Top
Home > देश > अनुच्छेद 35ए को लेकर जम्मू में सरगर्मियाँ तेज

अनुच्छेद 35ए को लेकर जम्मू में सरगर्मियाँ तेज

अनुच्छेद 35ए को लेकर जम्मू में सरगर्मियाँ तेज
X

जम्मू। केंद्र सरकार ने अतिरिक्त अर्धसैनिक बलों की भारी तैनाती की और साथ ही पाकिस्तान समर्थक संगठन जमात-ए-इस्लामी के खिलाफ कार्रवाई की, जिससे मद्देनजर यहां अटकलें तेज हो गई हैं। पुलिस इस अचानक तैनाती के लिए विशिष्ट कारण बताने से बचती रही।

इसी बीच सुप्रीम कोर्ट में सोमवार को अनुच्छेद 35ए को चुनौती देने वाली एक याचिका पर सुनवाई होनी है। ऐसे में पूरी घाटी में ये अटकलें हैं कि केंद्र सरकार अध्यादेश के माध्यम से इसे हटाने जा रही है। पुलवामा हमले के बाद भारत-पाकिस्तान तनाव के बीच सुरक्षाबलों की 100 से ज्यादा टुकडियां भेजी गईं हैं।

जम्मू कश्मीर में लोगों को दवाई और जरूरी सामान घर में जमा करके रखने को कहा गया है। जम्मू कश्मीर में पेट्रोल पंपों के लिए भी आदेश जारी हुआ है, प्राइवेट गाडियों के लिए तीन लीटर पेट्रोल और 10 लीटर डीजल की सीमा निर्धारित की गई। इससे पहले घाटी में 200 से ज्यादा अलगाववादी नेता हिरासत में लिए गए। इन अलगाववादी नेताओं को कश्मीर घाटी के बाहर की जेलों में भेजा जा सकता है।

इतने बड़े पैमाने पर सुरक्षाबलों की तैनाती को लेकर स्पष्ट जानकारी सामने नहीं आई है। सुप्रीम कोर्ट में कश्मीर को विशेष पहचान देने वाले अनुच्छेद 35ए पर सुनवाई होनी है। इसके समर्थन में जम्मू-कश्मीर में प्रदर्शन होते रहे हैं। सुनवाई को देखते हुए जम्मू-कश्मीर में पुलिस और अद्र्धसैनिक बलों को हाई अलर्ट पर रखा गया है। कश्मीर में तेज हलचल के बीच पूर्व सीएम फारूक अब्दुल्ला ने गृहमंत्री राजनाथ सिंह से बात की है। उमर अब्दुल्ला ने ट्विटर पर लिखा है कि फारुक अब्दुल्ला ने गृहमंत्री राजनाथ सिंह से बात की है और बताया है कि घाटी में पैनिक की स्थिति है।

उन्होंने कहा कि लोगों में विश्वास जगाने के लिए सरकार स्टेटमेंट जारी करे व उचित कदम उठाए। उधर लड़ाकू विमानों के उडऩे की आवाज शुक्रवार की देर रात डेढ़ बजे तक सुनाई दी। शनिवार रात को भी लगातार श्रीनगर में हेलिकॉप्टर मंडराते रहे।

35ए क्या है?

अनुच्छेद 35ए प्रावधान जम्मू कश्मीर के बाहर के व्यक्ति को जम्मू-कश्मीर में अचल संपत्ति खरीदने से प्रतिबंधित करते हैं। इस प्रावधान को चुनौती देते हुए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की गई है। इसी पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होगी। जम्मू-कश्मीर की ज्यादातर पार्टियां अनुच्छेद 35ए के पक्ष में है। अनुच्छेद 35ए अनुच्छेद 370 से ही जुड़ा है।

Updated : 24 Feb 2019 5:47 AM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top