Top
Home > देश > केंद्र सरकार का बड़ा कदम, अश्लीलता परोस रहीं 827 वेबसाइट की गई बंद

केंद्र सरकार का बड़ा कदम, अश्लीलता परोस रहीं 827 वेबसाइट की गई बंद

केंद्र सरकार का बड़ा कदम, अश्लीलता परोस रहीं 827 वेबसाइट की गई बंदImage Credit : Toronto Star

नैनीताल। केंद्रीय सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय के अधीन संचालित दूरसंचार विभाग ने अश्लीलता परोस रही 827 वेबसाइट बंद करने के निर्देश जारी किए हैं। केंद्र सरकार इन वेबसाइट पर लगातार नजर रख रही है। यदि इन वेबसाइट में अश्लील वीडियो दिखाए जाएंगे तो आईटी कानून के तहत कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने नेशनल क्राइम रिकार्ड ब्यूरो के अधीन (डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू डॉट साइबरक्राइम डॉट जीओवी डॉट इन) नाम से साइबर क्राइम पोर्टल लांच किया है, जिसमें साइबर क्राइम की शिकायत या सूचना दर्ज की जा सकती है। गुरुवार को उत्तराखंड उच्च न्यायालय के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति राजीव शर्मा व न्यायमूर्ति मनोज कुमार तिवारी की खंडपीठ के समक्ष केंद्रीय दूरसंचार विभाग की ओर से हलफनामा प्रस्तुत किया गया। इसमें उच्च न्यायालय की ओर से पारित आदेश के क्रियान्वयन को लेकर जानकारी दी गई। हलफनामे में बताया गया है कि अश्लीलता परोस रही इन वेबसाइट्स पर लगातार नजर रखने के विभाग को निर्देश दिए गए हैं। शपथ पत्र में यह भी बताया गया है कि 30 अन्य वेबसाइट्स की जांच में अश्लीलता फैलाने की पुष्टि नहीं हुई है। इसके अलावा कुछ विदेशी वेबसाइट भी हैं, जिन पर इंटरपोल व ब्रिटेन इंटरनेट वॉच फाउंडेशन नजर रखता है, जो भारत की केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई से सूचनाओं का आदान-प्रदान करते हैं। केंद्र सरकार के हलफनामे के आधार पर खंडपीठ ने उम्मीद जताई कि सरकार अश्लीलता पर कठोरता से रोक लगाएगी, ताकि बच्चों को यौन अपराध से बचाया जा सके। न्यायालय ने साइबर क्राइम पोर्टल का 24 घंटे में प्रिंट व इलेक्ट्रानिक मीडिया में प्रचार-प्रसार करने के निर्देश दिए हैं। ज्ञातव्य है कि पिछले माह दून में अश्लील वीडियो देखकर चार नाबालिग बच्चों ने एक नाबालिग छात्रा के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया था। इस घटना के बाद कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश की अध्यक्षता वाली खंडपीठ ने राज्य व केंद्र सरकार को अश्लीलता रोकने के दिशा-निर्देश जारी किए थे। इस मामले में अगली सुनवाई अब 26 नवंबर को होगी।

Updated : 2018-10-26T17:30:56+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top