Top
Home > Archived > हेरीटेज भवन के रूप में संरक्षित होगा 132 वर्ष पुराना कलेक्ट्रेट

हेरीटेज भवन के रूप में संरक्षित होगा 132 वर्ष पुराना कलेक्ट्रेट

हेरीटेज भवन के रूप में संरक्षित होगा 132 वर्ष पुराना कलेक्ट्रेट
X

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पिछले दिनों रीवा के नवीन कलेक्ट्रेट भवन का लोकार्पण किया था। सोमवार को प्रदेश के उद्योग मंत्री राजेन्द्र शुक्ल यहां पहुंचे। इस भवन की भव्यता से अभिभूत मंत्री ने कहा कि नवीन भवन की वास्तुकला अपने आप में अनूठी है। इस भवन के बन जाने से रीवा की खूबसूरती में चार चाँद लग गये हैं।

आधुनिक तकनीक से बना भवन पूर्णत: प्रदूषणरहित

उद्योग मंत्री ने कहा कि रीवा के पुराने कलेक्ट्रेट के करीब 13 हजार वर्ग मीटर भू-खण्ड में 7800 वर्ग मीटर में कर्नाटक विधानसभा भवन की तर्ज पर आधुनिक तकनीक से बना यह 3 मंजिला भवन पूरी तरह प्रदूषणरहित है। भवन परिसर में लगभग 4500 वर्ग मीटर में 4 बड़े तथा 4 छोटे उद्यान बनाये गये हैं। भवन की लागत करीब 1362.78 लाख रुपये है। इसके अलावा कार्यालय के फर्नीचर और आंतरिक सज्जा पर 2 करोड़ 17 लाख रुपये व्यय किये गये हैं। लगभग 132 वर्ष पुराने कलेक्ट्रेट भवन को हेरीटेज भवन के रूप में संरक्षित रखा जायेगा।
नवीन कलेक्ट्रेट भवन ग्रीन बिल्डिंग के रूप में रहेगा। इसकी छत पर 200 किलोवॉट का अत्याधुनिक सोलर पॉवर प्लांट लगाया गया है। इससे सम्पूर्ण परिसर में नि:शुल्क विद्युत आपूर्ति रहेगी। साथ ही भवन में रेन वाटर हार्वेस्टिंग भी की गयी है जिससे वर्षा के जल को पुन: प्रयोग में लाया जा सके। नवीन भवन में आम नागरिकों की सेवाओं से सीधे संबंधित 18 महत्वपूर्ण विभाग एक ही छत के नीचे कार्यरत रहेंगे। कलेक्ट्रेट में सिंगल विंडो सिस्टम की भी व्यवस्था की गयी है।

भवन में आधुनिक सुविधाओं से युक्त एक वृहत सभागार, उच्च तकनीक से युक्त वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कक्ष तथा हाई सिक्यूरिटीयुक्त कोषालय, स्ट्रांग-रूम के अलावा अत्याधुनिक सायबर रिकार्ड-रूम भी बनाया गया है। सम्पूर्ण भवन सीसीटीवी कैमरे की निगरानी में रहेगा। भवन में पान, गुटका, तम्बाकू का सेवन प्रतिबंधित किया गया है। सेवन करते पाये जाने पर संबंधित पर आर्थिक दण्ड लगाया जायेगा। भवन में दिव्यांगों के लिये बाधारहित विशेष व्यवस्थाएँ रहेंगी।

Updated : 2017-04-17T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top