Top
Home > Archived > डेरा प्रमुख को दो रेप केस में सुनाई बीस साल की सजा, रोहतक छावनी में तब्दील

डेरा प्रमुख को दो रेप केस में सुनाई बीस साल की सजा, रोहतक छावनी में तब्दील

डेरा प्रमुख को दो रेप केस में सुनाई बीस साल की सजा, रोहतक छावनी में तब्दील

चंडीगढ़। डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को रोहतक में सीबीआई की विशेष अदालत द्वारा सोमवार को बीस साल (दो रेप केस में 10 - 10 साल) की सजा सुनाई गयी। रोहतक को सुरक्षा की दृष्टि से छावनी में तब्दील कर दिया गया है। सीबीआई की विशेष अदालत ने 25 अगस्त को डेरा प्रमुख को बलात्कार का दोषी पाया था। इसके बाद डेरा प्रमुख को गिरफ्तार कर रोहतक के सुनारिया जेल में बंद कर दिया गया है। डेरा प्रमुख को दोषी ठहराये जाने के बाद उनके समर्थक हिंसा पर उतर आये थे। इसके कारण पंचकूला में 32 और सिरसा में 6 डेरा समर्थकों की मौत हो गयी थी।

डेरा प्रमुख को सजा सुनाने के लिए रोहतक की सुनारिया जेल में ही सीबीआई की विशेष अदालत (अस्थाई कोर्ट) लगाई गई । जेल परिसर में कोर्ट सुबह दस बजे ही लग गया था। कोर्ट की कार्यवाही में भाग लेने वाले कर्मचारियों ने सजा सुनाये जाने के पहले होने वाली बहस की तैयारियां प्रारम्भ कर दी थी। दोपहर ढाई बजे के बाद डेरा प्रमुख के खिलाफ सजा सुनाई गई।

डेरा प्रमुख के खिलाफ 25 अगस्त को ऐतिहासिक फैसला सुनाने वाले जज जगदीप सिंह दोपहर एक बजे के बाद हेलीकॉप्टर से रोहतक पहुंचें। वहां पर उनके हेलीकॉप्टर के लिए जेल परिसर में पहले ही हेलीपैड बनाया गया था। जज के आने के पहले चिकित्सकों की एक टीम ने जेल में बंद डेरा प्रमुख के स्वास्थ्य की जांच की। सीबीआई की अदालत द्वारा सजा सुनाये जाने से पहले डेरा प्रमुख और सीबीआई के अधिवक्ता सजा को लेकर जज के सामने बहस की।

दूसरी तरफ, रोहतक में सुरक्षा की दृष्टि से भारी संख्या में अर्द्धसैनिक बलों को तैनात किया गया है। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (कानून एवं व्यवस्था) अकील मोहम्मद के अनुसार सीबीआई की अदालत की कार्यवाही प्रारम्भ होने तथा सजा सुनाये जाने के दौरान किसी भी प्रकार का उपद्रव नहीं होने दिया जाए इस ओर विशेष ध्यान है। उन्होंने कहा कि यदि कोई असामाजिक तत्व किसी भी प्रकार का कोई बाधा डालता है या शरारत करता है तो मौके के अनुसार सख्त कार्रवाई की जाएगी।

रोहतक में अर्द्धसैनिक बलों की 23 कम्पनियां तैनात हैं। इसके अलावा, जिला पुलिस व रैंज पुलिस के साथ-साथ बाहर से भी पुलिस बल बुलाया गया है। उन्होंने बताया कि महिला पुलिस भी पर्याप्त संख्या में तैनात की गई है। सेना को स्टैंड अप किया गया है। जरूरत पड़ने पर एक घंटे के अंदर ही सेना रोहतक पहुंच जाएगी। इसके अलावा पुलिस की अलग-अलग टीम बाबा के अनुयायियों पर नजर रखे हुए है और किसी भी तरह अनुयायियों के रोहतक में प्रवेश पर पाबंदी लगा रखी है।

इंटरनेट पर 29 तक प्रतिबंध

डेरा प्रमुख के खिलाफ अदालत द्वारा सजा सुनाये जाने के बाद कानून व्यवस्था बरकरार रखने के लिए हरियाणा सरकार ने इंटरनेट पर प्रतिबंध 29 अगस्त तक बढ़ा दिया है। यह प्रतिबंध 29 अगस्त को दिन साढ़े ग्यारह बजे तक रहेगा। सरकार द्वारा डेरा प्रमुख के खिलाफ 25 अगस्त को आने वाले फैसले को देखते हुए 24 अगस्त की रात्रि आठ बजे से ही इंटरनेट प्रतिबंधित कर दिया गया है। पूरे राज्य में ब्रॉड बैंड को छोड़कर सभी इंटरनेट सेवाएं बंद हैं।
सिरसा में अर्द्धसैनिक बलों ने संभाला मोर्चा

डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को बलात्कार के मामले में सीबीआई की अदालत द्वारा सजा सुनाये जाने के मद्देनजर सिरसा में सुरक्षा बढ़ा दी गयी है। सिरसा में जिला प्रशासन ने कर्फ्यू की समय सीमा को 48 घंटे और बढ़ा दिया है। सिरसा में 24 अगस्त की रात्रि से ही कर्फ्यू लगा हुआ है। सिरसा में 20 कंपनी अर्द्धसैनिक बल और तैनात कर दिया गया है। सिरसा में पहले ही 15 कंपनी अर्द्धसैनिक बल तथा पुलिस के साथ ही सेना की दो यूनिट तैनात है। सिरसा में डेरा मुखी का मुख्यालय है। नया और पुराना डेरा में डेरा समर्थक जुटे हुए हैं। प्रदेश सरकार के आदेश के बाद डेरे के ब्रॉड बैंड तथा इंटरनेट कनेक्शन को काट दिया गया है। सिरसा में डेरा मुख्यालय को सेना ने अर्द्धसैनिक बल और पुलिस ने पहले ही घेर रखा है।

हिंसा में मरने वालों की संख्या 38 हुई

डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम इंसा को 25 अगस्त को बलात्कार का दोषी ठहराए जाने के बाद भड़की हिंसा में मरने वालों की संख्या 38 पहुंच गई है। इसमें पंचकूला में मृतकों की संख्या 32 है और सिरसा में मृतकों की संख्या 6 है।

हरियाणा में सभी शिक्षण संस्थाएं बंद

हरियाणा के सभी शिक्षण संस्थाएं सोमवार को बंद रहेंगे। सरकार ने यह निर्णय डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को बलात्कार का दोषी ठहराए जाने के बाद सीबीआई अदालत के सुनाये जाने वाले फैसले को देखते हुए लिया है। प्रशासन का यह निर्णय सुरक्षा की दृष्टि से लिया गया है।

हाईकोर्ट में अवमानना की याचिका दाखिल

पंजाब व हरियाणा की हाईकोर्ट में सोमवार को हरियाणा के शिक्षामंत्री तथा भाजपा सांसद साक्षी महाराज के खिलाफ कोर्ट की अवमानना की याचिका दाखिल की गई है। इसके साथ ही याचिका में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख के खिलाफ सीबीआई की अदालत का फैसला आने के बाद भड़की हिंसा की सीबीआई से जांच कराने की मांग की गयी है।




Updated : 2017-08-28T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top