Top
Home > Archived > सोनिया और राहुल से कांग्रेसियों का हुआ ‘मोहभंग’

सोनिया और राहुल से कांग्रेसियों का हुआ ‘मोहभंग’

सोनिया और राहुल से कांग्रेसियों का हुआ ‘मोहभंग’
X

होर्डिंग्स व पोस्टरों से फोटो तक हुए गायब

ग्वालियर। कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी और राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी के प्रति अब कांग्रेसियों का मोहभंग होता नजर आ रहा है, शायद यही कारण है कि कांग्रेस के आयोजनों के लिए बनने वाले होर्डिंग्स, बैनर व पोस्टरों से अब इनके फोटो तक गायब हो गए हैं। ऐसा ही नजारा सोमवार को फूलबाग चौराहे पर कांग्रेस के 24 घण्टे के सत्याग्रह आंदोलन के दौरान नजर आया, जबकि इस कार्यक्रम के लिए बनवाए गए होर्डिंग्स व पोस्टरों पर से पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व उपाध्यक्ष के फोटो नदारद रहे।

उल्लेखनीय है कि प्रदेश में अगले वर्ष होने वाले विधानसभा चुनावों को नजदीक देखकर कांग्रेस ने अपने आंदोलनों को तेज कर दिया है, और टिकट की चाह मन में पाले कांग्रेसी अपनी दावेदारी जताने के लिए बढ़-चढ़कर आंदोलन व कार्यक्रम करने में लगे हुए हैं। इसी कड़ी में कांग्रेस के युवा नेता मितेंद्र सिंह द्वारा युवाओं को रोजगार दिलाने की मांग के नाम पर अपनी राजनीति चमकाने के उद्देश्य से सोमवार को फूलबाग चौराहे पर 24 घण्टे का युवा क्रांति सत्याग्रह आंदोलन की शुरूआत की। जिसके लिए आयोजन स्थल के इर्द-गिर्द बहुतायत में होर्डिंग्स व पोस्टर लगाए गए हैं, लेकिन इन होर्डिंग्स व पोस्टरों पर से कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी के फोटो गायब पाकर उन्हें देखने वाले अधिकांश लोग भौंचक्के रह गए। सत्याग्रह स्थल पर लगे होर्डिंग्स व पोस्टरों में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, पूर्व केंद्रीय मंत्री स्व. माधवराव सिंधिया, गुना-शिवपुरी सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया, पूर्व जिलाध्यक्ष स्व. दर्शन सिंह एडवोकेट, पूर्व विधायक रमेश अग्रवाल व कार्यक्रम संयोजक मितेंद्र सिंह के फोटो तो हैं, लेकिन इन पर से पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष व उपाध्यक्ष के फोटो गायब हैं।

भूल अथवा नाराजगी

सत्याग्रह आंदोलन के होर्डिंग्स व पोस्टर पर से पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष-उपाध्यक्ष के फोटो गायब होने को लेकर लोगों में तरह-तरह की चर्चाओं का बाजार गर्म रहा, कुछ लोग इसे नादानी में हुई भूल करार दे रहे थे, तो वहीं राजनैतिक पण्डितों का मानना है कि यह सब भूलवश नहीं हुआ है, बल्कि सोनिया व राहुल के प्रति कांग्रेस के युवा खेमे में खासा आक्रोश व्याप्त है, जिसे दर्शाने के लिए जान-बूझकर इन होर्डिंग्स व पोस्टरों पर से उनके फोटो गायब कर दिए गए हैं। दरअसल दिनों-दिन पार्टी की हो रही दुर्दशा से अधिकांश कांग्रेसी न सिर्फ आहत हैं, बल्कि उनमें पार्टी के शीर्षस्थ नेतृत्व के प्रति भी काफी नाराजगी व्याप्त है, और वह अब संगठन में आमूलचूल परिवर्तन चाहते हैं। राजनैतिक पण्डितों के मुताबिक होर्डिंग्स व पोस्टरों पर से राष्ट्रीय अध्यक्ष व उपाध्यक्ष के फोटो गायब होने के पीछे भी संभवत: यही कारण है।

परिवारवाद खत्म करने की सुगबुगाहट शुरू

देश से भले ही राजशाही समाप्त होकर लोकतंत्र की बहाली हो गई हो, लेकिन आजादी के बाद से ही कांग्रेस में परिवारवाद की परम्परा चलन में रही है, जो पार्टी के शीर्ष नेतृत्व में आज भी जारी है। पुराने कांग्रेसी तो आस्था के वशीभूत होकर इस परिवारवाद की खिलाफत करने की जुर्रत नहीं कर पाते हैं, लेकिन युवा वर्ग इस परिवारवाद की राजनीति को हजम नहीं कर पा रहा है, युवा वर्ग का मानना है कि दिनोंदिन पार्टी की गिरती साख के लिए भी काफी हद तक यह परिवारवाद ही जिम्मेदार है, और जब देश में लोकतंत्र की बहाली हो गई है, तो फिर पार्टी में यह परिवारवाद आखिर क्यों चल रहा है, इसे भी समाप्त होना चाहिए। यही कारण है कि कांग्रेस पार्टी से जुडा युवावर्ग अब परिवर्तन की मांग करते हुए परिवारवाद की खिलाफत पर उतर आया है, जिस कारण वह पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष-उपाध्यक्ष मां-बेटे का भी बहिष्कार कर रहा है।

क्या सचमुच मनहूस हैं अध्यक्ष-उपाध्यक्ष

कांग्रेस जिस तरह पतन की ओर अग्रसर होती जा रही है, उसे देखकर तमाम कांग्रेसी पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी व उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर मनहूस होने का ठप्पा लगाने से भी नहीं चूक रहे हैं, उनका मानना है कि मां-बेटे दोनों ही पार्टी के मनहूस हैं, और जहां भी उनकी छाया पड़ जाती है, वहां से पार्टी का सूपड़ा साफ हो जाता है, अत: अब यदि जल्दी ही संगठन में राष्ट्रीय स्तर पर बदलाव नहीं हुआ, तो पार्टी का डूबना तय है। यह मानसिकता घर कर लेने के कारण भी कुछ कांग्रेसी सोनिया व राहुल से कन्नी काटने लगे हैं। बहरहाल पर्दे के पीछे का कारण चाहे कुछ भी हो, लेकिन होर्डिंग्स व पोस्टरों पर से राष्ट्रीय अध्यक्ष व उपाध्यक्ष के फोटो गायब होना पार्टी के भीतर चल रही कलह अवश्य उजागर कर रहा है, जिसे कांग्रेस के लिए शुभ कतई नहीं माना जा सकता है। वहीं सूत्रों के मुताबिक कुछ कांग्रेसियों ने होर्डिंग्स पर से राष्ट्रीय अध्यक्ष-उपाध्यक्ष के फोटो गायब होने की सूचना भोपाल से लेकर दिल्ली तक पहुंचा दी है, अब देखना यह है कि संगठन इस मामले में आगे क्या कदम उठाता है।

Updated : 2017-08-22T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top