Top
Home > Archived > अमानतु्ल्लाह के खिलाफ विधायकों ने खोला मोर्चा, की कार्रवाई की मांग

अमानतु्ल्लाह के खिलाफ विधायकों ने खोला मोर्चा, की कार्रवाई की मांग

अमानतु्ल्लाह के खिलाफ विधायकों ने खोला मोर्चा, की कार्रवाई की मांग

नई दिल्ली। एमसीडी चुनाव में करारी हार के बाद आम आदमी पार्टी के नेताओं द्वारा की जा रही बयानबाजी पर अब मुख्यमंत्री और पार्टी संयोजक अरविंद केजरीवाल ने सख्त रुख अपना लिया है। उन्होंने पार्टी के नेताओं को कड़ी हिदायत दी है कि वे इस तरह की बयानबाजी न करें। सूत्रों के मुताबिक, केजरीवाल ने इसे लेकर एक अहम बैठक भी बुलाई है। माना जा रहा है कि केजरीवाल का यह आदेश पार्टी नेता कुमार विश्वास और विधायक अमानतुल्ला खान के लिए है। इस बीच सूत्र यह भी बता रहे हैं कि करीब दो दर्जन पार्टी विधायकों ने विधायक अमानतुल्ला पर कार्रवाई की मांग की है।

बता दें कि अमानतुल्ला ने कुमार पर आरोप लगाया था कि वह केजरीवाल को हटा कर पार्टी पर कब्जा करने की साजिश रच रहे हैं। अमानतुल्ला ने कुमार पर ये आरोप पार्टी एमसीडी में पार्टी की हार के बाद पार्टी की नीतियों पर सवाल खड़े किए जाने के बाद लगाए थे। सूत्र बता रहे हैं कि दोनों नेताओं को पार्टी की ओर से कड़ी चेतावनी दी गई है कि वह मीडिया के कैमरों के सामने बयान देने के बजाय पार्टी की बैठकों में अपनी बात कहें। अमानतुल्ला खान ने रविवार को कुमार विश्वास पर आरोप लगाते हुए कहा था कि विश्वास ने कुछ विधायकों से 30-30 करोड़ रुपये के बदले भाजपा में शामिल होने के लिए कहा है। खान ने वॉट्सऐप पर एक संदेश जारी करके कहा था कि विश्वास ने कुछ आप विधायकों को बीजेपी की तरफ से इस पेशकश के साथ अपने घर बुलाया है।

हालांकि खुद केजरीवाल ने एक ट्वीट करके विश्वास से अनबन की अफवाहों का खंडन किया था। ट्वीट में उन्होंने लिखा था, ‘कुमार मेरा छोटा भाई है। कुछ लोग हमारे बीच दरार दिखा रहे हैं, ऐसे लोग पार्टी के दुश्मन हैं। वे बाज आएं। हमें कोई अलग नहीं कर सकता।’ कुमार ने भी एक ट्वीट को रीट्वीट करते केजरीवाल का साथ कभी न छोडऩे की बात कही थी।


बता दें कि एमसीडी चुनाव में पार्टी की करारी हार के बाद कुमार विश्वास ने पार्टी की कई नीतियों की आलोचना की थी। शुक्रवार को एक टीवी साक्षात्कार में उन्होंने कहा था कि पार्टी दिल्ली नगर निगम चुनाव में खराब प्रदर्शन के बाद अपने नेतृत्व परिवर्तन पर विचार करने में नहीं हिचकेगी। उन्होंने कहा था कि चुनावी हार के लिए पूरी तरह ईवीएम को दोष देना गलत है, क्योंकि जनता में पार्टी को लेकर अविश्वास है। गौरतलब है कि कुमार विश्वास को लेकर कई बार इस तरह बातें सामने आती रही हैं कि वह भाजपा जॉइन कर सकते हैं। कुमार ने हमेशा इन बातों को निराधार बताया है।

Updated : 2017-05-01T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top