Top
Home > Archived > हैरीटेज क्लस्टर पर विशेष ध्यान दिया जाए : कलेक्टर

हैरीटेज क्लस्टर पर विशेष ध्यान दिया जाए : कलेक्टर

हैरीटेज क्लस्टर पर विशेष ध्यान दिया जाए : कलेक्टर
X

ग्वालियर। स्मार्ट सिटी के तहत ग्वालियर के महाराज बाड़ा क्षेत्र के हैरीटेज क्लस्टर के विकास के साथ ही अन्य कार्यों को अमलीजामा पहनाने के उद्देश्य से कलेक्टर राहुल जैन ने शनिवार को पुलिस अधीक्षक डॉ. आशीष, नगर निगम आयुक्त विनोद शर्मा, मुख्य कार्यपालन अधिकारी स्मार्ट सिटी बिदिशा मुखर्जी सहित विभागीय अधिकारियों के साथ विस्तृत निरीक्षण किया और अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए।

कलेक्टर ने निरीक्षण के दौरान निर्देश दिये हैं कि महाराज बाड़े पर स्थित हैरीटेज महत्व की सभी इमारतों पर फसाहट लाईट का कार्य संबंधित विभाग सीएसआर मद से कराए। स्मार्ट सिटी के तहत फसाहट लाईट का स्थायी कार्य कराने हेतु विस्तृत कार्ययोजना तैयार की जा रही है। उन्होंने यह भी निर्देशित किया कि बाडा क्षेत्र में स्थित सभी भवनों और व्यापारिक प्रतिष्ठानों को एकरूपता दी जाए। इस कार्य में हैरीटेज महत्व का विशेष ध्यान दिया जाए। महाराज बाड़ा क्षेत्र के विकास के लिये बाड़ा विकास समिति का गठन भी किया जाए। इस समिति में विभागीय अधिकारियों, जनप्रतिनिधियों के साथ ही व्यापारिक संगठनों के पदाधिकारियों को भी रखा जाए।

उन्होंने नगर निगम आयुक्त विनोद शर्मा को निर्देशित किया कि निगम द्वारा विकसित किए गए टाउन हॉल में विद्युत कनेक्शन दिया जाकर उसे तत्काल प्रारंभ करने की कार्रवाई की जाए। टाउन हॉल में विभिन्न कार्यक्रम प्रारंभ हों, यह भी सुनिश्चित किया जाए। नगर निगम के जन्म-मृत्यु प्रमाण-पत्र कार्यालय में पर्यटन इन्फोरमेशन सेंटर बनाया जाए। इसमें बाहर से आने वाले पर्यटकों को ग्वालियर के पर्यटन स्थलों के साथ ही अन्य महत्वपूर्ण जानकारियाँ भी उपलब्ध होंगी। कलेक्टर ने निरीक्षण के दौरान गोरखी स्कूल, गजराराजा स्कूल, महारानी लक्ष्मीबाई स्कूल, महाराज बाड़ा स्कूल, स्काउट एण्ड गाइड कार्यालय, गवर्नमेंट प्रेस, सेंट्रल लाइब्रेरी आदि कार्यालयों का भी निरीक्षण किया। उन्होंने निरीक्षण के दौरान निर्देशित किया कि महाराज बाड़ा क्षेत्र में स्थित शासकीय भवनों का बेहतर उपयोग सुनिश्चित किया जाए। इसके साथ ही इन भवनों से लगी हुई जमीन का स्मार्ट सिटी के तहत बेहतर उपयोग के लिये विस्तृत कार्ययोजना तैयार की जाए।

कलेक्टर ने पुलिस अधीक्षक डॉ. आशीष एवं नगर निगम आयुक्त विनोद शर्मा से बाड़ा क्षेत्र में यातायात प्रबंधन और पार्किंग के संबंध में विस्तार से चर्चा की। उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में व्यवस्थित पार्किंग और बेहतर यातायात के लिये एक विस्तृत प्लान तैयार किया जाए। यातायात प्लान के तहत बाड़े के चारों ओर से आने वाले वाहनों के लिये वैकल्पिक मार्गों पर भी विचार किया जाए। इसके साथ ही महाराज बाडा क्षेत्र के आसपास पार्किंग स्पेस को भी चिन्हित कर विकसित करने पर विस्तार से अध्ययन कर कार्ययोजना तैयार की जाए।

पुलिस अधीक्षक डॉ. आशीष ने निरीक्षण के दौरान कहा कि महाराज बाड़े पर यातायात प्रबंधन के लिये बेहतर पार्किंग व्यवस्था जरूरी है। इसके साथ ही बाडा क्षेत्र को नो व्हीकल जोन करने से पूर्व वैकल्पिक मार्गों को व्यवस्थित करना आवश्यक है। महाराज बाड़ा क्षेत्र में स्थायी एवं अस्थायी अतिक्रमण को भी हटाया जाना आवश्यक है। बेहतर यातायात प्रबंधन के लिये विस्तृत कार्ययोजना तैयार की जाएगी। इस कार्ययोजना के क्रियान्वयन के बाद भी बाड़े पर पार्किंग और बेहतर यातायात प्रबंधन होगा।

