Top
Home > Archived > सिंधिया का सत्याग्रह : सरकार पर जम कर बरसे सिंधिया, लेकिन सत्याग्रह सुर्खियां नहीं बटोर पाया

सिंधिया का सत्याग्रह : सरकार पर जम कर बरसे सिंधिया, लेकिन सत्याग्रह सुर्खियां नहीं बटोर पाया

सिंधिया का सत्याग्रह :  सरकार पर जम कर बरसे सिंधिया, लेकिन सत्याग्रह सुर्खियां नहीं बटोर पाया
X

भोपाल में 72 घंटों के सत्याग्रह पर ज्योतिरादित्य सिंधिया 14 जून को बेठे थे, दूसरे दिन सरकार पर जम कर बरसे, अनशन पर बैठे पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया का यह सत्याग्रह सुर्खियां नहीं बटोर पाया।। जून को जब गुना से सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया किसानों से मिलने मंदसौर जा रहे थे, तो किसानों से मिलने से पहले ही उनको गिरफ़्तार कर लिया गया था। लेकिन कुछ वक्त बाद ही उनको रिहा भी कर दिया गया। किसानों से न मिलने देने पर सिंधिया ने सरकार पर हिटलरशाही का आरोप लगाया।

दूसरे दिन सिंधिया के समक्ष किसान संगठनों एवं किसान नेताओं ने अपनी परेशानियाँ व्यक्त की एवं अपनी मांगे रखी। सिंधिया ने विशवास दिलाया की हम अपने अन्नदाताओं से पूर्णरूप में सहमत है और एक रूप रेखा के अंतर्गत उनकी मांगो को नियमित रूप से सरकार के सामने उठाएँगे।
पिछले कुछ दिनों में किसानों का आंदोलन तेज़ी से बढ़ा है, जिसका केन्द्र मंदसौर रहा है। छः किसानों की मृत्यु से ये आंदोलन और तेज़ी से भड़का। इस बीच विपक्ष ने भी इस आंदोलन को बड़ा मुद्दा बनाया। सबसे पहले राहुल गाँधी, उसके बाद आम आदमी पार्टी के नेता और हार्दिक पटेल किसानों से मिलने पहुँचे लेकिन किसी को भी किसानों से नहीं मिलने दिया गया।

Updated : 2017-06-16T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top