Home > Archived > ई-वे बिल के लिए नहीं पड़ेगी कंप्यूटर व लैपटॉप की जरूरत

ई-वे बिल के लिए नहीं पड़ेगी कंप्यूटर व लैपटॉप की जरूरत

ई-वे बिल के लिए नहीं पड़ेगी कंप्यूटर व लैपटॉप की जरूरत
X

भोपाल। किसी भी व्यापारी को सिस्टम पर ई-वे बिल जनरेट करने में लगभग एक मिनट लगेगा, वहीं अनरजिस्टर्ड डीलर को इस प्रक्रिया में डेढ़ से दो मिनट लगेंगे। इसके लिए कंप्यूटर व लैपटॉप की जरूरत नहीं हैं एक एंड्रायड फोन से भी ईवे बिल जनरेट हो जाएगा। जल्द ही इसमें एक नई फैसिलिटी जोड़ी जा रही है जिसमें एक 700 रुपए के सामान्य मोबाइल से एसएमएस भेजने पर भी ई वे बिल जनरेट हो जाएगा।

वाणिज्यकर विभाग के राज्य कर उपायुक्त नरेंद्र सिंह चौहान ने बताया कि व्यापारी इसे मोबाइल एप, कियोस्क से भी जनरेट कर सकेंगे। यदि वह मोबाइल नंबर पर एसएमएस के रूप में ई-वे बिल लेना चाहता है तो वह विकल्प भी सर्वर पर मौजूद रहेगा। उल्लेखनीय है कि 50 हजार से अधिक कीमत की वस्तुओं के परिवहन के लिए ई-वे बिल अनिवार्य होने जा रहा है। व्यापारियों के लिए तो यह जरूरी है ही साथ ही 10 किलोमीटर से दूर किसी भी सामान के परिवहन पर यह बिल आम ग्राहक को भी लेना होगा। इस अवसर पर विभाग द्वारा ट्रांसपोर्टर की समस्याओं का समाधान भी अधिकारियों द्वारा किया गया। श्री चौहान ने बताया कि डीलर को ई-वे बिल जनरेट करने के लिए सिस्टम पर जाना होगा और पहली बार उपयोग करने पर अपना जीएसटीएन व पासवर्ड डालना होगा इससे यूजर नेम व पासवर्ड जनरेट होगा। जिससे वह जिसे माल बेच रहा है, उसकी व खुद की जानकारी डालेगा, पार्ट बी या तो खुद अथवा ट्रांसपोर्टर द्वारा माल परिवहन के समय ई-वे बिल जनरेट करेगा। उन्हें सिस्टम पर जाकर पैन नंबर व आधार कार्ड नंबर डालना होगा जिससे यूजर नेम व पासवर्ड जनरेट होगा।

जिसका ओटीपी मोबाइल पर आएगा इसको सिस्टम पर सत्यापित करने के बाद वह यूजर नेम व पासवर्ड का उपयोग कर सकेगा। ये प्रक्रिया एक बार ही करना होगी।

Updated : 2017-12-23T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top