Top
Home > Archived > हत्यारोपी पर हमले की आशंका से पुलिस के उड़े होश

हत्यारोपी पर हमले की आशंका से पुलिस के उड़े होश

आगरा। सिकंदरा के अरसेना में आगरा कैनाल में चार दिन पहले मिली लाश ममता की थी। दिल्ली के छतरपुर निवासी ममता को सिक्योरिटी एजेंसी चलाने वाले उसके परिचित ने सात लाख रुपये के विवाद में हत्या करके फेंका था। शुक्रवार शव की शिनाख्त करने पहुंचे परिजनों के साथ हरियाणा पुलिस हत्यारोपी को भी लेकर आयी थी। पोस्टमार्टम गृह पर हमले की आशंका से हत्यारोपी दहशत में रहा। हरियाणा पुलिस के जवान वर्दी और सादे कपड़ों में उसे अपने सुरक्षा घेरे में लिए रहे।

मिली जानकारी के अनुसार ममता पत्नी जितेंद्र ने सिक्योरिटी एजेंसी चलाने वाले परिचित धर्मेद्र सिंह को कुछ साल पहले सात लाख रुपये उधार दिए थे। वह खुद भी सिक्योरिटी एजेंसी में साझीदार थीं। बाद में धर्मेद्र से विवाद होने पर उन्होंने अपनी रकम लौटाने की कहा तो उसने ममता को रास्ते से हटाने का फैसला किया। आठ अप्रैल को ममता घर से फरीदाबाद अपनी सहेली के पास जाने की कहकर गई थीं। उसके बाद नहीं लौटी तो परिजन उनकी खोजबीन करते सहेली के यहां पहुंचे। उन्होंने फरीदाबाद के थाना सेक्टर सात में ममता की गुमशुदगी दर्ज कराई। पुलिस ने छानबीन की तो शक परिचित धर्मेद्र पर गया, उसे हिरासत में लेकर पूछताछ की तो सच उगल दिया। पुलिस को बताया कि आठ अप्रैल को ममता फरीदाबाद आईं थीं। जानकारी होने पर उसे बातचीत के बहाने कार में बैठाकर आगरा लेकर आया। यहां सिकंदरा क्षेत्र में उसका गला काटने के बाद लाश को नहर में फेंक दिया। जिन चीजों से उसकी पहचान हो सकती थी, वह सब अपने साथ ले गया।पुलिस हत्यारोपी को घटनास्थल पर लेकर आई थी। इसके बाद पोस्टमार्टम गृह पर लेकर पहुंची। यहां ममता के परिवार के सात-आठ लोग मौजूद थे। धर्मेद्र को देखकर उनमें आक्रोश फैल गया। हमले की आशंका के चलते पुलिस ने हत्यारोपी को गाड़ी से बाहर नहीं निकाला। कड़े सुरक्षा घेरे में रखा, करीब तीन घंटे तक तनाव की स्थिति रही। दोपहर करीब चार बजे परिजनों द्वारा शव अपनी सुपुर्दगी में लेकर रवाना होने के बाद पुलिस ने राहत की सांस ली। आखिरी कॉल से पकड़ा गया हत्यारा ममता की हत्या के बाद धर्मेद्र उसकी पहचान होने के सभी साक्ष्य अपने साथ ले गया था। मृतका का मोबाइल भी उसके पास था। पुलिस ने ममता की कॉल डिटेल निकाली तो उसमें आखिरी बार उसकी धर्मेद्र से बातचीत हुई थी। उसके मोबाइल की लोकेशन आगरा में थी। यहीं से पुलिस को उस पर शक हुआ।

Updated : 2017-04-15T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top