Top
Home > देश > सेना प्रमुख बोले - सरकार का आदेश मिला तो PoK पर ऐक्शन

सेना प्रमुख बोले - 'सरकार का आदेश मिला तो PoK पर ऐक्शन'

नई दिल्ली। दिल्ली में सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवाने ने कहा कि सीडीएस के गठन और सैन्य मामलों के विभाग बनाने को लेकर कहा कि सेनों के एकीकरण की दिशा में एक बहुत बड़ा कदम है और हम अपनी ओर से यह सुनिश्चित करेंगे कि यह सफल रहे। तीनों सेनाओं में तालमेल सबसे जरूरी है। उन्होंने कहा कि हमारे जवान हमारी सबसे बड़ी ताकत है और भविष्य में उनके प्रशिक्षण पर हमारा जोर रहेगा।

नरवाने ने कहा कि सेना के रूप में हम भारत के संविधान के प्रति निष्ठा की शपथ लेते हैं और वह हमें हर समय हमारे कार्यों में मार्गदर्शन करता है। सेना प्रमुख मुकंद नरवाने ने पीओके को लेकर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि एक संसदीय संकल्प है कि संपूर्ण जम्मू-कश्मीर भारत का हिस्सा है। यदि संसद यह चाहती है, तो उस क्षेत्र (PoK) को भी भारत में होना चाहिए। जब हमें इस बारे में कोई आदेश मिलेंगे, तो हम उचित कार्रवाई करेंगे।

दिल्ली में सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवाने ने सीडीएस के गठन और सैन्य मामलों के विभाग बनाने को लेकर कहा कि सेना के एकीकरण की दिशा में एक बहुत बड़ा कदम है और हम अपनी ओर से यह सुनिश्चित करेंगे कि यह सफल रहे। तीनों सेनाओं में तालमेल सबसे जरूरी है। उन्होंने यह भी कहा कि हमारे जवान हमारी सबसे बड़ी ताकत है और भविष्य में उनके प्रशिक्षण पर हमारा जोर रहेगा। चीन द्वारा सीमावर्ती क्षेत्र में किये जा रहे सैन्य बुनियादी ढांचे के विस्तार को लेकर सेना प्रमुख नरवणे ने कहा कि हम उत्तरी सीमा पर उभरी चुनौतियों से निपटने के लिए तैयार हैं।

नरवाने ने कहा कि सेना के रूप में हम भारत के संविधान के प्रति निष्ठा की शपथ लेते हैं और वह हमें हर समय हमारे कार्यों में मार्गदर्शन करता है। सेना के रूप में हम भारत के संविधान के प्रति निष्ठा की शपथ लेते हैं, संविधान में निहित न्याय, स्वतंत्रता, समानता और बंधुत्व का हमें मार्गदर्शन करना चाहिए।

पुंछ सेक्टर में पाकिस्तानी सेना द्वारा दो निहत्थे नागरिकों की हत्या के मामले को लेकर पूछे गए सवाल पर सेना प्रमुख ने कहा कि हम इस तरह की बर्बर गतिविधियों का सहारा नहीं लेते हैं और बहुत ही पेशेवर रूप में लड़ते हैं। हम सैन्य रूप से ऐसी स्थितियों से उचित तरीके से निपटेंगे।

Updated : 2020-01-11T16:24:30+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top