Top
Home > Archived > दाई के भरोसे लधेड़ी प्रसूति गृह, प्रसूताओं को किया जा रहा रैफर

दाई के भरोसे लधेड़ी प्रसूति गृह, प्रसूताओं को किया जा रहा रैफर

दाई के भरोसे लधेड़ी प्रसूति गृह, प्रसूताओं को किया जा रहा रैफर
X

ग्वालियर| लधेड़ी स्थित प्रसूती गृह स्वास्थ्य अधिकारियों के आदेशों के बाद चालू कर तो दिया गया, लेकिन अस्पताल में पर्याप्त संसाधन व स्टॉफ उपलब्ध न होने के कारण प्रसूताओं को वापस लौटा दिया जाता है। प्रसूती गृह सिर्फ एक दाई के भरोसे ही छोड़ दिया गया है, अस्पताल की व्यवस्थाएं देख कर ऐसा बिलकुल नहीं कहा जा सकता कि यहां प्रसव सुविधा उपलब्ध है। फिर भी स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी व्यवस्थाएं दुरूस्त होने की बात कर रहे हैं, जबकि स्थिति यह है कि प्रसूती गृह सिर्फ नाम बन कर रह गया है।

जानकारी के अनुसार लधेड़ी प्रसूती गृह में प्रसव सुविधा शुरू कराने के आदेश उच्च शिक्षा मंत्री जयभान सिंह पवैया ने स्वास्थ्य महकमे को दिए थे, जिस पर स्वास्थ्य महकमे ने उनके आदेशों का पालन करते हुए प्रसव सुविधा शुरू तो कराई, लेकिन ऐसी कोई भी व्यवस्था व संसाधन नहीं उपलब्ध कराए, जिससे किसी प्रसूता का प्रसव हो सके। इतना ही नहीं इन दिनों प्रसूती गृह सिर्फ एक दाई के ही भरोसे संचालित हो रही है। जब लधेड़ी प्रसूती गृह की व्यवस्थाओं का जायजा लिया गया तो सामने आया कि दोपहर एक बजे के बाद प्रसूती गृह में न तो कोई सफाई कर्मचारी रहता है और न ही कोई नर्स। इसके साथ ही अस्पताल में पहुंच रहीं महिलाओं को सिर्फ ओपीडी के समय पर ही उपचार उपलब्ध हो पाता है। ओपीडी के समय के बाद अगर प्रसूता प्रसव के लिए पहुंचती है तो उसे दाई द्वारा वापस लौटा दिया जाता है। अस्पताल के चिकित्सकों ने स्वास्थ्य महकमे के अधिकारियों के दवाब में आकर विगत दिवस एक महिला का प्रसव भी कराया था, लेकिन एक प्रसव कराने के बाद अस्पताल के चिकित्सा अधिकारी ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एस.एस. जादौन को पत्र लिखते हुए अस्पताल में व्याप्त अव्यवस्थाओं को दूर करने की बात कही थी, लेकिन अभी तक डॉ. जादौन द्वारा एक भी मांग पूरी नहीं की गई।

पूरे अस्पताल में सिर्फ एक ही पंखा
अस्पताल की अव्यवस्थाएं नहीं थम रहीं, पूरे अस्पताल में सिर्फ एक ही पंखा लगा हुआ है। अस्पताल में जहां प्रसूताओं को भर्ती करने की व्यवस्था की गई है, वहां कूलर तो दूर की बात है एक पंखा भी नहीं है, अगर ऐसे मे किसी प्रसूता को वार्ड में भर्ती भी किया जाता है, तो उसे गर्मी का सामना करना पड़ेगा।

नहीं मिला जनरेटर
लधेड़ी क्षेत्र में आए दिन बिजली की समस्या रहती है, जिसके चलते प्रसव सुविधा शुरू करने से पहले मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. जादौन ने प्रसूती गृह को एक जनरेटर उपलब्ध कराने की बात कही थी। लेकिन आज दिन तक जनरेटर उपलब्ध नहीं कराया गया।

25 दिनों से खराब पड़ी एक्स-रे मशीन
अस्पताल में लगभग विगत 25 दिनों पहले एक्स-रे मशीन खराब हो गई थी, जिसके ठीक कराने के लिए अस्पताल के चिकित्सकों द्वारा सिविल सर्जन डॉ. डी.डी. शर्मा को पत्र लिखा गया था। लेकिन उसके बाद भी एक्सरे मशीन ठीक नहीं हो सकी और मरीजों को सिविल अस्पताल व जिला अस्पताल में एक्स-रे कराने के लिए जाना पड़ रहा है।

एम्बुलेंस की नहीं है कोई व्यवस्था
अस्पताल में अगर किसी प्रसूता को भर्ती कर प्रसव कराया जाता है और प्रसव के दौरान प्रसूता या नवजात शिशु की स्थिति बिगड़ती है तो अस्पताल में ऐसी कोई व्यवस्था नहीं है। जिससे महिला को किसी अन्य अस्पताल में रैफर किया जा सके। जबकि अस्पताल में प्रसव सुविधा शुरू करने से पहले अस्पताल के चिकित्सक अधिकारी ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी से एक एम्बूलेंस की मांग की थी।

Updated : 2017-03-03T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top