Top
Home > Archived > सामने आया सच, विपक्ष ने ही लगाई आग

सामने आया सच, विपक्ष ने ही लगाई आग

सामने आया सच, विपक्ष ने ही लगाई आग
X

आखिर किसान आंदोलन को कौन दे रहा है हवा!

भोपाल। प्रदेश में पिछले कई दिनों से लगातार किसान आंदोलन ने जहां एक तरफ आम जनजीवन को अस्त-व्यस्त करके रख दिया है तो वहीं दूसरी तरफ पूरे घटनाक्रम ने सियासी तूफान भी खड़ा कर दिया है। ऐसे में सवाल उठ रहा कि अपनी कुछ मांगों को लेकर सड़कों पर उतरे इन किसानों के आंदोलन के उग्र होने के पीछे क्या कांग्रेस की ओर से हवा देना कारण है? यह बात उठना इसलिए लाजमी है क्योंकि किसानों के प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा के बीच कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने पूरे मामले को राजनीतिक तूल देने की कोशिश की तो वहीं अब लगातार कांग्रेस नेताओं के भड़काऊ बयान देने वाले वीडियो भी सामने आ रहे हैं। भड़काऊ बयान देने के मामले में कांग्रेस के जिन नेताओं के नाम सामने आ रहे हैं उनमें कांग्रेस नेता और रतलाम के जिला उपाध्यक्ष डीपी धाकड़ और शिवपुरी से कांग्रेस विधायक शकुंतला खटीक शामिल हैं। एक वीडियो में शकुंतला खटीक पुलिस थाने को जलाने के लिए लोगों को उकसाती हुई साफ तौर पर दिख रही हैं। शकुंतला खटीक कांग्रेस के सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया की करीबियों में गिनी जाती हैं। जबकि, एक अन्य वीडियो में डीपी धाकड़ दिखाई पड़ रहे हैं। उनके तीन जून को दिए भाषण के अगले ही दिन रतलाम में हिंसा भड़क उठी थी। उसके बाद से लगातार डीपी धाकड़ फरार चल रहे हैं। भारतीय जनता पार्टी मंदसौर से शुरू हुई हिंसा के बाद ही विपक्षी दल कांग्रेस को कसूरवार ठहरा रही है।


इंदौर-भोपाल हाइवे पर फूंके कई वाहन

किसान आंदोलन की आंच आज भोपाल तक पहुंच गई। इंदौर- भोपाल हाईवे पर फंदा में किसानों ने चक्काजाम कर दिया। जब पुलिस ने उन्हे हटाने का प्रयास किया तो किसान उग्र हो गए और उन्होंने पुलिस पर पथराव कर दिया। किसानो ने कई वाहनों को आग के हवाले कर दिया। किसानों की इस हिंसा से भोपाल- इंदौर हाइवे पूरी तरह बंद रहा। फंदा में चक्काजाम कर रहे किसानों को जब पुलिस ने हटाने का प्रयास किया तो किसान पथराव पर उतर आए। अचानक हुए पथराव से पहले तो पुलिस को पीछे हटना पड़ा । इस बीच किसानों ने दो बसों को रोक लिया और उसे आग लगाने का प्रयास किया। हालात बिगड़ते देख पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े और लाठी चार्ज कर किसानों को खदेड़ दिया। किसानों का नेतृत्व कर रहे कांग्रेस नेता अवनीश भार्गव को भी गिरफ्तार कर लिया। पीछे हटे किसानो ने दो पहिया वाहनों में आग लगा दी। शुक्रवार की सुबह मंदसौर में एक किसान की और मौत हो गई। बताया जा रहा है कि किसान पुलिस पिटाई में घायल हुआ था। इस बीच कर्फ्यू में सुबह 10 से शाम छह बजे तक ढील दी गई है। इस दौरान बाजार और पेट्रोल पंप खुले रहे। वहीं शाजापुर में हिंसा होने की खबर है चार पहिया वाहन को किसानों ने आग लगा दी गैरखेड़ी गांव मे शराब ठेकेदार की जीप को लोगो ने फूंक दिया जिसमें दो लोग घायल हो गए ।

Updated : 2017-06-10T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top