Top
Home > Archived > कैफियत एक्सप्रेस के 10 डिब्बे पटरी से उतरे, 75 यात्री घायल, रेल बोर्ड के चेयरमैन का इस्तीफा

कैफियत एक्सप्रेस के 10 डिब्बे पटरी से उतरे, 75 यात्री घायल, रेल बोर्ड के चेयरमैन का इस्तीफा

कैफियत एक्सप्रेस के 10 डिब्बे पटरी से उतरे, 75 यात्री घायल, रेल बोर्ड के चेयरमैन का इस्तीफा

कानपुर शताब्दी सहित 12 ट्रेनें रद्द, राजधानी सहित 51 ट्रेनों के रूट परिवर्तित
कानपुर/औरैया। रेलवे की चूक से इटावा और औरैया जनपदों के बीच अछल्दा स्टेशन के बीच मानव रहित क्रासिंग के पास डम्पर के ट्रैक पार करते समय अप लाइन पर आई कैफियत एक्सप्रेस टकरा गई। इस हादसे में गाड़ी के 10 यात्री डिब्बे पटरी से उतर गये। घटना की जानकारी मिलते ही रेलवे, जिला व पुलिस प्रशासन की टीमें मौके पर पहुंची और राहत कार्य में जुट गईं। हादसे में अभी तक किसी की मौत की पुष्टि नहीं हो सकी है।

हेल्प लाइन नंबर जारी

लखनऊ-9794830975, 0522-2237677, फैजाबाद-05278-222603, शाहगंज-9794839010, इलाहाबाद-0532-2408128, 2408149, 2407353, फतेहपुर-05180-222025, 222026, 222436,कानपुर-0512-2323015, 2323016, 2323018, टुंडला-05612-220337, 220338,220339,अलीगढ़-0571-2403458, 2403055, इटावा-05688-266382, 266383

हादसे में अभी तक किसी की मौत की पुष्टि नहीं हो सकी है। हालांकि घायलों की संख्या 75 के पार पहुंच चुकी है। घायलों का इलाज सैफई व औरैया जिला अस्पताल में चल रहा है। घटना की जानकारी मिलते ही रेलवे, जिला व पुलिस प्रशासन की टीमें मौके पर पहुंची और राहत कार्य में जुट गईं। इस बीच ख़बरों के मुताबिक रेल बोर्ड के चेयरमैन अशोक कुमार मित्तल ने रेल मंत्री सुरेश प्रभु को अपना इस्तीफा सौंप दिया है। माना जा रहा है कि उत्तर रेलवे में पिछले पांच दिनों में हुई दो बड़ी रेल घटनाओं की वजह से उन्होंने इस्तीफा दिया है। दरअसल लगातार हो रहे हादसों के बाद रेलवे पर लगातार सवाल खड़े हो रहे थे। विपक्ष लगातार केन्द्र सरकार पर निशाना साध रहा था। पूर्व रेल मंत्री लालू यादव ने तो मुजफ्फरनगर हादसे के बाद रेल मंत्री सुरेश प्रभु से भी इस्तीफा देने की मांग की थी।

इस ताजा घटना की बात करें तो कानपुर और इटावा के बीच अछल्दा स्टेशन के पास ट्रैक पर फ्रेट कॉरिडोर पर काम चल रहा था। इसी काम में लगा डंपर मानव रहित क्रासिंग पार कर रहा था। उसका चालक ट्रैक पर आ रही ट्रेन को नहीं देख सका। ट्रेन की लाइट देखते ही चालक ट्रैक पर डम्पर छोड़कर कूद गया और आजमगढ़ से दिल्ली आ रही 12225 (अप) कैफियत एक्सप्रेस डम्पर से टकराने के बाद दुर्घटनाग्रस्त हो गई। गाड़ी के 10 यात्री डिब्बे पटरी से उतर गये।

हादसे की जानकारी अछल्दा स्टेशन अधीक्षक ने तुरंत आलाधिकारियों को देते हुए ट्रैक पर ट्रेनों का परिचालन रोक दिया। हादसे की जानकारी मिलते ही रेलवे के साथ जिला व पुलिस प्रशासन के अधिकारी मौके पर पहुंचे और बोगियों में फंसे घायलों व यात्रियों को सुरक्षित निकालने के लिए राहत कार्य शुरू कराया। घायलों को उपचार के लिए औरैया जिला अस्पताल और सैफई मेडिकल कालेज भेजा गया। मामूली रूप से चोटिल हुए यात्रियों को मौके पर ही उपचार देने के लिए डाक्टरों की टीमें पहुंची और इलाज किया। इसके साथ ही तेजी से राहत कार्य शुरू किया गया।

रेलवे के एडीजी (पीआर) अनिल सक्सेना ने बताया कि दुर्घटना की वजह से ट्रेन के इंजन सहित 10 डिब्बे पटरी से उतर गए। उन्होंने इस हादसे में 75 लोगों के घायल होने की पुष्टि की। हादसे की सूचना मिलते ही रेलवे के अफसरों को मौके पर भेजा गया। उन्होंने बताया कि यह दुर्घटना तड़के करीब 2ः50 बजे हुई। इससे पहले बीते शनिवार को पुरी से हरिद्वार जाने वाली उत्कल एक्सप्रेस मुजफ्फरनगर में खतौली के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गई थी। उस हादसे में 21 लोगों की मौत हो गई थी जबकि 156 लोग घायल हुए थे। इस मामले में सख्त कदम उठाते हुए सीनियर डिविजनल इंजीनियर, असिसटेंट डिविजनल इंजीनियर, सीनियर सेक्शन इंजीनियर, जेई पाथ-वे को सस्पेंड किया जा चुका है। इसके अलावा चीफ ट्रैक इंजीनियर नार्दन रेलवे का ट्रांसफर कर दिया गया है। दिल्ली के डीआरएम, नार्दन रेलवे के जीएम और मेंबर इंजीनियर रेलवे बोर्ड को छुट्टी पर भेज दिया गया है। इसके अलावा सात कर्मचारियों को भी सस्पेंड कर दिया गया है।

