Top
Home > Archived > साले की गला रेतकर नृशंस हत्या, ससुर द्वारा साले को जमीन देने से खफा था बहनोई

साले की गला रेतकर नृशंस हत्या, ससुर द्वारा साले को जमीन देने से खफा था बहनोई

साले की गला रेतकर नृशंस हत्या, ससुर द्वारा साले को जमीन देने से खफा था बहनोई
X

ग्वालियर| गोद लिए बेटे को जमीन देना उसकी जान के लिए दुश्मन बन गया। जमीन देने से खफा जीजा ने साले की गला रेतकर बेरहमी से हत्या कर दी और फरार हो गया। मृतक के पेट और छाती में भी धारदार हथियार के गहरे घाव हैं। जीजा के अलावा हत्या में उसका भाई, पिता और अन्य लोगों के शामिल होने का आरोप मृतक के पिता ने लगाए हैं। हत्या की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई और घटना स्थल का मुआयना करने के बाद आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

ग्राम शुक्लपुरा, थाना गोरमी, जिला भिण्ड के रहने वाले तहसील खान माध्यमिक विद्यालय खड़ीत में शिक्षक हैं। उन्होंने अपने बड़े भाई काले खां के बेटे इरफान उम्र 24 वर्ष को गोद लिया था। शिक्षक तहसील खान ने इरफान और दामाद दिलदार खां को गोला का मंदिर थाना क्षेत्र स्थित नारायण बिहार कॉलोनी गल्ला मंडी के पास अलग-अलग प्लाट खरीद कर दिए थे। इरफान को प्लाट दिलाने से उसका जीजा दिलदार खां काफी खफा था। इरफान खां इस समय अपने प्लाट पर मकान बनाने के लिए नींव भरवा रहा था। उसने अपने जीजा दिलदार खां को भी अपने पास काम में हाथ बंटाने के लिए बुला लिया था। इरफान को जमीन और प्लाट दिलाने से आक्रोशित दिलदार खां ने शुक्रवार को इरफान की हत्या करने का ताना-बाना तैयार कर लिया था। रात को दिलदार खां पर शैतान हावी हो गया और उसने साले इरफान पर धारदार हथियार से ताबड़तोड़ वार कर उसकी हत्या कर दी। इरफान को दिलदार खां ने इतनी बेरहमी से मौत के घाट उतारा कि उसका गला बुरी तरह रेत दिया, जिससे गर्दन लटक गई। इरफान के पेट और छाती में भी गहरे घाव हैं।

बताया गया है कि बीती रात इरफान के कमरे पर दिलदार के अलावा तीन चार अन्य लोग भी थे। इरफान को गोद लेने वाले तहसील खां ने दिलदार के अलावा उसके भाई साबिर, पिता बसारत और दोस्त वीरेन्द्र काछी पर मिलकर हत्या करने का आरोप लगाया है। हत्या की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई। पुलिस ने घटना स्थल का बारीकी से मुआयना कर शव को विच्छेदन गृह भेजकर हत्या का मामला दर्ज कर लिया है।

जब रामकुमार गया तब चला हत्या का पता
इरफान के प्लाट के बगल में रामकुमार तोमर के प्लाट पर भी काम चल रहा है। जब सुबह दस बजे तक इरफान अपने प्लाट पर नही पहुंचा तो रामकुमार उसे बुलाने के लिए उसके कमरे पर पहुंचा। कमरे के दरवाजे लगे हुए थे। खिड़की से रामकुमार ने अंदर झांककर देखा तो नजारा देखकर दंग रह गया। कमरे में खून से लथपथ इरफान का शव पड़ा हुआ था। रामकुमार ने पड़ोसियों को हत्या के बारे में बताया और उसके पिता तहसील खां को सूचना दी।

बचपन से ही पाला था इरफान को
इरफान के पिता काले खां मंदबुद्धि हैं और छोटे भाई तहसील खां के एक बेटी होने के कारण उन्होंने इरफान को गोद ले लिया था। बचपन से ही उसे पढ़ाया था। इरफान ने 12वीं की परीक्षा अच्छे अंकों से पास की थी। इरफान को काम के लिए ग्वालियर में प्लाट दिलवाया था, लेकिन होनी को और कुछ ही मंजूर था और उसकी जमीन के फेर में बेरहमी से हत्या कर दी गई।

ससुर को मारने का भी कर चुका है प्रयास
तहसील खां का कहना है कि दिलदार मेरी भी हत्या करना चाहता था। दो माह पहले ही दिलदार और बेटी जुनेवा के साथ मैं मोटरसाइकिल से आ रहा था। भिण्ड में ही दिलदार ने जान बूझकर ट्रक के नीचे गाड़ी गिराकर कुचल दिया होता। तहसील खां ने पुलिस को बताया के ट्रक चालक की मेहरवानी से मेरी जान बच पाई नहीं तो उसने तो मार ही दिया होता। दिलदार मुझे और इरफान को मारने की धमकी पहले ही दे चुका था, लेकिन इरफान फिर भी नहीं संभला और उसकी सजा मौत के रूप में मिली।

विश्वास में मिला धोखा
इरफान के पिता तहसील खां ने बताया कि दिलदार खां आपराधिक प्रवृत्ति का है। उससे मैंने दिलदार से दूर रहने की बात कई बार कही थी, लेकिन वह उस पर विश्वास करता था। पांच-छह दिन पहले उसको इरफान ने ही फोन करके बुलाया था। इरफान को नहीं मालूम था कि जिसे वह अपना जीजा मानता है, वह उसकी जान का दुश्मन है।

हत्या कर बाल्टी में धोए हाथ
इरफान की हत्या करने के बाद आरोपियों ने खून से सने हाथ कमरे में पानी से भरी रखी बाल्टी में धोए हैं। बाल्टी का पानी खून से हल्का लाल हो रहा था। पुलिस को कमरे की तलाशी के दौरान वो हथियार भी नहीं मिला है, जिससे हत्या की गई है।

किराए पर लिया था मकान
इरफान ने अपने प्लाट से चंद कदम की दूरी पर ही स्थित हवलदार नरवरिया के मकान को किराए पर लिया था। जब इरफान की पत्नी गांव चली गई थी। इरफान का मासूम बेटा भी है। हवलदार की पत्नी निशा से पुलिस ने दिलदार के बारे में पूछताछ की है।

तहसीदार ने किया था होशियार
बीती शाम को इरफान ने तहसील खां को फोन किया था कि कमरे पर दिलदार के मिलने वाले आए हैं। तहसील खां ने बेटे इरफान से शंका होने पर कहा था कि किसी परिचित के यहां पर चला जा। दिलदार का विश्वास नहीं करना, वो हत्या कर सकता है, लेकिन इरफान ने बात को अनसुना कर दिया और रात को बंद कमरे में उसकी बेरहमी से हत्या कर दी।

Updated : 2017-02-19T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top