Top
Home > देश > अग्नि-5 के दायरे में होगा पूरा चीन, बढ़ेगा भारत का दबदबा

अग्नि-5 के दायरे में होगा पूरा चीन, बढ़ेगा भारत का दबदबा

भारत के शस्त्रागार में सबसे शक्तिशाली हथियार शामिल होने वाला है।

भारतीय सेना में जल्द शामिल होगी अग्नि-5 मिसाइल

नई दिल्ली | भारत के शस्त्रागार में सबसे शक्तिशाली हथियार शामिल होने वाला है। जल्द ही अंतर-महाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल प्रणाली 'अग्नि-5 के पहले बैच को भारतीय सैन्य बलों के सुपुर्द कर दिया जाएगा। इससे भारतीय सेना की ताकत और बढ़ जाएगी। भारत के लिए यह मिसाइल कितनी महत्वपूर्ण है, इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि 'अग्नि-5 की मारक क्षमता के दायरे में पूरा चीन आता है। ऐसे में अग्नि-5 से चीन के किसी भी इलाके को टारगेट किया जा सकेगा।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि पांच हजार किलोमीटर की मारक क्षमता वाली यह मिसाइल प्रणाली परमाणु हथियार भी ले जा सकती है। इस मिसाइल प्रणाली को स्ट्रैटिजिक फोर्सेज कमांड (एसएफसी) में शामिल करने की तैयारी है। उन्होंने बताया कि देश के सबसे अत्याधुनिक हथियार को एसएफसी को सौंपे जाने से पहले कई परीक्षण किए जा रहे हैं।

रक्षा विशेषज्ञों का कहना है कि इस मिसाइल से पेइचिंग, शंघाई, गुआंगझाऊ और हांगकांग जैसे शहरों समेत चीन के किसी भी इलाके को टारगेट किया जा सकता है। आपको बता दें कि पिछले महीने भी अग्नि-5 का ओडिशा तट से सफल परीक्षण किया गया था। सूत्रों का कहना है कि एसएफसी में शामिल किए जाने से पहले कई अन्य परीक्षण अगले कुछ हफ्तों में होने वाले हैं।

परमाणु हथियार ले जाने में है सक्षम

अग्नि-5 प्रोग्राम से जुड़े एक अधिकारी ने बताया, 'यह एक सामरिक संपत्ति है जो दूसरे देशों के लिए डिटरेंट का काम करेगी। हम इस स्ट्रैटिजिक प्रोजेक्ट के अंतिम चरण में हैं। उन्होंने कहा कि अपनी शाृंखला में यह सबसे आधुनिक हथियार है जिसमें नेविगेशन के लिए मॉडर्न टेक्नोलॉजी हैं और परमाणु हथियार ले जाने की इसकी क्षमता दूसरी मिसाइल प्रणालियों से कहीं ज्यादा बेहतर है। सूत्रों ने बताया है कि अग्नि-5 का पहला बैच जल्द ही एसएफसी को सौंप दिया जाएगा। हालांकि, उन्होंने इस परियोजना के बारे में इससे ज्यादा जानकारी देने से इनकार कर दिया। भारत के जंगी बेड़े में इस मिसाइल को ऐसे समय में शामिल किया जा रहा है जब पड़ोसी देशों से सुरक्षा चुनौतियां बरकरार हैं।

2012 में हुआ था पहला टेस्ट

अग्नि-5 का पहला टेस्ट 19 अप्रैल 2012 को किया गया था। दूसरा टेस्ट 15 सितंबर 2013, तीसरा 31 जनवरी 2015 और चौथा परीक्षण 26 दिसंबर 2016 को किया गया था। पांचवां टेस्ट 18 जनवरी को किया गया और सभी सफल रहे।

इन देशों के पास है ऐसी मिसाइल

इस समय अमेरिका, चीन, रूस, फ्रांस और उत्तर कोरिया के पास ही अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल है। फिलहाल भारत के शस्त्रागार में अग्नि-2 (रेंज-700 किमी), अग्नि-2 (रेंज 2000 किमी), अग्नि-3 और अग्नि-4 (जिसकी रेंज 2500 किमी से लेकर 3500 किमी तक) है।


Updated : 2018-07-02T18:42:30+05:30

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top