नगर निगम आयुक्त विनोद शर्मा ने निरीक्षण के दौरान कलेक्टर को बताया कि महाराज बाड़ा क्षेत्र में शासकीय भवनों के पास खुली अतिरिक्त भूमि उपलब्ध है। इन भूमियों का बेहतर उपयोग किया जाकर महाराज बाड़े को स्मार्ट सिटी के तहत लिए गए प्रोजेक्टों में कार्य किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि महाराज बाड़े के आसपास बेहतर पार्किंग व्यवस्थायें विकसित की जाना जरूरी है। इसके साथ ही स्काउट गाइड कार्यालय के पीछे से वैकल्पिक मार्ग को व्यवस्थित किया जाकर यातायात प्रबंधन किया जा सकता है।

उन्होंने कहा कि महाराज बाड़े पर स्थित उद्यान को और व्यवस्थित किया जाकर लोगों के लिये सुविधाजनक बनाया जा सकता है। पार्क के चारों ओर वॉकिंग ट्रैक, बेहतर लाईट और हरियाली के माध्यम से आकर्षण का केन्द्र बिंदु बनाया जा सकता है। इसी प्रकार नगर निगम मुख्यालय के पुराने भवन को म्यूजियम के साथ ही कैफेटेरिया के रूप में उपयोग किया जा सकता है। बाड़ा क्षेत्र में स्मार्ट सिटी के तहत किए जाने वाले कार्यों में सभी का सहयोग हो, इसके लिये बाड़ा विकास समिति गठित की जाए। इस समिति में प्रशासनिक अधिकारी, पुलिस अधिकारी, स्मार्ट सिटी के प्रतिनिधि सहित जनप्रतिनिधि और व्यापारिक मण्डलों के प्रतिनिधियों को रखा जाए। यह समिति समय-समय पर बाड़े के विकास पर चर्चा कर अपने आवश्यक सुझाव दे। इन सुझावों के आधार पर बाड़े का विकास किया जाए।

इन स्थानों का किया निरीक्षण

कलेक्टर राहुल जैन ने स्मार्ट सिटी के कार्यों को गति देने के लिये शनिवार को जिन स्थानों का निरीक्षण किया, उनमें स्काउट एण्ड गाइड कार्यालय, गोरखी स्कूल, गजराराजा स्कूल, महारानी लक्ष्मीबाई स्कूल, महाराज बाड़ा स्कूल परिसर, टाउन हॉल, सेंट्रल लाइब्रेरी, पार्क होटल, लोक निर्माण विभाग और यातायात विभाग शामिल हैं।

स्वर्ण रेखा का निरीक्षण

कलेक्टर ने भ्रमण के दौरान लक्ष्मीगंज कमानी वाला पुल स्वर्ण रेखा नाले का भी निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने विभागीय अधिकारियों से स्वर्ण रेखा में सीवेज सिस्टम के संबंध में विस्तार से चर्चा की। उन्होंने कहा कि स्मार्ट सिटी और अमृत परियोजना के तहत स्वर्ण रेखा में विभिन्न कार्य किए जाना है। दोनों ही परियोजनाओं के तहत क्या-क्या कार्य किए जाने हैं और उनका विस्तृत प्लान क्या है, इसकी जानकारी के साथ 10 नवम्बर को कलेक्ट्रेट में आयोजित बैठक में समीक्षा की जायेगी। दोनों ही विभाग के अधिकारी स्वर्ण रेखा में किए जाने वाले कार्यों के प्लान के साथ ही अब तक की गई कार्रवाई की जानकारी का प्रजेण्टेशन प्रस्तुत करें। उन्होंने कहा कि दोनों विभाग आपसी समन्वय से स्वर्ण रेखा में कार्य करें, यह सुनिश्चित किया जाए।

कंट्रोल कमाण्ड सेंटर के लिये स्थल निरीक्षण
कलेक्टर ने स्मार्ट सिटी के तहत स्थापित किए जाने वाले कंट्रोल कमाण्ड सेंटर के लिये पड़ाव पर स्थित लोक निर्माण विभाग एवं यातायात विभाग के कार्यालयों का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने कहा कि स्मार्ट सिटी के तहत कंट्रोल कमाण्ड सेंटर स्थापित किया जाना है। यातयात विभाग और लोक निर्माण विभाग अपने-अपने कार्यालय शिफ्ट करने की कार्रवाई यथाशीघ्र करें। उन्होंने कहा कि परिवहन कार्यालय का नया भवन तैयार हो गया है। नए भवन में कार्यालय शिफ्ट किया जाए। इसके साथ ही लोक निर्माण विभाग का कार्यालय विभाग के ही ओल्ड रेस्टहाउस में शिफ्ट करने की कार्रवाई की जाए। इसके साथ ही एफसीआई विभाग के गोदाम को भी तत्काल शिफ्ट करने की कार्रवाई करने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए गए। उन्होंने मुख्य कार्यपालन अधिकारी स्मार्ट सिटी को निर्देशित किया कि कंट्रोल कमाण्ड सेंटर का कार्य तत्काल प्रारंभ किया जाए।

Updated : 2017-11-05T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top