Top
Home > Archived > अब खूंटे पर ही पशुओं का इलाज करेगी उप्र सरकार

अब खूंटे पर ही पशुओं का इलाज करेगी उप्र सरकार

अब खूंटे पर ही पशुओं का इलाज करेगी उप्र सरकार

-मुख्यमंत्री पशुधन आरोग्य पूर्ण निःशुल्क योजना ला रही है योगी सरकार
-केबिनेट मंत्री प्रो. बघेल ने स्वदेश से विशेष वार्ता में दी जानकारी
आगरा। आमतौर पर माना जाता है कि भैंस के मुकाबले गाय और वह भी यदि देशी हो तो दूध कम देती है। हमारे समाज में गाय के नाम पर राजनीति और हो-हल्ला तो करने वाले तो रोजना दिख जाते हैं लेकिन, यह देखने वाले कम ही हैं कि महानगरों की गलियों से लेकर बाजारों तक ना जाने कितनी गायें रोजना अपनी भूख मिटाने के लिए प्लास्टिक, कूड़ा, कील व कांच तक खाकर अपने अस्तित्व और अपने अमृतमय दुग्ध की शक्ति को नष्ट कर रही हैं। सरकारें आती जाती रहीं और दूध उपलब्धता के मामले में प्रदेश पिछड़ता रहा। परिवेश बदला और दूध देने वाली नस्लों विशेषतः गौ वंश के संरक्षण की उम्मींद एक बार रंग लाती दिख रही है। योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में उप्र सरकार जल्द ही मुख्यमंत्री पशुधन अरोग्य पूर्ण निःशुल्क योजना प्रदेशवासियों को समर्पित करने जा रही है, जिससे पशुओं की चिकित्सा व चारा उन्हें समय से उपलब्ध होगा।
उप्र में पशुओं के इलाज के लिए जल्द ही कॉल सेंटर और पॉलीक्लीनिक खोले जाने की तैयारी प्रदेश का पशुधन विभाग कर चुका है। शनिवार को स्वदेश से विशेष वार्ता में उप्र के पशुधन, मत्स्य एवं लघु सिंचाई मंत्री प्रो. एसपी सिंह बघेल ने कहा कि पशुओं की नस्ल सुधार के अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में पशु चिकित्सालयों की बदहाल स्थिति और पशुचिकित्सकों की कमी को दूर करने के लिए इसी वर्ष 195 के आस-पास पॉलीक्लिनिक खोले जाएंगे, जहां पर पशुओं के इलाज, गर्भाधान, वैक्सीनेशन के साथ ही नए खोल जाने वाले पशुचिकित्सालयों में एक्स-रे मशीन, पशुओं के ऑपरेशन भी किए जाएंगे।
गांवों में चलंेगी पशु चिकित्सा मोबाइल वैन
प्रो. बघेल ने बताया कि गांववासियों को अब अपने पशुओं के इलाज के लिए इधर-उधर नहीं भटखना पड़ेगा। सरकार मोबाइल वैन के द्वारा कृत्रिम गर्भाधान, टीकाकरण और चिकित्सकों की टीम के साथ पशुओं का इलाज व दुग्ध उत्पादन की तकनीक के बारे में पशुपालकों को बताएंगे। साथ ही किसानों को पशुपालन की जानकारी देने हेतु एक टोल फ्री नंबर की शुरुआत की जाएगी। उन्होंने बताया कि विभाग ने लगभग 600 मोबाइल वेटेनरी वैन का इंतजाम किया है, जो अलग-अलग गाँवों में जाकर पशुओं का इलाज करेंगी।
दुधारू पशुओं के कटान पर गिरेगी गाज
प्रो. बघेल ने कहा कि सरकार देशी गायों के संरक्षण और संवर्धन पर ज्यादा ध्यान देगी। कहीं पर भी दूध देने वाले पशुओं के कटान की खबर मिलेगी तो अधिकारियों पर कार्रवाही होगी। साथ ही पशुओं की तस्करी, चरागाह पर होने वाले कब्जे को रोकने के लिए जिलाधिकारियों से कहा जाएगा।
आवारा पशुओं के लिए बनेंगी शालाएं
महानगरों में अगर किसी पशुपालन ने अपने पशुओं को केवल दूध निकालने के लिए पाला है तो उन पर कार्रवाही होगी। आवार पशुओं को पकड़कर उनके लिए चारे की व्यवस्था करते हुए उन्हें नगर निगम के अंतर्गत संचालिक शालाओं में रखा जाएगा। साथ ही नई गौशालाएं भी खोली जाएंगी। सरकार दुग्ध उत्पादन बढ़ाने के लिए उम्दा नस्ल विकसित कर पौष्टिक चारा, खली, मिनरल मिक्सचर व दवाएं आदि समय से उपलब्ध कराएगी।

Updated : 2017-04-13T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top