Top
Home > देश > चीन कर रहा है देश में साइबर हमले

चीन कर रहा है देश में साइबर हमले

चीन कर रहा है देश में साइबर हमले

नई दिल्ली। इलेक्ट्रानिक्स व सूचना तकनीकी मंत्रालय की ओर से नेशनल सिक्युरिटी काउंसिल सेक्रेटेरियट को दी गई जानकारी के मुताबिक देश में अधिकांश अधिकृत वेबसाइट पर होने वाले हमले चीन से किए जा रहे हैं। हालांकि कुछ हमले रूस व अमेरिका से भी किए जाते हैं। यही नहीं, इन हमलों में कुछ पाकिस्तानी भी शामिल हैं जो जर्मनी व कनाडाई साइबर स्पेश का प्रयोग कर भारतीय वेबसाइट पर हमला करते हैं।

उल्लेखनीय है कि उक्त मंत्रालय के तहत काम करने वाले कंप्युटर इमरजेंसी रेसपांस टीम (सीईआरटी-इन) ने पिछले अप्रैल-जून के दौरान हुए साइबर हमले का अध्ययन किया है। बता दें कि नोडल एजेंसी सीईआरटी-इन, देश में होने वाले साइबर हमलों के बारे में जांच करती है। हालांकि इसका प्राथमिक कार्य इस मामले में डाटा संग्रह कर सूचना देना है। साथ ही यह इन हमलों के बारे में आगाह भी करती है।

एजेंसी की ओर से सौंपी गई रिपोर्ट के मुताबिक जांच के दौरान यह देखने में आया कि चीन हमेशा भारतीय साइबर स्पेश में घुसने की अनाधिकार चेष्टा करता रहता है। विदेश की तरफ से होने वाले साइबर हमलों में लगभग 35 फीसदी चीन की तरफ से, 17 फीसदी अमेरिका की तरफ से, रूस से 15 फीसदी, पाकिस्तान से 9 फीसदी, कनाडा से 7 फीसदी व जर्मनी से 5 फीसदी हमले किए जा रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि इनमें से अधिकांश हमले सरकारी संस्थानों के खिलाफ किए जाते हैं। इन संस्थानों की सूची में तेल व प्राकृतिक गैस आयोग, नेशनल इंफॉर्मेटिक्स सेंटर, इंडियन रेलवे कैटरिंग व टूरिज्म कॉरपोरेशन, रेलवे, सेंट्रल रेलवे इंफॉर्मेशन सिस्टम, पंजाब नेशनल बैंक, ओरियंटल बैंक अॉफ कॉमर्स, स्टेट बैंक अॉफ इंडिया व स्टेट डाटा सेंटर शामिल हैं। लेकिन ये डाटा सेंटर महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश व कर्नाटक से जुड़े हैं।

उक्त रिपोर्ट में दी गई जानकारी के मुताबिक साइबर स्पेश में किए जा रहे हमलों के बारे में एजेंसी हमेशा अलर्ट मोड पर रहती है। चीन, अमेरिका व रूस से सबसे ज्यादा हमले किए जा रहे हैं। हालांकि कनाडा व जर्मनी से होने वाले साइबर हमले ज्यादातर पाकिस्तान के हवाले से किए जाते हैं। साइबर सिक्युरिटी अधिकारियों के मुताबिक ज्यादातर हमले एेसे ई-मेल के माध्यम से किए जाते हैं जो लोगों से उनकी निजी जानकारी जैसे बैंक डिटेल व पासवर्ड आदि मांगते हैं।

Updated : 2018-09-10T16:03:11+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top