घायल मरीज सदमे में

कैफियत एक्सप्रेस के बेपटरी होने के बाद घायलों का इलाज मेडिकल कॉलेज व आसपास के अस्पतालों में चल रहा है। घटना की जानकारी के तुरन्त बाद घायलों के परिजनों का अस्पताल में पहुंचना शुरू हो गया। अपनों को सही सलामत पाकर कई परिजन ईश्वर का शुक्रिया अदा करते नजर आये तो कई मरीज ऐसे है, जो अभी भी सदमे में हैं। औरेया में भर्ती घायल यात्री कुसुम सोनी के परिजनों का कहना है कि वह इतनी डरी हुई है कि मुंह से कुछ बोल नहीं पा रही है, बस आंखों से आंसू निकल रहे हैं। इसी तरह रियाज अहमद का कहना है कि वह बोगियों के बीच फंसा था, वह कैसे बचा यह उसे भी नहीं पता है। चिकित्सकों का कहना है कि कई मरीज सदमे में है, उन्हें मानसिक सांत्वना देनी होगी, ताकि वह उस भयावह घटना से निकल सके।

डम्पर चालक व ठेकेदार पर होगा मुकदमा: एडीजी

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक अविनाश चंद्र ने कहा है कि अछल्दा के पास हुए रेल हादसे के लिए जिम्मेदार डम्पर चालक और ठेकेदार के खिलाफ केस दर्ज कर सख्त कार्रवाई जाएगी। एडीजी ने कहा कि यह हादसा उस वक्त हुआ जब ट्रैक कारिडोर का काम करते समय डम्पर गड्ढे में जा पलटा। इसमें चालक की लापरवाही सामने आ रही है। उन्होंने कहा कि डम्पर चालक व काम कराने वाले ठेकेदार सहित जो भी दोषी पाये जाएंगे, उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी।

ट्रेन प्रभावित होने से रेल यात्रियों की मुश्किलें बढ़ी

ट्रेन हादसे के चलते मौके पर अप और डाउन लाइन ठप हो गई है। कानपुर शताब्दी सहित 12 ट्रेनें निरस्त कर दी गई हैं और सभी राजधानियों सहित 51 ट्रेनों के रूट बदले गए हैं। यहां पर दिल्ली-हावड़ा रूट पूरी तरह बाधित है। चार राजधानी एक्सप्रेस और गोमती एक्सप्रेस का मार्ग बदला गया है। इलाहाबाद आने वाली दर्जनों ट्रेनें प्रभावित हुई हैं। रूट बाधित होने से यात्रियों को परेशानी हो रही है।

रेलवे बोर्ड अध्यक्ष एके मित्तल ने दिया इस्तीफा

सूत्रों के मुताबिक एके मित्तल ने इस्तीफा दे दिया है। हालाँकि इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। सूत्रों के अनुसार स्वाइन फ्लू से बीमार मित्तल छुट्टी पर होने के बावजूद मंगलवार को रेल भवन में अपने कार्यालय आए और आवश्यक फाइलों पर काम निपटा कर शाम को रेल मंत्री सुरेश प्रभु को इस्तीफा सौंप दिया?

पीएमओ ने उन्हें 72 घंटे का समय दिया था। पीएमओ का तर्क है कि जब छोटे अधिकारी नप सकते हैं तो बोर्ड के मुखिया को अब तक क्यों नहीं हटाया गया है?
गौरतलब है कि रेल मंत्रालय ने आरंभिक जांच एवं सबूतों के आधार पर रेलवे बोर्ड में सदस्य (इंजीनियरिंग) आदित्य कुमार मित्तल, उत्तर रेलवे के महाप्रबंधक आर एन कुलश्रेष्ठ और दिल्ली के मंडल रेल प्रबंधक (डीआरएम) आर एन सिंह को छुट्टी पर भेज दिया है। उत्तर मध्य रेलवे के महाप्रबंधक एम सी चौहान को उत्तर रेलवे के महाप्रबंधक का तथा रेलवे बोर्ड में कार्यकारी निदेशक (टेलीकॉम) अंशुल गुप्ता को दिल्ली के डीआरएम का कार्यभार सौंपा गया है।

वहीं उत्तर रेलवे के मुख्य ट्रैक अभियंता आलोक अंसल का तबादला कर दिया गया है जबकि दिल्ली के वरिष्ठ मंडल अभियंता आर के वर्मा, सहायक अभियंता मेरठ रोहित कुमार, वरिष्ठ खंड अभियंता मुजफ़्फरनगर इंदरजीत सिंह और कनिष्ठ अभियंता खतौली प्रदीप कुमार को निलंबित किया गया है।

Updated : 2017-08-23T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top