Top
Home > देश > सीबीआई रिश्वत मामला : सुप्रीम कोर्ट ने कहा, सतीश साना को सुरक्षा दे हैदराबाद पुलिस

सीबीआई रिश्वत मामला : सुप्रीम कोर्ट ने कहा, सतीश साना को सुरक्षा दे हैदराबाद पुलिस

सीबीआई रिश्वत मामला : सुप्रीम कोर्ट ने कहा, सतीश साना को सुरक्षा दे हैदराबाद पुलिस

नई दिल्ली/स्वदेश वेब डेस्क। सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई रिश्वत कांड मामले में रिश्वत देने की शिकायत करने वाले हैदराबाद निवासी सतीश साना को सुरक्षा देने का निर्देश दिया है। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली बेंच ने हैदराबाद के एसपी को निर्देश दिया कि वो सतीश साना को सुरक्षा प्रदान करें।

सुनवाई के दौरान सतीश साना की ओर से वरिष्ठ वकील राजू रामचंद्रन ने कहा कि सीबीआई द्वारा भेजा गया ताजा नोटिस और अंतरिम सीबीआई डायरेक्टर द्वारा जांच अधिकारी को बदलने से जांच पर असर पड़ सकता है। इसका जस्टिस एके पटनायक की निगरानी में सीवीसी की जांच पर भी प्रभाव पड़ सकता है। तब कोर्ट ने कहा कि जस्टिस एके पटनायक की निगरानी में जांच होने दीजिए। जो भी जरुरत होगी, हम पूरी करेंगे। सुप्रीम कोर्ट पहले ही आलोक वर्मा और अस्थाना के खिलाफ सीवीसी की जांच की जांच रिपोर्ट 12 नवंबर तक तलब करने का आदेश दे चुका है।

सतीश साना ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर अपनी सुरक्षा की मांग की है। आलोक वर्मा और राकेश अस्थाना को छुट्टी पर भेजने के बाद सतीश साना भी परिवार समेत कहीं गायब हो गया था। अस्थाना के खिलाफ केस सतीश साना से जुड़े एक मामले में दर्ज किया गया है। सतीश साना ही वह व्यक्ति है जिसने कुरैशी से जुड़ा अपना केस रफादफा कराने के लिए अस्थाना को 3 करोड़ रुपये रिश्वत देने का आरोप लगाया है। साना का नाम आलोक वर्मा और स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना को रिश्वत देने के आरोप में सामने आया है। साना के मुताबिक उससे रिश्वत की मांग की गई थी।

एफआईआर के मुताबिक मनोज प्रसाद और सोमेश प्रसाद सतीश साना से दुबई में मिले और उसका मामला रफा-दफा कराने का आश्वासन दिलाया। साना दुबई का कारोबारी है। सीबीआई उसके खिलाफ मीट कारोबारी से संबंध को लेकर जांच कर रही है। कुरैशी साल 2014 के बाद से भ्रष्टाचार के केस में कई एजेंसियों के निशाने पर है।

सीबीआई के मुताबिक 2 करोड़ रुपये का ताजा घूस सतीश ने खुद को 25 अक्टूबर तक बचाए रखने के लिए दिया था। 10 अक्टूबर को 25 लाख रुपये चुकाए गए और बाकी के पैसे 16 अक्टूबर तक चुकाने की बात हुई थी। सीबीआई ने 16 अक्टूबर को बिचौलिए मनोज प्रसाद को गिरफ्तार किया, जब वह बाकी के पौने दो करोड़ रुपये लेने भारत आया था।

Updated : 2018-11-02T06:56:30+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top