Top
Home > Archived > अब किया जायेगा wi-fi सिग्नल से होलोग्राफिक मैप तैयार

अब किया जायेगा wi-fi सिग्नल से होलोग्राफिक मैप तैयार

अब किया जायेगा  wi-fi सिग्नल  से होलोग्राफिक मैप तैयार

होलोग्राफिक नक्शे बनाने के लिए वाई-फाई रेडिएशन का उपयोग करना, इमारतों में खोयी वस्तुओं को ढूंढ़ने और-बचाव अभियानों आदि के लिए भी इनका इस्तेमाल किया जा सकता है।

जर्मनी के Munich तकनीकी विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने इसी तरह के तरीके के साथ एक जबरदस्त तरकीब ढूंढ निकाली है। वे वाई-फाई संकेतों के माइक्रोवेव रेडिएशन का इस्तेमाल करते हुए इमारतों के अंदर का होलोग्राफिक नक्शा बना सकते हैं।

प्रोजेक्ट पर काम करने वाले एक स्नातक छात्र Philipp Holl ने डिजिटल ट्रेन्डर्स को बताया, "हमारा काम Router या फोन जैसे उपकरणों से एक three-dimensional तस्वीर बनाने के लिए रेडिएशन का इस्तेमाल करना है," "मूल रूप से, प्रत्येक डिवाइस अलग रंग के लाइट बल्ब के रूप में काम करता है और इसके एन्वॉयरमेंट को लाइट अप करता है। विज़िबल स्पेक्ट्रम की तुलना में माइक्रोवेव रेडिएशन की लंबी वेवलेंथ के कारण, वाई-फाई सिग्नल कई मैटेरियल्स के माध्यम से गुजर सकता है। ये रेडिएशन दीवारों से भी गुजर सकती हैं।

जबकि पिछले प्रोजेक्ट में मोशन को डिटेक्ट करने के लिए और 2D वाई-फाई रेडिएशन का इस्तेमाल किया गया था। Philipp Holl ने कहा कि Munich की तकनीकी विश्वविद्यालय की टीम पूरी तरह से three-dimensional पिक्चर के लिए इसका इस्तेमाल करती है।

इस तकनीक का एक स्मार्ट फैक्ट्री में टैग किए गए ऑब्जेक्ट्स या टूल्स के सेंटीमीटर की सटीक इनडोर ट्रैकिंग के लिए भी किया जा सकता है, "उन्होंने जारी रखते हुए आगे कहा कि "इसका इमारतों या संरचनाओं के 3 डी स्कैन बनाने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, एक ड्रोन या एक ट्रक जो एक बड़े क्षेत्र को जल्दी से मैप करने के लिए ऐन्टेना के एक Array का इस्तेमाल करता है। लेकिन इस तरह के स्कैन का उपयोग सरल सेटअपों के साथ ट्रैकिंग सटीकता में सुधार करने के लिए या ट्रांसमिटिंग devices को रखने के लिए एक ऑप्टीमल लोकेशन को खोजने के लिए भी किया जा सकता है।

हिमस्खलन या भूकंप से दफन लोगों को खोजने के लिए इसी की तरह के सेटअप का उपयोग खोज और बचाव उपकरण के रूप में भी किया जा सकता है। उन सभी को खोजने के लिए यह जरूरी है कि व्यक्तियों के फ़ोन में इसे स्विच किया जाए।

वर्तमान में, टीम ने इस तकनीक का परीक्षण करने के एक तरीके के रूप में, आसानी से देखने वाली संरचनाओं, जैसे एल्यूमीनियम क्रॉस का इस्तेमाल किया है। अब, वे वास्तविक इमारतों की होलोग्राफिक छवियों को बनाकर यह पता लगाना हैं कि किस मैटेरियल के माध्यम से देखना आसान है,और किस मैटेरियल के माध्यम से समस्याएं हो सकती हैं।

Updated : 2017-05-09T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top