को इस सम्बन्ध में सूचना दी।

मुख्य दमकल अधिकारी अरुण कुमार सिंह ने बताया कि थाना बिसरख क्षेत्र के गांव शाहबेरी की इस इमारत में दर्जनभर मजदूर रह रहे थे। मजदूरों के मलबे में दबे होने की आशंका है। दमकल विभाग की गाड़ियां मलबा हटाने का काम कर रही हैं।

जिलाधिकारी गौतमबुद्ध नगर बीएन सिंह ने बताया है कि ग्रेटर नोएडा के शाहबेरी गांव में भवन गिरने की घटना को लेकर जिला प्रशासन गंभीर है। इस संबंध में अपर जिलाधिकारी (प्रशासन) कुमार विनीत को मजिस्ट्रियल जांच सौंपी गई है। अपर जिलाधिकारी कुमार विनीत संबंधित घटना के संबंध में सभी पहलुओं पर जांच करते हुए 15 दिन के भीतर अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करेंगे।

भाजपा विधायक पंकज सिंह ने कहा कि हादसे में अथॉरिटी के जो भी जिम्मेदार अधिकारी हैं, उनके खिलाफ सख्त और तत्काल कार्रवाई की जाए।

Updated : 2018-07-18T17:30:30+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top